चार पर्सनल फाइनेंस स्ट्रैटेजी के साथ 2021 में मजबूत शुरुआत करें

शब्दवाणी समाचार, सोमवार 4 जनवरी  2021, नई दिल्ली। 2020 अनिश्चितताओं से भरा साल था। अर्थव्यवस्था में कंज्यूमर बिहेवियर, डिजिटल कोलेबोरेशन, बिजनेस पॉलिसी और इसी तरह के मामलों में एक बदलाव देखा गया। दुनिया में कोविड-19 महामारी की वजह से काफी बदलाव हुए, इनमें से कुछ लंबे समय बना रहेगा। महामारी ने हमारे सामने आर्थिक रूप कई चुनौतियां पेश की और इनसे निपटने के लिए हमें कई कौशलों की जरूरत है। ऐसा कोई कारण नहीं है कि हम 2021 में इसी वित्तीय अनुशासन के साथ आगे नहीं बढ़ सकते। अपने पर्सनल फाइनेंस की योजना पर काम शुरू करना आसान है, और यह लंबा रास्ता तय करेगा। एंजल ब्रोकिंग लिमिटेड के एवीपी-मिड कैप्स श्री अमरजीत मौर्य ने यहां चार पर्सनल स्ट्रैटेजी बताई हैं जो आपको 2021 के लिए एक मजबूत शुरुआत दे सकती हैं।

1. भविष्य के लिए लक्ष्य निर्धारित करें: मजबूत वित्तीय नियोजन की दिशा में पहला कदम छोटे और दीर्घकालिक लक्ष्य निर्धारित करना है। लक्ष्य और अपेक्षित मील के पत्थर आपको अपनी बचत का निर्माण करने के लिए एक समय दे सकते हैं। अपने आप से पूछें: आप अगले साल, या अगले 5, 10 और 20 वर्षों में क्या हासिल करना चाहते हैं? आपके लक्ष्य आपके लिए पर्सनल हैं। क्या आप जल्द ही एक नई कार खरीदना चाहते हैं? क्या आप एक घर खरीदने या किराये पर बड़ा घर लेने की योजना बना रहे हैं? आप अपने बच्चे की कॉलेज शिक्षा के लिए कितना बचत करना चाहते हैं? इन परिदृश्यों को विज़ुअलाइज़ करने से आप भविष्य में उन खर्चों का अंदाजा लगा सकते हैं, और उनके लिए बजट बनाना शुरू कर सकते हैं। यह आपको यह मूल्यांकन करने की सुविधा भी देता है कि आपके द्वारा किया गया प्रत्येक वित्तीय निर्णय आपके समग्र वित्तीय स्वास्थ्य में किस तरह योगदान देगा। लक्ष्य निर्धारित करने में सबसे अच्छी बात यह है कि अगर आप किसी भी कारण से, उन्हें पूरा करने में पिछड़ भी जाते हैं तब भी आप उनके प्रति जो प्रयास करते हैं वह कुछ न कुछ आपके पास रहता है। वित्तीय लक्ष्यों के मामले में इसका मतलब है कि आपके पास बचत राशि तो होगी ही। उदाहरण के लिए, मान लें कि आप 2025 में कार खरीदने के लिए पर्याप्त बचत नहीं कर पाए, तो इसका मतलब यह है कि आपने कुछ अभूतपूर्व खर्च कर दिए। इसका यह मतलब है कि आप समय-समय पर पैसा बचाकर अगले कुछ वर्षों में कार खरीद सकते थे। आपके पास अभी भी पूंजी बचेगी और अगले एक या दो साल में कार खरीदने में सक्षम हो जाएंगे। यह एक तरह की जीत ही है।

2. पर्सनल बजट बनाएं: बात पर्सनल फाइनेंस की हो, या किसी प्रोजेक्ट के लिए फंडिंग जुटाने की, आमतौर पर शुरुआत बजट के साथ ही शुरू होता है। बजट सामान्य खर्चों के लिए हो सकता है, जैसे कि मासिक घरेलू खर्च, या विशिष्ट खर्चों के लिए आप उम्मीद कर सकते हैं, जैसे कि गेराज को रिनोवेट करने के लिए कुल बजट। बजट आपको कुछ फायदे देता है। सबसे पहले, यह आपको इस बात पर नज़र रखने में मदद करता है कि पैसा कितना आ रहा है और कहाँ खर्च हो रहा है। अगर आप अपने खर्च को बजट से अधिक पाते हैं, तो आप अपनी खर्च करने की आदत को एडजस्ट कर सकते हैं। दूसरे, बजट के अनुसार धन आवंटित करना यह सुनिश्चित करता है कि आपके पास हमेशा अनिवार्य कार्यों के लिए पर्याप्त पैसा संचित होगा।

