डिमांड बढ़ने से सोने की कीमतों में तेजी जारी

शब्दवाणी समाचार, शुक्रवार 21 मई  2021मुंबई। पीली धातु की सेफ हैवन डिमांड बढ़ने के कारण सोने की कीमतों में तेजी जारी है, जबकि बुधवार के कारोबारी सत्र में कच्चे और बेस मेटल जैसी जोखिम भरी संपत्तियों में भारी गिरावट आई है। विकसित देशों में मुद्रास्फीति की चिंता, एशिया में बढ़ते कोविड के मामले, लॉकडाउन के कारण तेल की मांग में गिरावट की संभावना कमोडिटी बाजारों को अस्थिर कर रही है। यूएस एनर्जी इंफॉर्मेशन एडमिनिस्ट्रेशन (ईआईए) के आंकड़ों के अनुसार गैसोलीन इन्वेंट्री में 2.0 मिलियन बैरल से अधिक की गिरावट आई, जो अपेक्षित 0.9 मिलियन बैरल की गिरावट को पार कर गई, जबकि क्रूड इन्वेंट्रीज में 1.3 मिलियन बैरल की वृद्धि हुई। रिपोर्टों ने ओपेक देश के परमाणु हथियारों में प्रगति को सीमित करने के लिए अमेरिका और ईरान की डील में डेवलपमेंट का सुझाव दिया। 

यदि अमेरिका और ईरान के बीच संबंध सुधरते हैं और अमेरिका ईरान पर प्रतिबंध हटाता है तो यह वैश्विक तेल आपूर्ति में इजाफा कर सकता है जिससे कीमतों पर और दबाव पड़ा। अमेरिका और यूरोपीय अर्थव्यवस्थाओं में फिर से गतिविधियां शुरू होने के बाद कच्चे तेल की मांग में सुधार को लेकर आशावाद पर सप्ताह के शुरू में तेल की कीमतों को कुछ समर्थन मिला। पीली धातु की सेफ हैवन डिमांड बढ़ने के कारण सोने की कीमतों में तेजी जारी है, जबकि बुधवार के कारोबारी सत्र में कच्चे और बेस मेटल जैसी जोखिम भरी संपत्तियों में भारी गिरावट आई है। विकसित देशों में मुद्रास्फीति की चिंता, एशिया में बढ़ते कोविड के मामले, लॉकडाउन के कारण तेल की मांग में गिरावट की संभावना कमोडिटी बाजारों को अस्थिर कर रही है।

सोना: 

एंजल ब्रोकिंग लिमिटेड के नॉन एग्री कमोडिटी एंड करेंसी रिसर्च एवीपी श्री प्रथमेश माल्या ने बताया कि कल के कारोबारी सत्र में स्पॉट गोल्ड 0.07 प्रतिशत की मामूली बढ़त के साथ 1869.6 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुआ, क्योंकि गिरते वैश्विक शेयर और बढ़ती मुद्रास्फीति की चिंताओं ने सोने की कीमतों को कम कर दिया; हालांकि, यू.एस. फेडरल रिजर्व की हालिया पॉलिसी बैठक के मिनट्स से पहले निवेशक सतर्क रहे। यूएस फेड के अधिकारियों ने कहा कि मौद्रिक नीति में कोई भी समायोजन उनके लेबर मार्केट में पूरी तरह से रिकवरी और लंबी अवधि के लिए उच्च मुद्रास्फीति के आंकड़ों के बाद ही होगा। संभावित मुद्रास्फीति पर दांव लगाने और गिरते डॉलर के बावजूद बुलियन धातु की कीमतों पर सप्ताह के शुरू में दबाव बना रहा क्योंकि अमेरिकी ट्रेजरी यील्ड में सुधार हुआ जिसने निवेशकों को गैर-ब्याज वाले सोने से दूर कर दिया।

कच्चा तेल:

कल के सत्र में डब्ल्यूटीआई क्रूड की कीमतें 3.2 प्रतिशत से अधिक गिरकर 63.4 डॉलर प्रति बैरल पर बंद हुईं क्योंकि एशिया में कोविड-19 वायरस संक्रमित मामलों में वृद्धि के साथ मुद्रास्फीति के संकट ने वैश्विक तेल बाजार के लिए आउटलुक को कमजोर किया। कई क्षेत्रों में महामारी के बढ़ते मामलों और सख्त लॉकडाउन की वजह से कम खपत और भारत के औद्योगिक खंड की गिरती मांग के कारण तेल की कीमतों में काफी गिरावट आई। यूएस गैसोलीन इन्वेंट्री में अपेक्षित से अधिक विड्रॉल और यूएस क्रूड इन्वेंट्री में अपेक्षित से कम वृद्धि होने से तेल की कीमतों में गिरावट सीमित रही।

यूएस एनर्जी इंफॉर्मेशन एडमिनिस्ट्रेशन (ईआईए) के आंकड़ों के अनुसार गैसोलीन इन्वेंट्री में 2.0 मिलियन बैरल से अधिक की गिरावट आई, जो अपेक्षित 0.9 मिलियन बैरल की गिरावट को पार कर गई, जबकि क्रूड इन्वेंट्रीज में 1.3 मिलियन बैरल की वृद्धि हुई। रिपोर्टों ने ओपेक देश के परमाणु हथियारों में प्रगति को सीमित करने के लिए अमेरिका और ईरान की डील में डेवलपमेंट का सुझाव दिया। यदि अमेरिका और ईरान के बीच संबंध सुधरते हैं और अमेरिका ईरान पर प्रतिबंध हटाता है तो यह वैश्विक तेल आपूर्ति में इजाफा कर सकता है जिससे कीमतों पर और दबाव पड़ा। अमेरिका और यूरोपीय अर्थव्यवस्थाओं में फिर से गतिविधियां शुरू होने के बाद कच्चे तेल की मांग में सुधार को लेकर आशावाद पर सप्ताह के शुरू में तेल की कीमतों को कुछ समर्थन मिला।

Comments

Popular posts from this blog

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

उप प्रधानाचार्य प्रशासनिक अनियमितताएं और भ्र्ष्टाचार में लिप्त, मुख्य अधिकारी नहीं ले रहे संज्ञान

रेलवे स्पोर्ट्स प्रमोशन बोर्ड ने प्रशिक्षण शिविर के लिए चयन समिति का गठन किया