वरुणा ग्रुप ने भारत के लॉजिस्टिक्स और वेयरहाउसिंग सेक्टर में 25 साल पूरा

◆ ऑर्गनाइजेशन का लक्ष्य मौजूदा 1.2 मिलियन वर्ग फुट के वेयरहाउस की क्षमता को तीन गुना करना और मल्टी यूजर फैसिलिटीज (MUFs) लॉन्च करना है।

◆ वर्तमान के 15-20% सीएजीआर (CAGR) को 20-25% बनाने के लक्ष्य के साथ देश के शेयर्ड लॉजिस्टिक्स नेटवर्क ऑपरेशन की दौड़ में सबसे आगे होने की कल्पना करते हैं। 

शब्दवाणी समाचार, मंगलवार 27 अप्रैल  2021, नई दिल्ली। भारत की अग्रणी और लीडिंग लॉजिस्टिक कंपनियों में से एक, वरुणा ग्रुप ने इंडियन सप्लाय चेन इंडस्ट्री में 25 साल पूरे कर लिए हैं। अपनी स्थापना के बाद से, कंपनी के फाउंडर्स ने ऑपरेशनल एक्सीलेंस को प्राथमिकता दी है, जो ग्राहक-केंद्रितता, पारदर्शिता और टेक्नोलॉजी-फर्स्ट एप्रोच के माध्यम से निरंतर सुधार के लिए जारी है।

1996 में स्थापित, वरुणा समूह की स्थापना दो भाइयों श्री विकास जुनेजा और श्री विवेक जुनेजा द्वारा बरेली में की गई थी। केवल दो ट्रकों के साथ संचालन शुरू करने के बाद, कंपनी आज सप्लाय चेन लीडर्स के लिए पसंदीदा पार्टनर के रूप में उभरी है, जो अपने एंड-टू-एंड लॉजिस्टिक्स ऑपरेशन के कुशल प्रबंधन के लिए उन पर भरोसा करते हैं और उत्पादों की इफेक्टिव लैंडेड कॉस्ट को कम करते हैं। बिजनेस की दो प्रमुख पंक्तियों - लॉजिस्टिक्स और वेयरहाउसिंग के साथ काम करते हुए, वरुणा समूह देश के सबसे बड़े ड्राय कार्गो कंटेनर में शामिल है, जिसमें 1800+ वाहन शामिल हैं, जो एक मजबूत डिजिटल इंफ्रास्ट्रक्चर द्वारा संचालित हैं। यह पूरे भारत में 25+ वेयरहाउसिंग सुविधाओं का प्रबंधन करता है, जो कुल 1.2 मिलियन वर्ग फुट के क्षेत्र में फैला हुआ है।

आज के वक्त में काम करने वाले संगठन के रूप में करुणा समूह, शिपमेंट के रियल टाइम ट्रैकिंग के जरिए सप्लाई चेन की क्षमता को बढ़ाने के लिए डिजिटल तकनीकों का उपयोग कर रहा है। इसके जरिए डेस्टिनेशन पर तेजी से और सुरक्षित डिलीवरी सुनिश्चित होती है। इसने अपने ग्राहकों को निरंतर सेवा का अनुभव सुनिश्चित किया है। इंडियन लॉजिस्टिक इकोसिस्टम में एक विश्वसनीय खिलाड़ी होने के नाते ऑपरेशनल बेंचमार्क स्थापित करने के लिए पहचाने जाने वाला वरुणा ग्रुप एक मजबूत नैतिक आचार संहिता का पालन करता है जो सभी स्टेकहोल्डर्स के लिए उचित और उच्च गुणवत्ता के अनुभव में तब्दील हो जाता है, चाहे वह ग्राहक हों या कर्मचारी। कंपनी अपने कर्मचारियों को व्यापक प्रशिक्षण, सलाह, गुणवत्ता के बुनियादी ढांचे और एक संपन्न कार्यस्थल के रूप में निरंतर सहायता प्रदान कर रही है ताकि उन्हें अपना बेहतर देने के लिए प्रेरित किया जा सके।

मैनेजिंग डायरेक्टर और फाउंडर विवेक जुनेजा ने अपनी यात्रा पर विचार करते हुए कहा, "बीते 25 सालों से एक्सीलेंस डिलिवर करने के लिए वरुणा ग्रुप ने अपने ग्राहकों और उद्योग की मांगों के अनुसार खुद को अडॉप्ट किया है। इस क्षमता को हासिल करने में हमारी मदद करने वाले प्रमुख कारणों में से एक ऑटोमेशन और टेक्नोलॉजी में हमारा निवेश है। उदाहरण के लिए, हम पॉलिगन जियोओफेंसिंग के जरिए लगातार अपने ड्राइवर्स की निगरानी कर रहे हैं और उन्हें एक समर्पित ड्राइवर एप्लिकेशन के माध्यम से मॉनिटर कर रहे हैं। चूंकि गाड़ियों के समूह को लॉजिस्टिक्स इंडस्ट्री की रीढ़ माना जाता है, इसलिए हम ओईएम के साथ साझेदारी करके उनके पारंपरिक और भविष्य कहे जाने वाले रखरखाव पर जोर देते हैं। 

पिछले 25 वर्षों में वरुणा ग्रुप ने एफएमसीजी, इलेक्ट्रिकल, फार्मा, केमिकल, एफएंडबी, रिटेल, ऑटो एंड टायर और एफएमसीडी जैसे उद्योगों में अब तक 500+ व्यवसायों को पूरा किया है। 2007 में प्रति वर्ष 16 मिलियन टन कंसाइनमेंट देने से, 2021 में लॉजिस्टिक कंपनी 436 मिलियन टन देने तक बढ़ी है। 2020 में COVID-19 महामारी के दौरान, कंपनी ने अपने उत्पादों के लिए आवश्यक वस्तुओं का प्रबंधन और वितरण करने के लिए अपना संचालन जारी रखा। कंपनी और भी बेहतर तरीके से तैयार है और इस तरह की चुनौती फिर से पैदा होने पर देश को आगे बढ़ाने के लिए अपने संसाधनों को तैयार कर रही है।

एफीशिएंट सप्लाई चेन्स के निर्माण में निवेश के अलावा, वरुणा ग्रुप ने प्रभाव के साथ संतुलित विकास किया है। कंपनी का उद्देश्य हमारे समुदायों और पर्यावरण में एक पॉजिटिव फुटप्रिंट छोड़ना है। सामाजिक रूप से जागरूक कंपनी 2013 से विभिन्न सीएसआर इनीशिएटिव्स के माध्यम से एक स्थायी भविष्य का निर्माण करने का प्रयास कर रही है। इसने हाल ही में गर्ल चाइल्ड एजुकेशन को स्पॉन्सर करके और अपनी टीम के सदस्यों की बेटियों की उच्च शिक्षा के लिए छात्रवृत्ति प्रदान करके अपने प्रयासों को केंद्रित किया है। आने वाले वर्षों में, कंपनी की योजना है कि प्रमुख औद्योगिक और महानगरीय स्थानों में मल्टी-यूजर वेयरहाउस फैसिलिटी की स्थापना की जाए और निकट भविष्य में भारत के लीडिंग शेयर्ड लॉजिस्टिक्स नेटवर्क ऑपरेटर के रूप में उभरने वाली अपनी वेयरहाउसिंग सेवाओं का विस्तार किया जाए। 


Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

रेलवे स्पोर्ट्स प्रमोशन बोर्ड ने प्रशिक्षण शिविर के लिए चयन समिति का गठन किया