3. स्मार्ट निवेश करें: आपने कड़ी मेहनत की है और पैसा कमाया है। आप इसे बचत खाते में या तिजोरी में सहेज सकते हैं! लेकिन क्या होगा अगर आप अपने पैसे के लिए उससे अधिक मूल्य प्राप्त कर सकते हैं? यह वही है कि आप जो पैसा निवेश करते हैं, वही आपके काम आता है। आप अपने बचाए पैसे को बढ़ा सकते हैं। ऐसा करने का एक तरीका है कंपाउंडिंग। इससे आपकी निवेशित पूंजी पर रिटर्न आपके मूलधन में जुड़ जाता है। यहां पर रिटर्न-रिस्क ट्रेडऑफ़ जैसा सिस्टम भी प्रभावी रहता है। इक्विटी बाजारों में निवेश जोखिम के तहत होता है। बाजार में अस्थिरता के चलते कीमतें अप्रत्याशित रूप से ऊपर-नीचे होती है। यह जोखिम भरा हो सकता है। यही कारण है कि बाजार से जुड़े उपकरणों को आमतौर पर जोखिम भरा माना जाता है।

मार्केट समुद्र में तैरने जैसा है, लेकिन इसे देखने का सही तरीका भी हो सकता है। स्टॉक खरीदने से पहले आपको ट्रेडिंग में उपयोग की जाने वाली विभिन्न शर्तों की स्पष्ट समझ आवश्यक है, जैसे - मूल्य, डेरिवेटिव, कमोडिटीज़, आदि। ट्रेडर व्यक्तिगत शेयरों या पूरे बाजार के भविष्य के प्रदर्शन के बारे में अनुमान लगाने में मदद करने के लिए फंडामेंटल और टेक्निकल एनालिसिस का इस्तेमाल करते हैं। बाद वाला एनालिसिस दिलचस्प है क्योंकि यह तकनीकी ’संकेतकों’ का उपयोग करता है जो ऐसे पैटर्न हैं जो आंकड़ों के आधार पर भविष्यवाणियां करने के लिए ऐतिहासिक डेटा का उपयोग करते हैं। एक पोर्टफोलियो बनाते समय इस बात पर ध्यान देना भी महत्वपूर्ण है कि विभिन्न जोखिम स्तर और शर्तों के साथ विभिन्न साधनों के बारे में विचार किया जाए। भले ही एक या दो परिसंपत्तियां अपना मूल्य खो दें, यह आपके समग्र पोर्टफोलियो की सुरक्षा करता है। ऑनलाइन कई संसाधन हैं जो आपको शुरू करने से पहले शेयर बाजार को समझने में मदद कर सकते हैं।

4. अपने करों को प्लान करें: अपनी आय को अधिकतम बनाने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कदमों में से एक है अपने करों की योजना बनाना। टैक्स प्लानिंग का उद्देश्य आपके कर के बोझ को कम करना है और आपकी देय कर राशि पर अधिकतम रिटर्न प्राप्त करना है। भारत में, आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 80 सी में 1.5 लाख रुपये तक के निवेश पर कर कटौती के लिए पात्रता है। यह कई उपकरणों को सूचीबद्ध करता है जिसमें आप रिटर्न प्राप्त करने के लिए निवेश कर सकते हैं। इस सेक्शन में पब्लिक प्रॉविडेंट फंड (पीपीएफ), जीवन बीमा योजना, राष्ट्रीय पेंशन योजना (एनपीएस) आदि के साथ-साथ मध्यम अवधि के विकल्प जैसे 5-वर्षीय बैंक फिक्स्ड डिपॉजिट (एफडी), इक्विटी-लिंक्ड सर्विस स्कीम्स (ईएलएसएस) और कई रिटर्न शामिल हैं। आप अपने बच्चों की ट्यूशन फीस, हेल्थ इंश्योरेंस की प्रीमियम और होम लोन चुकाने पर भी टैक्स में छूट प्राप्त कर सकते हैं। करों में बचत से आपको खर्च करने और फिर निवेश करने के लिए अधिक धन मिल जाता है। इस वजह से टैक्स प्लानिंग एक महत्वपूर्ण चक्र हो सकता है।

Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

बिल्कुल देसी वीडियो कंटेंट प्लेटफार्म ट्रेलर ने 20 मिलियन नए यूज़र दर्ज किए

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता