केंद्रीय बजट जन अपेक्षाओं के अनुकूल नहीं : राघवेंद्र दुबे


शब्दवाणी समाचार, मंगलवार 2 फरवरी  2021गौतम बुद्ध नगर। केंद्र सरकार द्वारा पेश किया बजट किसान विरोधी, जनविरोधी है।पेट्रोल डीजल पर अतिरिक्त सेस लगाने से पहले से ही महंगा पेट्रोल डीजल अब और महंगा हो जाएगा जिससे और महंगाई बढ़ेगी। किसानों को फिर वादों का झुनझुना थमाया गया है । 2022 तक किसानों की आमदनी दोगुना करने की सरकारी घोषणा खोखला वादा ही साबित हुआ। एमएसपी के लिए कोई ठोस रणनीति नहीं है। मध्यम वर्ग के लिए यह बजट निराशाजनक ही रहा। बेरोजगारी अपने चरम पर है ऐसे में रोजगार सृजन के लिए कोई ठोस रणनीति ना होना निराशाजनक है। सरकार हर संस्थान को प्राइवेट हाथों में देने की जल्दबाजी में है।

Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

बिल्कुल देसी वीडियो कंटेंट प्लेटफार्म ट्रेलर ने 20 मिलियन नए यूज़र दर्ज किए

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता