स्किल इंडिया’ और हेल्थकेयर सेक्टर ने रोज़गार बढ़ाने के लिए युथ को तैयार कर रहा स्किल काउंसिल

शब्दवाणी समाचार मंगलवार 16 जुलाई 2019 नई दिल्ली। पश्चिम क्षेत्र में कौशलता और रोज़गार को बढ़ावा देने के लिए हेल्थकेयर सेक्टर स्किल काउंसिल (एचएसएससी) ने सीआईआई के साथ मिलकर एक सम्मेलन का आयोजन किया।इस सम्मेलन का विशेष उद्देशय कौशल में कमी को पहचानना, कमी को पूरा करने के लिए सही सुझाव देना और इंडस्ट्री की उम्मीद के अनुसार कौशल को बढ़ावा देना है, जिससे क्षेत्र के हेल्थकेयर सेक्टर में युवाओं के लिए रोज़गार बढ़ाया जा सके।



एचएसएससी ने एचएसएससी पश्चिमी क्षेत्र कमिटी की पहली मीटिंग हिंदुजा अस्पताल में कराई मीटिंग में क्षेत्र के कमिटी सदस्य उपस्थित रहे महाराष्ट्र के मेडिकल एजूकेशन और ड्रग्स विभाग के सचिव, डॉक्टर संजय मुखर्जी ने चीफ गेस्ट के तौर पर सम्मलेन में हेल्थकेयर सेक्टर में प्रशिक्षित उम्मीदवारों की जरूरत पर बात की।उन्होंने एचएसएससी की इस पहल को दिल से सराहा और कहा कि स्थानीय स्टेकहोल्डर्स की भागीदारी से प्रदेश के हेल्थकेयर सेक्टर में रोज़गार को बढ़ावा देने के लिए सरकार द्वारा किए जा रहे प्रयासों को अच्छे से पूरा किया जा सकेगा।
एचएसएससी की अध्यक्षा, डॉक्टर शबनम सिंह ने बताया कि, '' एचएसएससी हेल्थकेयर सेक्टर में युवाओं को रोज़गार प्रदान करने पर ज़ोर दे रहा है। विशेषज्ञों के अनुभव और दृष्टिकोण का लाभ उठाकर हम हेल्थकेयर में मानव संसाधन की बदल रही भूमिकाओं पर विचारों और दृष्टिकोण के आदान प्रदान का उद्देश्य रखते हैं।”
एचएसएससी के सीईओ, श्री आशीष जैन ने स्किल इंडिया, शिक्षा, रिकॉगनिशन ऑफ प्रायर लर्निंग पूर्व शिक्षण की मान्यता और हेल्थकेयर में कौशल के विकास की गतिविधियों के बारे में जानकारी साझा की। उन्होंने इस बात पर ज़ोर दिया कि स्किल इंडिया का ध्यान 'हैंड्स ऑन स्किल' प्रदान करने और देश के युवाओं को इस तरह ट्रेनिंग देना है कि वो लाभकारी रोज़गार सुनिश्चित करने के उद्देश्य को पूरा करने में मदद कर सकें।
एचएसएससी के पश्चिम क्षेत्र के अध्यक्ष , श्री जॉय चक्रवर्ती ने बताया कि, “यह ज़रूरी है कि इंडस्ट्री, ट्रेनिंग प्रोवाइडर , शिक्षाविदों सहित सभी स्टेकहोल्डर मार्केट के गतिशील पहलुओं को समझे और रोज़गार में सुधार के लिए सहयोग करें।”
पीडी हिंदुजा, बॉम्बे अस्पताल , जुपिटर अस्पताल , टाटा स्ट्राइव, टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ़ सोशल साइंस, कोकिला बेन धीरूभाई अंबानी अस्पताल, बॉम्बे नर्सिंग होम एसोसिएशन, एसोसिएशन ऑफ अस्पताल आदि जैसे विभिन्न हेल्थकेयर इंस्टीट्यूट से प्रख्यात प्रवक्ताओं ने इस समारोह में भाग लिया।
कार्यक्रम के मुख्य आकर्षण में पैनल का विचार विमर्श शामिल रहा जिसमें उन्होंने इस बात पर ज़ोर दिया कि हेल्थ केयर सेक्टर के सभी स्टेकहोल्डर एक दूसरे के साथ मिलकर उप्लब्ध स्वास्थ्य सेवाओं में कैसे बदलाव ला सकते हैं और यह समझने की कोशिश की कि ट्रेनिंग संस्थानों और अस्पतालों को स्किल ट्रेनिंग प्रदान करने में किन किन चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। पैनल ने इंडस्ट्री की बदलती मांग के अनुसार ट्रेनिंग में आ रही कमी को लेकर बात की और इससे संबंधित एम्प्लॉयर की उम्मीदों को लेकर चर्चा की। विशेषज्ञों ने उन आवश्यक विषयों पर भी ज़ोर दिया जिन्हें भविष्य में छात्रों को सिखाने के उद्देश्यों में शामिल करने की आवश्यकता है। इस सम्मेलन में एल आइ एच एस, सैफी अस्पताल , मेरिल, विप्रो जी ई, नानावटी अस्पताल , सबअर्बन कॉलेज ऑफ पैरामेडिकल एजुकेशन, पोर्टिया हेल्थ, ब्रीच कैंडी अस्पताल आदि विभिन्न संगठन के प्रतिभागियों ने भाग लिया।



Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

बिल्कुल देसी वीडियो कंटेंट प्लेटफार्म ट्रेलर ने 20 मिलियन नए यूज़र दर्ज किए

जिला हमीरपुर के मौदहा में प्रधानमंत्री आवास योजना में चली गांधी की आंधी