डीयू-जेएटी 2019 में एआईआर 2 और एआईआर 3 के साथ दिल्ली के छात्र टॉप पर

शब्दवाणी समाचार शनिवार 19 अक्टूबर 2019 नई दिल्ली। दिल्ली विश्वविद्यालय की संयुक्त प्रवेश परीक्षा (डीयू-जेएटी) में दिल्ली के हरिवंश गहलोत ने ऑल इंडिया रैंक 2 और ईशान मित्तल ने एआईआर 3 हासिल किया है। दिल्ली विश्वविद्यालय में अंडरग्रेजुएट मैनेजमेंट प्रोग्रामों में एडमीशन के लिए देश भर से लगभग 30,000 छात्र कंप्यूटर आधारित प्रवेश परीक्षा के लिए उपस्थित हुए थे। डीयू-जेएटी दिल्ली विश्वविद्यालय की सबसे अधिक डिमांड में रहने वाली प्रवेश परीक्षा है जो बीएमएस ध् बीएफआईए ध् बीबीए जैसे प्रबंधन कार्यक्रमों के लिए प्रतिवर्ष 18 शहरों के छह निर्धारित कॉलेजों में आयोजित की जाती है, जो डीयू से अफिलिएटेड संस्थानों में बैचलर ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज (बीएमएस) और आठ अन्य कॉलेज में बिजनेस इकोनॉमिक्स में बी.ए. (ऑनर्स) और बीबीए (एफआईए) जैसे कोर्स प्रदान करती है।



टेस्ट के लिए उपस्थित होने वाले कुल छात्रों में से, प्रथम टेस्ट में सेकेंड इयर के छात्र हरिवंश गहलोत ने बीएमएस में एआईआर 2 हासिल किया, जिसके कारण आज उसे प्रतिष्ठित संस्थान शहीद सुखदेव कॉलेज ऑफ बिजनेस स्टडीज (दिल्ली विश्वविद्यालय) में प्रवेश मिल सका।
एआईआर 2, हरिवंश गहलोत ने बताया कि, “मैं प्रथम इंस्टीट्यूट का आभारी हूं क्योंकि पूरी तैयारी के दौरान उन्होंने मेरी पूरी सहायता की और मेरे साहस को बढ़ाया, जिसके कारण ही आज में सफल हो पाया हूं। प्रथम हमेशा मेरी तैयारी में एक निरंतर समर्थन बना रहा और इस चुनौती को पूरा करने में मेरी सहायता की। उनके पढ़ाने की तकनीक और एक्सपर्ट फैकल्टी ने हर स्थिति में मेरी सहायता की इसलिए मैं अपनी सफलता का पूरा श्रेय प्रथम एजुकेशन को देता हूं।”
प्रथम इंस्टीट्यूट, नई दिल्ली के निदेशक, श्री अंकित कपूर ने बताया कि “मुझे यह बताते हुए गर्व महसूस हो रहा है कि , टॉप 10 में 7 छात्र (ईशान मित्तल एआईआर 3, संस्कार चिंडालिया एआईआर 4, सिद्धार्थ अग्रवाल एआईआर 5, हर्षित रत्नानी एआईआर 7, इशिता सचदेव एआईआर 8, चेतन्य गुप्ता एआईआर 9 और सुदर्श कंसल एआईआर 10) प्रथम इंस्टीट्यूट से हैं। इतने सालों में, यह संस्थान खुद को एक ब्रांड के रूप में स्थापित करता रहा है और हजारों छात्रों के बीच लोकप्रियता हासिल करता रहा है। लगभग 11 सालों के अनुभव के साथ प्रथम बारहवीं कक्षा के छात्रों को अपने सपनों को पूरा करने में सहायता करते रहे हैं। हमारी सफलता यह साफ करती है कि हम अपने छात्रों के लिए किस तरह का माहौल तैयार करते हैं।”
इस परीक्षा का उद्देश्य छात्रों को अंडरग्रेजुएट मैनेजमेंट प्रोग्राम में प्रवेश के लिए शॉर्टलिस्ट करना है। डीयू-जेएटी खास बन जाता है क्योंकि यह एकमात्र प्रोग्राम है जिसके माध्यम से दिल्ली विश्वविद्यालय के मैनेजमेंट प्रोग्राम के लिए एडमीशन लिया जा सकता है। इस तरह के कोर्स प्रदान करने वाले 15 संस्थानों में टॉप 1162 सीटों के लिए आखिरी प्रवेश होगा।
इस टेस्ट की तैयारी कर रहे छात्रों को इस बात का ख्याल रखना चाहिए कि उन्होंने 12वीं में गणित से पढ़ाई की हो। इस कोर्स के लिए एडमीशन, टेस्ट के अंकों (65ः) और 12वीं के अंको (35ः) पर निर्भर करता है। पिछले साल की तुलना में पेपर काफी आसान था और बोर्ड ने छात्रों को पहली बार परीक्षा में कैलक्यूलेटर इस्तेमाल करने की अनुमति दी थी।



Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

बिल्कुल देसी वीडियो कंटेंट प्लेटफार्म ट्रेलर ने 20 मिलियन नए यूज़र दर्ज किए

जिला हमीरपुर के मौदहा में प्रधानमंत्री आवास योजना में चली गांधी की आंधी