आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस रिसर्च एंड इनोवेशन हब 'एटफोल्ड नालंदा' का उद्घाटन

शब्दवाणी समाचार वीरवार 25 जुलाई 2019 नई दिल्ली। मज़बूत विकास के मद्देनज़र टैलेंट इंटेलिजेंस प्लेटफॉर्म Eightfold.ai ने आज आधुनिक आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस क्षेत्र में अपने ग्लोबल सेंटर ऑफ एक्सिलेंस, रिसर्च एंड इनोवेशन 'एटफोल्ड नालंदा' की शुरुआत करने की घोषणा की। गूगल एवं फेसबुक में मशीन लर्निंग एक्सपर्ट रह चुके एवं आईआईटी के पूर्व छात्र डॉ. आशुतोष गर्ग और वरुण कचोलिया द्वारा शुरु किये गये Eightfold.ai ने पहले से ही दुनिया भर के 20 देशों में 100 से अधिक ग्राहक बना लिये हैं।



Eightfold.ai ने हाल ही में सीरीज़ सी राउंड के तहत 28 मिलियन अमेरिकी डॉलर का निवेश हासिल किया है। इसके बाद यह सिलिकॉन वैली की सबसे अच्छी पूंजीबद्ध कंपनियों में से एक बन चुकी है, जिसके पास विभिन्न प्रोडक्ट्स का बढ़ता पोर्टफोलियो एवं दुनिया भर में लगातार बढ़ती टीम है। यह कंपनी तेज़ी से अपना विस्तार कर रही है। भारत में Eightfold.ai के ग्राहकों में टाटा कम्युनिकेशंस लिमिटेड और डेल्हीवरी का समावेश है।
डॉ. आशुतोष गर्ग, को-फाउंडर एवं सीईओ, Eightfold.ai ने कहा, "भारत में पले बढ़े होने के नाते मेरे लिये यह ज़रूरी है कि AI प्लेटफॉर्म के फायदे भारत के कर्मचारियों को भी मिल सकें। एटफोल्ड के टैलेंट इंटेलिजेंस प्लेटफॉर्म को संचालित करने वाले एल्गोरिदम सभी लोगों को अपने लिए सही काम ढूंढने और अपनी क्षमता को पहचानने में उनकी मदद करने के लिए बनाया गया है। इसके साथ ही हमारी विविधता को अपनाना भी आसान बन सकेगा।
कंपनी के को-फाउंडर डॉ. गर्ग और कचोलिया मशीन लर्निंग में अपने शीर्ष स्थान एवं अविष्कारों के लिए बेहद चर्चित हैं, जिनके नाम पर 86 पेटेंट दर्ज हैं। दोनों को-फाउंडर्स ने पिछले वर्ष Eightfold.ai में चार नए पेटेंट फाइल किये हैं।
भारत में कंपनी के विज़न के तहत Eightfold.ai ने अपने भारतीय हेडक्वार्टर और सेंटर ऑफ एक्सिलेंस को एटफोल्ड नालंदा का नाम दिया है। यह सेंटर ऑफ एक्सिलेंस संदीप गोयल के नेतृत्व में संचालित किया जाएगा, जो भारत में जनरल मैनेजर के पद पर कार्यरत होंगे।



Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

बिल्कुल देसी वीडियो कंटेंट प्लेटफार्म ट्रेलर ने 20 मिलियन नए यूज़र दर्ज किए

जिला हमीरपुर के मौदहा में प्रधानमंत्री आवास योजना में चली गांधी की आंधी