एचडीएफसी लाइफ का प्रीमियम 2020-21 में 17 % बढ़कर 20,107 करोड़ रूपये

 

◆ एचडीएफसी लाइफ के नये कारोबार का प्रीमियम वित्त वर्ष 2020-21 में 17 प्रतिशत बढ़कर 20,107 करोड़ रूपये 

◆ वित्त वर्ष 2020-21 में नए कारोबार का मूल्य 14 प्रतिशत बढ़कर 2,185 करोड़ रूपये

शब्दवाणी समाचार, मंगलवार 27 अप्रैल  2021, नई दिल्ली। भारत की निजी क्षेत्र की सबसे महत्वपूर्ण जीवन बीमा कंपनी, एचडीएफसी लाइफ ने 31 मार्च 2021 को समाप्त वर्ष के समेकित वित्तीय परिणाम की घोषणा करते हुए आज कहा कि एक अप्रैल 2020 से 31 मार्च 2021 तक नए कारोबार से प्रीमियम सालाना आधार पर 17 प्रतिशत बढ़कर 20,107 करोड़ रूपये हो गया जो पिछले वित्त वर्ष के दौरान 17,239 करोड़ रूपये था। समीक्षाधीन अवधि में रिन्यूअल प्रीमियम बढ़कर 18,477 करोड़ रूपये हो गया जो पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि तक 15,468 करोड़ रूपये था।

एचडीएफसी लाइफ ने सालाना स्तर पर 10 प्रतिशत की वृद्धि के साथ समीक्षाधीन अवधि में 9.8 लाख नई पॉलिसी बेची। एचडीएफसी ने वोट वर्ष 2020-21 के दौरान इंडिविजुअल वेटेड रिसीव्ड प्रीमियम (डब्ल्यूआरपी) के लिहाज़ से 17 प्रतिशत की शानदार वृद्धि दर्ज़ की जो वित्त वर्ष 2019-20 में 19 प्रतिशत था। इसके मुकाबले निजी उद्योग ने समीक्षाधीन अवधि में वित्त वर्ष 2020 की पांच प्रतिशत की वृद्धि के मुकाबले आठ प्रतिशत की वृद्धि दर्ज़ की। निरंतर वृद्धि, संतुलित उत्पाद मिश्रण और लागत दक्षता के मद्देनज़र नए कारोबार का मूल्य (वीएनबी) 14 प्रतिशत बढ़कर 2,185 करोड़ रूपये हो गया। इस तरह नए कारोबार का मार्जिन 26.1 प्रतिशत हो गया।

अप्रैल 2020 से मार्च 2021 की अवधि के दौरान एचडीएफसी का कर पश्चात मुनाफा 1,360 करोड़ रूपये रहा जो पिछले साल की इसी अवधि में 1,295 करोड़ रूपये था। एचडीएफसी लाइफ ने 10 रुपये के अंकित मूल्य पर 2.02 रूपये प्रति शेयर का अंतिम लाभांश देने की पेशकश की है। इंडिविजुअल डब्ल्यूआरपी के लिहाज़ से एचडीएफसी लाइफ की रैंकिंग बढ़कर दूसरे पायदान पर आ गई है और इसकी बाज़ार हिस्सेदारी 130 आधार अंक बढ़कर 14.2 प्रतिशत से 15.5 प्रतिशत पर पहुँच गई है। समूह और नए कारोबार खंड में एचडीएफसी लाइफ की निजी बाज़ार हिस्सेदारी बढ़कर क्रमशः 27.6 प्रतिशत और 21.5 प्रतिशत हो गई।

कंपनी के प्रदर्शन और मौजूदा हालात के बारे में एचडीएफसी लाइफ की प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी सुश्री विभा पडलकर ने कहा, “हमने अप्रैल 2020 से मार्च 2021 के दौरान चार करोड़ लोगों का बीमा किया है। पिछले साल हमने 2.9 लाख मृत्यु सम्बंधी निपटाए जिसके लिए 3,000 करोड़ रूपये का भुगतान किया गया। सुश्री पडलकर ने कहा, “”अप्रैल 2020 से मार्च 2021 के हमारे वास्तविक अनुभव और कारोबार एवं ग्राहक खंड में मृत्यु दर के मौजूदा रुझान और कोविड 2.0 के भौगोलिक विस्तार जैसे हालात को ध्यान रखते हुए हमने वित्तवर्ष 2021-22 के लिए कोविड रिज़र्व के तौर पर 165 करोड़ रूपये अलग रखे हैं जो पिछले साल 41 करोड़ रूपये थे।

Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

रेलवे स्पोर्ट्स प्रमोशन बोर्ड ने प्रशिक्षण शिविर के लिए चयन समिति का गठन किया