कैट ने ई सिगरेट पर नियम बनने के लिए हर्षवर्धन को ज्ञापन भेजा

शब्दवाणी समाचार बुधवार 17 जुलाई 2019 नई दिल्ली। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन को भेजे गए एक ज्ञापन में कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट ) ने इलेक्ट्रॉनिक निकोटीन डिलीवरी सिस्टम यानी ई-सिगरेट के लिए उपयुक्त नियम बनाने के लिए एक विशेषज्ञ समिति के गठन का सुझाव दिया है जो इस पर व्यापक अध्यन कर नियम एवं कानून बनाने की सिफारिश सरकार को करे ! कैट ने डॉ हर्षवर्धन से यह भी आग्रह किया है की धूम्रपान करने वालों की आयु सीमा 18 वर्ष से बढ़ाकर 25 वर्ष की जाए !



डॉ हर्षवर्धन को भेजे अपने ज्ञापन में कैट ने कहा कि पिछले दशकों में सरकार ने कई तंबाकू नियंत्रण उपायों की शुरुआत की है, हालांकि, सभी प्रयासों के बावजूद, जिस दर पर धूम्रपान का प्रचलन बढ़ रहा है वह अत्यन विचारणीय है ! दिल्ली में धूम्रपान का प्रचलन 11.3% है, जो भारतीय औसत 10.7% से अधिक है। तम्बाकू एवं धूम्रपान दुनिया में रोग और मृत्यु में सबसे बड़ा कारण है और प्रत्येक वर्ष, तम्बाकू के कारण 1.3 मिलियन से अधिक भारतीय मर जाते हैं।
कैट ने कहा कि ई-सिगरेट जैसे और भी अन्य कम नुकसान के विकल्प सिगरेट के उपयोग को देश में कम कर सकते हैं ! सिगरेट का धुआं धूम्रपान करने वालों को 400 से अधिक विषाक्त पदार्थों और 69 ज्ञात कार्सिनोजेन्स पैदा करता हैं वहीँ ई-सिगरेट, जो एक इलेक्ट्रॉनिक विकल्प हैं, इन विषाक्त पदार्थों और कैंसर पैदा करने वाले रसायनों का उत्सर्जन किए बिना उपयोगकर्ताओं को निकोटीन की समान मात्रा प्रदान करता है। अनेक देशों में रिसेर्च में यह बात सामने आयी है की ई सिगरेट वैश्विक स्तर पर 95 प्रतिशत कम हानिकारक हैं, इन उत्पादों का उपयोग यूके, कनाडा, न्यूजीलैंड, आदि जैसे विभिन्न देशों के तंबाकू नियंत्रण उपायों को मजबूत करने के लिए किया जा रहा है। ।इसलिए तम्बाकू नियंत्रण हेतु भारत में भी इस पर एक स्टडी कराई जाने की जरूरत है ! कैट का मानना है कि ई सिगरेट कम हानिकारक विकल्प है इसलिए इस पर सरकार को ध्यान देकर इस तथ्य की जाँच करने चाहिए दूसरी ओर यदि सरकार इन उत्पादों पर कोई भी प्रतिबंध लगाती है तो वो काला बाज़ारी के माध्यम से अवैध व्यापार को बढ़ावा देगा और असुरक्षित एवं नकली उत्पादों को बढ़ावा देगा जो उपभोक्ताओं के स्वास्थ्य के लिए खतरा होगा। व्यापार राजस्व के नुकसान के अलावा, सरकार के लिए इन अवैध उत्पादों की युवा पहुंच को प्रतिबंधित करना भी मुश्किल होगा।
इसलिए कैट ने डॉ. हर्षवर्धन से ई-सिगरेट के सभी पहलुओं की समीक्षा करने का आग्रह किया है, जिसमें मौजूदा वैश्विक विनियमन, प्रचलन सिगरेट की तुलना में ई सिगरेट का कम हानिकारक होना आदि शामिल होना चाहिए
एक विशेषज्ञ समिति के गठन की वकालत करते हुए कैट ने कहा कि उसे नियामक मॉडल प्राप्त करने के लिए ई सिगरेट सहित सभी अन्य विकल्पों आदि पर सभी संबंधित हितधारकों के विचारों को आमंत्रित करना चाहिए जिससे तम्बाकू बिक्री के हानि -लाभों को संतुलित किया जा सके ।



Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

बिल्कुल देसी वीडियो कंटेंट प्लेटफार्म ट्रेलर ने 20 मिलियन नए यूज़र दर्ज किए

जिला हमीरपुर के मौदहा में प्रधानमंत्री आवास योजना में चली गांधी की आंधी