मै अभी बहुत ही व्यस्त हूँ आप अपनी रक्षा सुरक्षा स्वयं करे : खबरी लाल

शब्दवाणी समाचार, शनिवार 24 अप्रैल  2021(विनोद तकिया वाला) नई दिल्ली। 

मेरे प्रिय देश वासियो,

मै प्रजातंत्र के प्रहरी के रूप मे थोडा व्यस्त हूँ ' आप सभी त्रस्त होगे ' राजनेता अपने राजधर्म व सत्ता की कुर्सी पर आसीन होने के लिए दिन रात तावड तोड चुनावी जन सभाओ व रोड शो मशगुल है। आपकी कुशलता मेरी कामनाऍ व मनोकामनाएँ  है, मै देश का प्रधान सेवक हूँ । क्योंकि ना ही खाऊँगा . ना ही किसी को खाने दुँगा ।

माँ भारती की महानता हमारी रोम - रोम मे रचा बसा है। आज की विषम परिस्थितियो मे आप सभी सामाजिक दुरियाँ बनाने रखे लेकिन मै थोडी चुनावी सभा व गैर भगवा शासित राज्य मे फुल की सरकार बनाने मे ऐन कैन प्रकारण रण नीति बनाने मे थोडा व्यस्त हूँ । लेकिन  देश भक्ति की आन , बान व शान है ' मै व मेरी सरकार तन मन धन से माँ - भारती की सेवा मे दिन रात लगे है . आप अपनी व अपने मित्र परिजन की रक्षा सुरक्षा स्वयं करे यह आप जागरूक नागरिक की परम कर्तव्य है । इन दिनो हिदुओ के नवरात्रे और मुस्लिम भाई के पवित्र माहे रमज़ान चल है वही दुसरी साधु संत समाज के विभिन्न अखाडे अपनी संत समाज के देव भुमि हरिद्वार ने महाकुम्म मेला शाही स्नान अपने असंख्य श्रदालुओ के संग बढ चढ कर डुबकी लगा रहे है। परिणाम तो अति आने वाले समय मे पता चलेगा । इसकी एक झलक 50 से अधिक संतो की असमायिक मृत्यु है।

कई राज्यो मे दिन प्रति दिन संक्रमण की बढ़ते आकडे व आवश्यक संसाधनो ' अस्तपताल मे बेडो की कभी ' ऑक्सीजन का आभाव . रेडिमीसर की काला बाजारी ' कोरोना वैक्सीन की कमी,कोरोना मृत्य शवो के लिए अन्तिम दाह संस्कार के लिए भी घंटो का इतजार ' कब्रितान भुमि मे जगह की कभी '  से किसी से आज छुपी नही है ।

ऐसी विषम परिस्थित मे राज्यो की सरकारे अपने सीमित संसाधन से कोरोना जैसी वैशिवक संकट से एक तरफ जुझ रही है ' केद्र की सबसे प्रचंड बहुमत की बर्तमान  की सरकार ' जो सदन मे  चुटकी बजाते ही संविघान  मे संसोधन कर नये कानुन अपने मन माफिक बिल पास कानून बनाने माहिर है। डबल ईजन की सरकार बनाने की दिन रात भीख माँग रही है।

जिस राज्य मे उत्तराखण्ड डबल ईजन की सरकार है बहाँ महाकुम्भ मेले  आयोजित हो रही है. भले ही राज्य के मुख्य मंत्री कोरोना संक्रमित है। उत्तर प्रदेश जहाँ अगले वर्ष विधान सभा के चुनाव होने वाली है वहाँ के मुख्य मंत्री  आदित्य नाथ योगी जी पं बंगाल की चुनाव रैली अपना सैमी फाईनल मे दो - दो हाथ अजमा रहे है कि कैसी मतदाताओ को धर्म का अफीम खिला कर रिझाये जाते है ' ताकि पुनः राज्य सता के सिंघासन पर आसीन  हो सके।

हाँ भले ही इस चुनाव समर के रण भुमि मे कोरोना रूपी काले कोबरे के दन्श से नही बच पाये । 

अपने घर वापसी कर अपने को कोरा न्टेग कर अपने निवास स्थान से ही पंचायती चुनाव मे अपनी मन मोहनी मुस्कान व ओजस्वी वाणी से जीत के ताने वाने बुनने मे व्यस्त है । कई राज्यो या तो लॉक डान की घोषणा हो चुकी है .लॉक डाउन के दलहीज पे आज खडा है ।  अगर पूर्ण लॉक डान पुरे देश मेहुआ तो भूख से तड़पे देशवासियों की भयावह तस्वीर की कल्पना भी डरावनी लग रही है।

अभी इलाहाबाद के उच्च न्यायालय ने अपने एक आदेश मे उतर प्रदेश के सरकार को राज्य पाँच संक्रमित जिले जहाँ पर कोरोना संक्रमित की संख्या अधिक है वहाँ पर पूर्ण लॉक डान लगाने का आदेश दिया है ' लेकिन राज्य के मुख्य मंत्री ने उच्च न्यायालय के आदेश को मनाने से इन्कार कर दिया है राज्य मे पूर्ण लॉक डान लगाना सम्भव नही है। राज्य सरकार ईलाहावाद उच्च न्यायालय के फैसले के खिलाफ सवोच्च न्यायालय मे जाने का फैसाला कर लिय  है।

