एमजी मोटर इंडिया ने शुरू किया लड़कियों की पढ़ाई में अपना योगदान

शब्दवाणी समाचार शनिवार 13 जुलाई 2019 नई दिल्ली। लैंगिक विविधता और सामुदायिक विकास के प्रति अपनी प्रतिबद्धता को रेखांकित करते हुए कार निर्माता एमजी (मॉरिस गैराज) मोटर इंडिया ने अपने पहले मॉडल- एमजी हेक्टर की बिक्री के साथ-साथ लड़कियों की शिक्षा के लिए अपना योगदान शुरू कर दिया है। कार निर्माता ने तय किया है कि प्रत्येक हेक्टर की बिक्री पर वह निश्चित राशि का योगदान देगा।



देशभर के दूरदराज के गांवों में अपने लर्निंग सेंटर्स के जरिये लड़कियों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान कर रहे गैर सरकारी संगठन इम्पैक्ट के साथ अपनी साझेदारी को और मजबूत करते हुए एमजी मोटर इंडिया ने तय किया है कि वह शुरुआत में 30 लर्निंग सेंटर्स को गोद लेगा और उनके संचालन में सहयोग करेगा। हर साल जैसे-जैसे बिक्री बढ़ेगी, वैसे-वैसे, सहयोग प्राप्त करने वाले लर्निंग सेंटर्स की संख्या भी बढ़ती जाएगी।
एमजी मोटर इंडिया के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक राजीव चाबा ने एनजीओ के साथ साझेदारी पर बात करते हुए कहा, “जिम्मेदार कॉर्पोरेट नागरिकों के रूप में एमजी और इम्पैक्ट भारत में लड़कियों को शिक्षित और सशक्त बनाकर हम महिलाओं, परिवारों और पूरे समुदायों के जीवन बदलने का दृष्टिकोण रखते हैं। हमारा लक्ष्य प्रत्येक एमजी वाहन की बिक्री से एक निश्चित धनराशि का योगदान इम्पैक्ट द्वारा संचालित शिक्षण केंद्रों को देना है ताकि लड़कियों के लिए एक बेहतर नींव तैयार हो सके और उन्हें बेहतर भविष्य का वादा मिल सके। यह पहल एमजी वाहनों के मालिकों को एक अच्छे सोशल कॉज में योगदान और समर्थन का अवसर देती है। इस पहल के तहत बेची जाने वाली हर हेक्टर पर प्रत्येक लड़की को एक महीने की मुफ्त शिक्षा प्राप्त करने की पात्र बनेगी।”
इम्पैक्ट की कार्यकारी निदेशक रेमा हरीश ने इस पहल पर टिप्पणी करते हुए कहा, “हम एमजी के साथ एक कॉमन विजन साझा करते हैं, जो लैंगिक विविधता को अपने संगठन के भीतर मुख्य सिद्धांत बनाने पर केंद्रित है। हमारा उद्देश्य लड़कियों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करना है, विशेषकर बुनियादी सामाजिक सेवाओं और आर्थिक विकास में पिछड़ने वाले क्षेत्रों में। क्षेत्रीय असमानताएं ऐतिहासिक सामाजिक असमानताओं के साथ मिल जाती है, खासकर जब बात लड़कियों की बेहतरी की आती है। हमारा कार्यक्रम शिक्षा के माध्यम से सामाजिक परिवर्तन लाना चाहता है। हम इस साझेदारी के लिए आभारी हैं जो इन विशिष्ट क्षेत्रों से जुड़े मुद्दों को सुलझाने में मदद करेगी।
2018 में लैंगिक विविधता को सामने लाने के अपने प्रयासों के तौर पर कार निर्माता ने “एमजी चेंजमेकर्स” पहल के तहत 'द बेटर इंडिया' के साथ मिलकर काम किया था और देशभर में विभिन्न समुदायों में बदलाव के लिए प्रेरित करने वाली 6 महिला ट्रेलब्लेज़र को सम्मानित किया था। इसका उद्देश्य महिलाओं की असाधारण भावना और उनके बेमिसाल साहस और दृढ़ संकल्प को सामने लाना था, जिसने समाज में सकारात्मक बदलाव लाने में मदद की है। सड़क सुरक्षा के लिए पहल के तौर पर कार निर्माता ने 'सड़क सुरक्षा और जूनियर्स कार्यक्रम' शुरू करने के लिए ट्राक्स एनजीओ से भी हाथ मिलाया। नवंबर 2018 में लॉन्च होने के बाद से, गुरुग्राम और फरीदाबाद में 257 स्कूलों में यह कार्यक्रम लागू किया जा चुका है। इसके जरिये गुरुग्राम और फरीदाबाद में अब तक 3,00,000 से अधिक स्कूली छात्रों तक सड़क सुरक्षा के महत्व को समझाया गया है।
एमजी मोटर इंडिया भविष्य के लिए तैयार संगठन है जो न केवल युवा और स्मार्ट कार्य संस्कृति के मामले में, बल्कि विविधता के संदर्भ में भी उद्योग में बेंचमार्क स्थापित करने की कोशिश कर रहा है; कंपनी के कुल कर्मचारियों में 32 प्रतिशत महिला कर्मचारी हैं, भविष्य में महिलाओं की संख्या और बढ़ाने की योजना है। इनोवेशन, डायवर्सिटी, एक्सपीरियंस और कम्युनिटी (नवाचार, विविधता, अनुभव और समुदाय) के चार प्रमुख संगठनात्मक स्तंभों पर ध्यान देते हुए कार निर्माता अपने भविष्य के संचालन के लिए एक मजबूत आधार बना रहा है।



Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

बिल्कुल देसी वीडियो कंटेंट प्लेटफार्म ट्रेलर ने 20 मिलियन नए यूज़र दर्ज किए

जिला हमीरपुर के मौदहा में प्रधानमंत्री आवास योजना में चली गांधी की आंधी