रोटरी ने भारत में अपनी एक सदी का जश्न मनाया

शब्दवाणी समाचार मंगलवार 18 फरवरी 2020 नई दिल्ली। रोटरी ने बिस्वा बंगला कन्वेंशन सेंटर में रोटरी इण्डिया कैंटेनियल समिट के साथ भारत में अपने 100 सालों की यात्रा का जश्न मनाया, जिसका आयोजन 14 से 16 फरवरी के बीच किया गया था। 35 देशों से रोटरी के तकरीबन 4000 सदस्यों, सरकारी अधिकारियों एवं विषय विशेषज्ञों ने भारत में रोगों की रोकथाम एवं उपचार, जल, सेनिटेशन, हाइजीन, शिक्षा एवं अन्य विषयों से जुड़े विचारों और विभन्न चुनौतियों के समाधानों पर चर्चा की।



कार्यक्रम में हिस्सा लेने वाले दिग्गजों में रोटरी इंटरनेशनल के प्रेजीडेन्ट मार्क मैलोनी, रोटरी इंटरनेशनल प्रेजीडेन्ट 2021-22 के लिए नामांकित शेखर मेहता तथा केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ हर्ष वर्धन शामिल थे। रोटरी ने 1 जनवरी 1920 को स्वयं से उपर सेवा के प्रयोजन के साथ कोलकाता शहर से भारत में अपनी शुरूआत की। पिछले 100 सालों में रोटरी एक क्लब से विकसित होकर 1.5 लाख समर्पित रोटेरियन्स तक विस्तारित हो चुका है जो भारत में 4000 क्लबों के तहत अपनी सेवाएं प्रदान कर रहे हैं।
2018-19 में भारत में रोटरी फाउन्डेशन ने 22.81 मिलियन डॉलर की परियोजनाओं को समर्थन प्रदान किया, इनमें शामिल हैं: • शिक्षा प्रणाली में सुधार; देश भर में सार्वजनिक स्वास्थ्य समस्याओं का समाधान; • महिला उद्यमियों को सूक्ष्म ऋण सुविधाएं उपलब्ध कराना; खासतौर महिलाओं और लड़कियों के लिए सेनिटेशन और हाइजीन के मानकों को बढ़ाना; स्वच्छ एवं सुरक्षित पेयजल उपलब्ध कराना; • प्राकृतिक आपदा से प्रभावित घरों, स्कूलों एवं कारोबारों के पुनःनिर्माण में मदद करना। • प्राकृतिक आपदा से प्रभावित घरों, स्कूलों एवं कारोबारों के पुनःनिर्माण में मदद करना। पोलियो उन्मूलन के लिए विश्वस्तरीय प्रयासों को बढ़ावा देते हुए- रोटरी 27 मार्च 2020 को भारत के छठे पोलियो मुक्त वर्ष के जश्न में शामिल होगा। 1995 के बाद से रोटरी भारत सरकार के सहयोग से हर साल राष्ट्रीय टीकाकरण दिवस मनाता है और पांच साल से कम उम्र के 172 मिलियन बच्चों का टीकाकरण कर चुका है।
रोटरी इण्डिया को 100 साल की इस उपलब्धि पर बधाई देते हुए मुख्य अतिथि श्री जगदीप धनकर, बंगाल के राज्यपाल ने कहा, "इस सदी का तीसरा दशक रोटरी जैसे संगठनों के लिए बेहद निर्णायक होगा, जो अपने गहन संस्थागत ज्ञान एवं संसधानों के साथ महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। एक संगठन के लिए एक सदी तक अपने मूल्यों के लिए प्रतिबद्ध रहना, इसके सदस्यों के द्वारा समुदाय के प्रति समर्पण की पुष्टि करता है। भारत में पोलियो उन्मूलन रोटरी के समर्पण और कार्यों को दर्शाता है। हमें उम्मीद है कि रोटरी के सहयोग से हम भारत की चुनौतियों के समाधान में उल्लेखनीय योगदान दे सकेंगे।
इस जश्न के तहत रोटरी ने चार लोगों को रोटरी हीरो हयुमेनिटी अवॉर्ड्स से सम्मानित कियाः • आसाम के गुवाहाटी से श्री भृगु बोर्थाखुर, को शिक्षा और साक्षरता के क्षेत्र में काम करने के लिए: • पणे से श्री अधिक सदाशिव कदम को अनाथालयों के आर्थिक एवं सामुदायिक विकास प्रबन्धन के लिए, अमरावती से श्री स्वप्निल अरूण गवांडे को रोगों की रोकथाम तथा अंगदान के बारे में जागरुकता उत्पन्न करने के लिए; और डॉ शालिनी सक्सेना को जल, सेनिटेशन एवं हाइजीन के क्षेत्र में कार्य करने, तथा समाज के वंचित समुदायों में माहवारी के बारे में जागरुकता उत्पन्न करने के लिए सम्मानित किया गया।
अपने संबोधन के दौरान मैलोनी ने कहा, "हम भारत में पिछले 100 सालों के दौरान अपने कार्यों का जश्न मना रहे हैं, हमें गर्व है कि हमने कछ मुश्किल चुनौतियों के लिए रचनात्मक समाधान पेश किए हैं और रोगों से लड़ने और आर्थिक समानता को सुनिश्चित करने की दिशा मेंउल्लेखनीय कार्य किया हैभारत रोटरी के लिए सबसे तेजी से विकसित होते देशों में एक है, जहां पिछले दशक के दौरान सदस्यता में 56 फीसदी की बढ़ोतरी हई है, इसलिए यहां असीमित संभावनाएं हैं।
मेहता ने कहा, “एक संगठन के लिए 100 साल पूरे करना एक उल्लेखनीय उपलब्धि है, जिसका उद्देश्य स्वार्थ से परे जाकर सेवा करना है, इस मौके पर हम भारतीय रोटेरियन्स के योगदान का जश्न मनाना चाहते हैं। उन्होंने सेवा के मानकों को इतना उपर उठा दिया है कि मुझे यह कहते हुए गर्व का अनुभव हो रहा है कि रोटरी सदस्य रोटरी दुनिया के कोहीनूर हैं।"
गर्व का अनुभव हो रहा है कि रोटरी सदस्य रोटरी दुनिया के कोहीनूर हैं।" 1 जुलाई 2021 से रोटरी के 11वें अक्ष्ययक्ष के रूप में एक साल के दौरान मेहता संगठनों के सा साझेदारी के विस्तार द्वारा रोटरी के प्रभाव को बढ़ाने के लिए काम करेंगे, जो रोटरी के मुख्य कार्य क्षेत्रों पर ध्यान केन्द्रित करता है जैसेः शांति बढ़ाना, बीमारियों से लड़ना, स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराना, सेनिटेशन एवं हाईजीन; मां और बच्चों का जीवन बचाना; शिक्षा को समर्थन देना तथा स्थानीय अर्थव्यवस्थाओं के विकास में योगदान देना। अन्य दिग्गज सम्मेलन में हिस्सा लेने वाले अन्य दिग्गजों में शामिल थे- श्री गजेन्द्र सिंह शेखावत, माननीय जल शक्ति मंत्री, भारत सरकार, मैग्सेसे पुरस्कार विजेता राजेन्द्र सिंह, भारतीय जल संरक्षण एवं पर्यावरणविद तथा डॉ सुनीता रेड्डी, प्रबन्ध निदेशक, अपोलो हॉस्पिटल्स।



Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

बिल्कुल देसी वीडियो कंटेंट प्लेटफार्म ट्रेलर ने 20 मिलियन नए यूज़र दर्ज किए

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता