हरियाणा के एक मात्र दलित मठ पर BJP सांसद का कब्जा

शब्दवाणी समाचार, शनिवार 3 अप्रैल  2021(मोहम्मद जोशी) नई दिल्ली। हरियाणा में एक मात्र दलित मठ पर BJP सांसद का कब्जा यह आरोप पूर्व सांसद डॉक्टर उदित राज ने संवाददाता सम्मेलन में लगाया आगे उन्होंने बताया अत्तीत में गौरखनाथपीठ से जुड़े बाबा मस्तनाथ ने जिला रोहतक में पीठ की स्तापना किया। उन्होंने 3 वारिश बनाये उसमें ओधड़ पीर बबब सुरतनाथ एक थे जो दलित समाज से आते थे। तीनो को बराबर का अधिकार दिया।  जिसमें 900 बीघा जमीन है। 

आरएसएस/बीजेपी सांसद बालक नाथ पुरे सम्पत्ति पर कब्जा करना चाह रहे हैं यह आरोप पूर्व सांसद डॉक्टर उदित राज और मिशन एकता परिषद की अध्यक्षा कांता आलड़िया और दलित मठ के वर्तमान मठ महंत रमेश नाथ ने लगाते हुए आगे कहा वर्तमान में बाबा रमेश नाथ बाबा सूरत नाथ की गद्दी पर हैं। इनको डरा कर भगाने और मठ पर कब्जा करने का षड्यंत हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खटटर की सरकार और आरएसएस/बीजेपी सांसद बालक नाथ मिलकर कर रहे हैं। इसके विरोध में दलित की बेटी मिशन एकता परिषद की अध्यक्षा कांता आलड़िया अपनी जान को जोखिम में डालकर मठ के लिए लड़ रही हैं। 

30 मार्च को अम्बेडकर चौक रोहतक पर मिशन एकता परिषद की अध्यक्षा कांता आलड़िया ने बड़ी पंचायत कर प्रशासन से बात किया तब प्रशाशन ने निर्णय किया प्रशासन 31 मार्च को तथ्यों के आधार पर फैसला देगा। मिशन एकता परिषद की अध्यक्षा कांता आलड़िया और दलित के वर्तमान महंत रमेश नाथ ने प्रेस को सम्बोधित करते हुए कहा बीजेपी के सांसद बालकनाथ पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा बीजेपी सांसद दलित मठ पर अबैध कब्जा करने की कोशिश की जा रही है। आगे कहा महंत रमेश नाथ चेला महंत शीशराम चेला महंत मामनाथ महंत डेरा बाबा सूरत नाथ ओधड़ पीर स्थल बोहर रोहतक वर्तमान में दलित मठ में गद्दीनशीन है। 3 जुलाई 2016 को महंत श्री रामनाथ की स्वर्गवास उपरान्त परम्परागत तरिके से विधिवत उनका चेला होने के नाते बाबा रमेशनाथ को उत्तराधिकारी वर्ष 2016 में ही कर दिया था। 

कांता आलड़िया ने आगे बताया 3 मई 20 की रात को कुछ अपराधियों द्वारा मठ में बनी समाधियों को नुक्सान पहुंचाया गया इसमें महंत रमेश नाथ और उनके अनुयाइयों के साथ साथ मठ के गहरी आस्था रखने वाले लाखों लोगों की भावना को गहरी ठोस पहुंची। इस मामले की शिकायत के बावजूद अब तक सरकार और प्रशासन द्वारा कोई कार्यवाही नहीं किया गया।  वहीं महंत रमेशनाथ ने कहा डेरे के नाम पर पहले बड़े पैमाने पर धांधली की गई है जिसकी जांच किसी स्वतंत्र जांच संस्था से करवानी चाहिए। कियोंकि अपराधियों द्वारा मठ में तोड़ फोड़ की घटना को अंजाम दिया गया, मठ में समाधियों को नुक्सान पहुंचाया गया, शिकायक के बावजूद कोई कार्यवाही नहीं हुई इससे लगता है की इसमें सरकार और प्रशासन की मिली भगत से सब कुछ हो रहा है।

Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

उप प्रधानाचार्य प्रशासनिक अनियमितताएं और भ्र्ष्टाचार में लिप्त, मुख्य अधिकारी नहीं ले रहे संज्ञान