गोदरेज ने कोविड-19 वैक्सीन के लिए वैक्सीन कोल्ड चेन को मजबूत बनाया

•  भारत के लिए मूल्यांsकित किये जा रहे कोविड-19 वैक्सी्न्सी के लिए आवश्याक उपयुक्तड तापमान प्रदान करने वाली स्टो-रेज यूनिट्स करा रहा उपलब्धर

•  गोदरेज ने मांग पूरी करने के लिए मेडिकल रेफ्रिजरेटर उत्पासदन क्षमता 250% बढ़ायी 

•  एक्सेक्लूरसिव रूप से कोविड-19 वैक्सी्न स्टोारेज हेतु लगभग 150 करोड़ रु. मूल्ये के कई ऑर्डर्स प्राप्त हुए

शब्दवाणी समाचार, वीरवार 21 जनवरी  2021, नई दिल्ली। महामारी ने दुनिया भर के व्योवसायों व लोगों की जिंदगियों को अस्त‍-व्यरस्तय कर दिया है। जहां दुनिया भर में आम लोगों के लिए यह वैक्सीैन उपलब्धर कराये जाने को लेकर बेसब्री से इंतज़ार है, वहीं भारत - जो इस वायरस का दूसरा सबसे बड़ा शिकार देश है और जहां इसके 10 मिलियन से अधिक मामले हैं - आने वाले महीनों में विशाल कोविड-19 टीकाकरण अभियान की तैयारी कर रहा है। राज्यस सरकारों और सरकारी उपक्रमों के साथ मिलकर, भारत सरकार इस अभियान में सहायता हेतु वैक्सीअन्सा एवं ज़रूरी कोल्डक चेन इंफ्रास्ट्रकक्चंर उपलब्ध  कराकर लोगों के लिए टीके उपलब्धस कराने की तैयारी में जुटी है। 

जहां देश में इतिहास के सबसे महत्वचपूर्ण प्रतिरक्षण अभियानों में से एक की तैयारी चल रही है, वहीं होम अप्लादयंसेज की अग्रणी भारतीय कंपनी, गोदरेज अप्लाियंसेज, कोविड-19 वैक्सीमन कोल्डा चेन के लिए समग्र समाधान उपलब्धा कराने की तैयारी में लगा है। अधिकांश वैक्सीजन्सी की तरह ही, कोविड-19 वैक्सीयन्स  भी अत्यंसत ताप-संवेदी हैं। अंडरकूलिंग और ओवरकूलिंग दोनों से ही वैक्सीजन की पोटेंसी प्रभावित हो सकती है और वैक्सी-न बेकार हो सकता है। इसका लोगों के स्वांस्य्ज   और वैक्सी नेशन प्रोग्राम की लागत दोनों पर ही प्रत्यहक्ष प्रभाव है। टीकाकरण अभियान के भारी आर्थिक निहितार्थ के मद्देनजर, कोल्डै चेन की लॉजिस्टिकल समस्यादओं के चलते टीकाकरण की प्रक्रिया में किसी भी तरह की बर्बादी या अकुशलता से बचना अत्या्वश्यनक है। 

भारत में कोविड -19 वैक्सीन स्टोरेज की अविलंब मांग पूरी करने के लिए, गोदरेजके पास वैक्सीन रेफ्रीजिरेटर्स की रेंज मौजूद है, जो 2-8डिग्री सेल्सियसकी सटीक तापमान सीमा पर काम करती है और अब, इसने -20डिग्री सेल्सियसतक की कूलिंग के साथ एडवांस्ड मेडिकल फ्रीजर भी उपलब्धद करा रहा है।यह तापमान सीमा भारत द्वारा मूल्यांकन किए जा रहे कई कोविड 19 टीकों के लिए पूरी तरह से अनुकूल हैं। भारत के लिए मूल्यांकन किए जा रहे वैक्सीन वेरिएंट के 5 फ्रंट रनर्स में से 4 को 2-8डिग्री सेल्सियसपर रखा जाना आवश्यएक है(जैसा कि पब्लिक डोमेन में अब तक की जानकारी उपलब्ध् है), जबकि आउटरीच प्रोग्राम्सस के लिए आवश्यक डाइल्यूाएंट्स और फ़्रीजिंग आइस पैक्स  को -20 डिग्री सेल्सियस पर स्टोजर किया जाना आवश्यएक है।

पेटेंटेडश्यो।र चिल टेक्नोलॉजी द्वारा संचालित, गोदरेज मेडिकल रेफ्रिजरेटर्स बीच-बीच में बिजली की कटौती के बावजूद 2 से 8 डिग्री सेल्सियस की  तापमान सीमा बनाए रखने में सहायक हैं - जो कि इन वैक्सीीन्सज के परिरक्षण हेतु आवश्योक है। बिजली नहीं रहने पर, यह रेफ्रिजरेटर 43 डिग्री सेल्सियस के वातावरणीय तापमान पर भी 8-12 दिनों तक अपना तापमान बनाए रखने में सक्षम है। जिन क्षेत्रों में बिजली की आपूर्ति नहीं है, इस उपकरण को सौर ऊर्जा पर चलाया जा सकता है और इससे वैक्सीरन्से को समान रूप से प्रभावी तरीके से परिरक्षित किया जा सकता है। दूसरी ओर, डी-कूल टेक्नोलॉजी वाले गोदरेज डीप फ्रीजर्स में डी-आकार के कॉपर रेफ्रिजरेटिंग ट्यूब्सक का उपयोग किया गया है, ताकि त्व्रित रूप से एकसमान कूलिंग हो सके। इसमें उच्च प्रशीतन क्षमता-युक्त  5-साइड कूलिंग के लिए पेंटा कूल टेक्नोलॉजी का भी इस्तेकमाल किया गया है। ये तकनीकें -20 डिग्री सेल्सियस तक की प्रेसिजन कूलिंग करने और इसे 3-4 घंटे तक बनाये रखने में सहायक हैं। उपयोग की प्रकृति को देखते हुए, प्रेसिजन कूलिंग और इसे एक समय तक बनाये रखना दोनों महत्वपूर्ण रूप से आवश्यक है। कठिन स्थितियों के लिए मजबूत उपकरणों के निर्माण में वर्षों की दक्षता व अनुभव के चलते, हमारे मेडिकल रेफ्रिजरेटर 130 वोल्ट  पर भी चल सकते हैं - जो कि इसे देश भर में लगाये जाने के लिए अतिरिक्त  रूप से उपयुक्तर बनाता है। गोदरेज मेडिकल रेफ्रिजरेटर भारत में बने हैं और इनमें इको-फ्रेंड्ली (सीएफसी, एचएफसीऔर एचसीएफसीमुक्त) R600A और दुनिया के सबसे ग्रीनR290 रेफ्रिजरेंट का उपयोग किया गया है, जो गोदरेज के पर्यावरण-पोषक मूल्य के अनुरूप अधिकतम ऊर्जा-दक्षता प्रदान करते हैं।

गोदरेज को केंद्र सरकार, विभिन्न राज्य सरकारों और अंतर्राष्ट्रीय सहायता निकायों सेकोविड -19 वैक्सीन के स्टोेरेज के लिए लगभग 150 करोड़ रु. मूल्यअ के कई ऑर्डर मिल चुके हैं। अबइसेउन सरकारी उपक्रमों से भी इन्वाज क यरीज प्राप्त0 हो रही हैं जो इस प्रतिरक्षण प्रयास में सहायता कर रहे हैं। बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए, गोदरेज अप्लायंसेज ने मेडिकल रेफ्रिजरेटर उत्पा्दन क्षमता को 10,000 यूनिट्स से बढ़ाकर 35,000 यूनिट्स सालाना की जा चुकी है। 