मै आप सभी को नवरात्रे और रमज़ान के पावन अवसर पर   मुबारकबाद देते हुए कोरोना महामारी से बचने के लिए संयम से रहने की अपील करते है। आप व हम सभी को समझना जरूरी है कि जान है तो जहान है। इसलिए हमे सभी कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करें। नमाज़ व पूजा अर्चना अपने अपने घरों में करें। अगर ऐसा नहीं किया गया तो कोरोना से बचाव के लिए सरकारें लॉक डाउन जैसे सख्त कदम उठाने पर मजबूर हो सकती है।

दिल्ली में एक हफ्ते के पूर्ण लाँक डान की घोषणा हो चुकी है।  पहले ही बेरोज़गारी का संकट मौजूद है अगर पिछले वर्ष की तरह सम्पूर्ण देश मे पूर्ण लॉक डाउन हो गया तो देश में हाहाकार मच जाएगा । विगत बीते साल की तरह इस बार जनसामान्य की मदद के लिए दानी लोग बाहर नहीं आ पाएंगे क्योंकि कोरोना काल ने उनकी कमर भी तोड़ दी है। उन्होंने कहा कि सबको अपनी धार्मिक आस्थाओं पर चलने का पूरा हक है लेकिन कोरोना फैलाने का हक किसीको नहीं है। इसलिए धार्मिक स्थलों की भीड़भाड़ से बचना ज़रूरी है।

शवदाहगृह और कब्रिस्तान अंतिम यात्रा के लिए छोटे पड़ गए हैं। अस्पताल भर चुके हैं। वेंटीलेटर की कमी जग जाहिर है। मंहगे इलाज भी उपलब्ध नहीं हैं। इसलिए  बचाव में सुरक्षा है। बाजार में  भीड़ न बाधाएं। निश्चित दूरी का सख्ती से पालन करें। हर व्यक्ति का जीवन उसके परिवार और देश के लिए ज़रूरी है।चुनाव वाले राज्यों में तेज गति से कोरोना महामारी अपने पांव पसार रही है इसलिए चुनाव आयोग का कर्त्तव्य है कि वह चुनाव रैलियों को तुरंत प्रभाव प्रतिबंधित कर दे। जो रैली करे और कोरोना प्रोटोकॉल का पालन न करे उस पर भारी जुर्माना लगाए । ऐसे करने वालों पर सख्त की घोषणा करे। पं० बंगाल की मुख्य मंत्री ममता दीदी ने चुनाव आयोग से राज्य के विघात सभा शेष चुनाव एक दिन मे सम्पन्न कराने की अपील की थी जिसे चुनाव आयोग द्वारा अस्वीकार कर दिया गया !

हाँलाकि राहुल गाँधी ने कोरोना महामारी के कारण चुनावी दौरा ना करने की घोषणा कर दी है. जिसे ममता दीदी ने भी स्वीकार करते हुए अपनी चुनावी दोरे व रोड शो के कार्यक्रम मे कमी व परिवर्तन की घोषणा कर दी  लेकिन केद्र मे सतारूढ भाजपा के सभी नेता ने अपनी पूर्ण शक्ति चुनाव के समर झोक दिया है।  ऐसा कोई काम न करें जिससे कोरोना प्रोटोकॉल का उल्लंघन हो। अब तो जनता ने ये दबी जुवान मे कहने लगी है कि अगर कोरोना जैसी वैश्विक महामारी से छुटकारा पाना है तो पुरे देश चुनाव की तारीख की घोषणा कर  फुल यज्ञ का शुभ शुभारम्भ कर दे . जहाँ सभी भगवा दल के नेता कोरोना को समुल्य नष्ट कर देगे

इसी बीच थोडी सी राहत भरी खबर आपके खबरी लाल ले कर आया है कि आगामी 1 मई से देश के 18 बर्ष के सभी को कोरोना की बैक्सीन लगा वाने की इजाजत दे दी गई है। बैक्सीन र्निभाता अपने उत्पाद का 50% केद्र सरकार तथा शेष 50% अब राज्य सरकार व खुले बाजार  बैकसन र्निमाताओ से सीधे कोरोना की बैक्सीन खरीद सकते है । अभी तक बैंकसीन लेने की पात्रता 45 वर्ष से अधिक आयु वाले ही थे ।

इस शुभ समाचार के साथ आप सभी बिदा लेते का समय आ गया है। तब तक - " ना ही किसी से दोस्ती , ना ही किसी से बैर। खबरी लाल तो मांगे सबकी खैर। फिर आप से मिलेगे  तीरक्षी नजर से तीखी खबर के साथ।

अभी अलविदा।

Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

बिल्कुल देसी वीडियो कंटेंट प्लेटफार्म ट्रेलर ने 20 मिलियन नए यूज़र दर्ज किए

रीढ़ (स्पाइन) संबंधी बीमारी महामारी की तरह फैल रही है : डा. सतनाम सिंह छाबड़ा