सीबीआरई ने भारत में अपने फाउन्डेशन– 'सीबीआरई केयर्स' का लॉन्च किया

शब्दवाणी समाचार वीरवार 24 अक्टूबर 2019 नई दिल्ली।दुनिया की अग्रणी रियल एस्टेट कन्सल्टिंग फर्म सीबीआरई साउथ एशिया प्रा लिमिटेड ने भारत में अपने फाउन्डेशन, फर्म के कोरपोरेट फिलान्थ्रोपी प्रोग्राम'सीबीआरई केयर्स' का लॉन्च किया है और देश भर के विभिन्न क्षेत्रों में प्रवासी मजदूरों की स्वास्थ्य एवं पोषण संबंधी समस्याओं के समाधान की शपथ ली है। देश में सीबीआरई के 25 साल पूरे होने के अवसर पर सीबीआरई केयर्स का लॉन्च किया गया है।



विश्वस्तरीय प्रोग्राम सीबीआरई केयर्स के भारतीय संस्करण सीबीआरई केयर्स- एक पहल का लॉन्च सीबीआरई ग्रुप, इंक के प्रेजीडेन्ट एवं चीफ एक्ज़क्टिव ऑफिसर श्री रॉबर्ट ई. सुलेन्टिक और श्री अंशुमन मैगजीन, चेयरमैन और सीईओ, भारत, दक्षिण पूर्वी एशिया, मध्यपूर्व और अफ्रीका द्वारा किया गया


नेशनल सैम्पल सर्वे ऑफिस के आंकड़ों के अनुसार देश में निर्माण क्षेत्र तीसरा सबसे बड़ा नियोक्ता है जो तकरीबन 50 मिलियन लोगों को रोजगार देता है। इनमें बड़ी संख्या में प्रवासी मजदूर और उनके परिवार शामिल होते हैं, जिन्हें मूल स्वास्थ्य सेवाएं तक नही मिल पातींवे कुपोषण, असुरक्षित एवं गैर–हाइजीनिक वातावरण की समस्याओं से जूझते रहते हैं और उनमें इन विषयों को लेकर जागरुकता की कमी होती है। प्रवासी मजदूरों और उनके परिवार के सदस्यों के लिए मूल स्वास्थ्य सेवाओं की इन खामियों को दूर करने के लिए ही प्रोग्राम 'एक पहल' की शुरूआत की गई है।


प्रोग्राम के लॉन्च के दौरान बात करते हुए श्री सुलेंटिक ने कहा, “सीबीआरई अपने इस प्रोग्राम एक पहल' के माध्यम से एक बड़ा बदलाव लाना चाहती है, हम विभिन्न क्षेत्रों में प्रवासी मजदूरों और उनके परिवारों पर सकारात्मक प्रभाव उत्पन्न करना चाहते हैं। सीबीआरई में हम समाज को कुछ देने में भरोसा रखते हैं और मुझे विश्वास है कि एक पहल' अन्य लोगों को भी इस नेक काज के साथ जुड़ने के लिए प्रेरित करेगी।" उन्होंने कहालॉन्च के अवसर पर श्री अंशुमन मैगज़ीन, चेयरमैन एवं सीईओ, भारत, दक्षिण-पूर्वी एशिया, मध्यपूर्व और अफ्रीका, सीबीआरई ने कहा, "हमें गर्व है कि हम सीबीआरई फाउन्डेशन को भारत ला रहे हैं। प्रवासी मजदूरों को सहयोग प्रदान करना हमारी ज़िम्मेदारी है और एक पहल' एक बड़े उद्देश्य की दिशा में मात्र एक शुरूआत है। हमें विश्वास है कि हमारा यह योगदान समाज कल्याण में महत्वपूर्ण साबित होगा।


आने वाले महीनों में सीबीआरई चैरिटेबल संगठनों के सहयोग से सीबीआरई केयर्स के बड़े उद्देश्यों को हासिल करने के लिए प्रयास करेगी। चैरिटेबल संगठनों के सहयोग से प्रवासी मजदूरों और उनके परिवारों की स्वास्थ्य एवं पोषण संबंधी ज़रूरतों को पूरा करने का प्रयास किया जाएगा।


सीबीआरई केयर्स एक पहल' का पहला संस्करण जरूरतमंद लोगों के जीवन में बदलाव लाने की दिशा में एक छोटी सी शुरूआत है। इस पहल के तहत हम विभिन्न कन्सट्रक्शन साईट्स की झुग्गियों तक पहुंचेंगे और प्रवासी मजदूरों एवं उनके परिवारों को पोषण और स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराएंगे। हम सामाजिक कार्यकर्ताओं, डॉक्टरों, काउन्सलर्स के साथ मिलकर सुनिश्चित करेंगे कि इन साईट्स के आस-पास महिलाओं, बच्चों और किशोरों को उचित स्वास्थ्य सेवाएं सुलभ हो सकें।



Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

बिल्कुल देसी वीडियो कंटेंट प्लेटफार्म ट्रेलर ने 20 मिलियन नए यूज़र दर्ज किए

जिला हमीरपुर के मौदहा में प्रधानमंत्री आवास योजना में चली गांधी की आंधी