गोदरेज एंड बॉयस, अपनी ऑफरिंग्सज - चाहे मेडिकल कंपोनेंट्स हों जैसे कि हॉस्पिटल बेड एक्चुढएटर्स एवं वेंटिलेटर्स के लिए इलेक्ट्रो -मैग्नेगटिक वॉल्स्-क् हो, लोगों को घर पर सुरक्षित रखने हेतु डिसइंफेक्टें ट उपकरण हो, चाहे कार्य-स्थ्ल पर लोगों को सुरक्षित रखने हेतु शारीरिक दूरी बनाये रखने वाले कार्यालयों की स्था पना हो,के माध्यकम से अपने प्रयासों के जरिए विशेष रूप से चुनौतीपूर्ण महामारी काल में राष्ट्र  की सेवा करने के प्रति संकल्पित है; और इसे सर्वाधिक जरूरत के समय में मेड इन इंडिया मेडिकल रेफ्रिजरेटर्स और फ्रीजर्स के साथ देश की सेवा करने पर गर्व है। 

इन प्रगतियों के बारे में टिप्पणी करते हुए, श्री कमल नंदी, बिजनेस हेड और कार्यकारी उपाध्यक्ष, गोदरेज ने कहा, “पिछले कुछ वर्षों में, गोदरेज उपकरणों ने प्रशीतन (रेफ्रिजरेशन) में अपनी विशेषज्ञता हासिल की है और इसे चिकित्सा प्रशीतन (मेडिकल रेफ्रिजरेशन) क्षेत्र में आगे बढ़ाया है। हमें गर्व है कि यह विशेषज्ञता आज के समय में उपयोगी साबित हो रही है जब देश को एक मजबूत वैक्सीन कोल्ड चेन की आवश्यकता है और इस कारण हमें इस हेतु योगदान करने में सक्षम होने की खुशी है। हमारे मेडिकल रेफ्रिजरेटर और हमारे मेडिकल फ्रीजर, क्रमशः 2°C- 8°C और -20°C का सटीक शीतलन तापमान प्रदान करते हैं, जो कि इस समय भारत द्वारा मूल्यांकन किए जा रहे टीकों के लिए आवश्यक है। हम भारत के लिए कोविड -19 वैक्सीन को तैयार करने के लिए अन्य संभावित चुनौतियों को अच्छी तरह से हल करने के उद्देश्य से स्वास्थ्य सेवा कोल्ड चेन को मजबूत करने के लिए विभिन्न हितधारकों के साथ सहयोग कर रहे हैं।"

श्री जयशंकर नटराजन, एसोसिएट वाइस प्रेसिडेंट और हेड - न्यू बिज़नेस डेवलपमेंट, गोदरेज अप्लायंसेज ने आगे बताया, “भारत में लाये जा रहे कोविड -19 वैक्सीन्सजतापमान-संवेदी हैं और इनके असरदार बने रहने के लिए एक विशिष्ट तापमान सीमा पर स्टोर किया जाना आवश्यक है। हमारे मेडिकल रेफ्रिजरेटर्स को बिजली की कटौती के बावजूद इस तरह के सटीक शीतलन प्रदान करने हेतु डिज़ाइन किया गया है, और ये कठोर अंतर्राष्ट्री य डब्यूे   एचओ पीक्यू एस प्रमाणन मानक के अनुरूप हैं। देश में व्यापक सर्विस नेटवर्क के साथ कूलिंग इंडस्ट्री  में 62 साल से हमारी मौजूदगी, हमें इस महत्वपूर्ण, त्वरित और विश्वसनीय सेवा प्रदान करने में सक्षम बनाता है।वर्तमान में बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए, हमने इन विशेष उत्पादों की उत्पादन क्षमता में 250 प्रतिशत की वृद्धि की है। सरकार और स्वास्थ्यकर्मियों के साथ, हम सुदूरतम क्षेत्रों तक कोविड -19 वैक्सीन प्रतिरक्षण उपलब्धस कराने के लिए प्रतिबद्ध हैं, ताकि लाखों लोगों की जिंदगियां बचायी जा सके। 

Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

बिल्कुल देसी वीडियो कंटेंट प्लेटफार्म ट्रेलर ने 20 मिलियन नए यूज़र दर्ज किए

जिला हमीरपुर के मौदहा में प्रधानमंत्री आवास योजना में चली गांधी की आंधी