जिला हमीपुर में रोक के बावजूद महंगे दामों पर बिक रहे हैं प्रतिबंधित मादक पदार्थ

शब्दवाणी समाचार, मंगलवार 21 अप्रैल (अंकित गुप्ता), हमीरपुर। देश में कोरोना महामारी आते ही प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पूरे देश को इस महामारी से बचाने के लिए 21 दिनों के लिए लाकडाउन कर दिया था । जिसे 3 मई तक पुनः बढा दिया गया है।जहां देश कोरोना की क्रुरता से बचने के लिये लाकडाउन है वहीं शासन प्रशासन नागरिको की राहत के पहुंचाने के लिये हर सम्भव प्रयास कर रहे है। किन्तु कुछ व्यापारी ऐसे समय मे भी प्रतिबन्धित गुटखा व मादक पदार्थ की बिक्री कर काली कमाई करने मे व्यस्त है। क्षेत्र मे कालाबाजारी राशन सामाग्री की हो या फिर और भी कुछ जरुरत की चीज सभी के दाम इस समय सर चढ कर बोल रहे है गरीब जरूरतमन्द महगाई की वजह से जरूरत का सामान नहीं खरीद पा रहे हैं। दुकानदार एक रुपये की चीज पांच रुपये में बेंच रहे हैं।



जबकि लाकडाउन के पहले दो रुपये में बिकने गुटका आज आठ रुपए में बिक रहा है, तीन रुपए में मिलने वाला केशर गुटखा आज दस रुपये में बेंचा जा रहा है,एक रुपये में मिलने वाला पान मसाला आज पांच रुपए का ग्राहकों को खरीदना पड रहा है।लाकडाउन के पहले जो गुटखा कभी देखे ही नहीं गए आज वह गुटखा पांच पांच रुपए में धडल्ले से बिक रहा है। ऐसा ही कुछ हाल शराब का भी है 45 रुपये में बिकने वाला देशी शराब का सफेद पव्वा आथ 80 रुपए व65 रुपये का लाल पव्वा 100 रुपए में शराब पीने के शौकीनों को खरीदना पड रहा है।अंग्रेजी शराब के दाम भी सर चढकर बोल रहे हैं 100,150 में मिलने वाला अंग्रेजी शराब का क्वाटर आज 250 रुपये में बिक रहा है। लाकडाउन के समय प्रतिबन्धित गुटखा व मादक पदार्थ की बिक्री धडल्ले से कर अवैध कारोबारी मुनाफाखोरी के साथ प्रशासनिक अधिकारियों की आखो मे धूल झांक रहे है। कस्बाईयो ने ऐसे अवैध कारोबारियों पर कार्यवाही की मांग की है।



Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

बिल्कुल देसी वीडियो कंटेंट प्लेटफार्म ट्रेलर ने 20 मिलियन नए यूज़र दर्ज किए

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता