मानसून और गैर-कोविड रोग। इनसे कैसे बचा जाए?

शब्दवाणी समाचार, वीरवार 1 जुलाई 2021, (लेख प्रिवेंटिव हेल्‍थकेयर स्‍पेश्‍यलिस्‍ट सुश्री कंचन नायकावाड़ी) नई दिल्ली। भारत की चिलचिलाती गर्मी लोगों को परेशान कर देती है और वे इससे राहत पाने के लिए बारिश का इंतजार करते हैं। भारत में धूप के दिनों में अक्सर नमी होती है। एयर कंडीशनर के अभाव में लोग पसीने से तरबतर हो जाते हैं और उनकी रातों की नींद हराम हो जाती है। और कई लोगों को तो निर्जलीकरण (डिहाइड्रेशन) के कारण थकान हो जाती है। इसलिए जब मानसून की पहली बारिश धरती को गीला करती है, तो यह एक उत्सव बन जाता है।

मानसून का मौसम भारत के उष्णकटिबंधीय देश के लिए अद्वितीय है और यह प्रकृति में हरियाली और मनोरम दृश्‍यों को लेकर आता है। यह वह समय है जब वनस्पति और जीव पनपते हैं, खासकर वन क्षेत्रों में। इसके अलावा,  इसका भारी बारिश वाला मौसम एक किसान की जीवन शैली के लिए बेहद फायदेमंद होता है, जिसकी आय का प्राथमिक स्रोत कृषि है। भारत में बारिश का मौसम तब होता है जब विभिन्न समुदाय भगवान से आशीर्वाद लेने के लिए अपनी फसल का जश्न मनाते हैं। ऐसा ही एक महत्वपूर्ण त्योहार बेहदीएनखलम है। यह जुलाई के महीने में मेघालय में मनाया जाने वाला एक वार्षिक सफाई अनुष्ठान है।  मेघालय भारत में सबसे भारी वर्षा का घर है। बेहदीएनखलम  नाम का शाब्दिक अनुवाद है 'हैजा (कॉलरा) के दानव का पीछा करना'।

यह हमें इस तथ्य से रूबरू कराता है कि मानसून अपने आकर्षण और आभा के साथ कई बीमारियों को भी साथ लाता है, यहां तक कि संक्रामक बीमारियों को भी। इसलिए इस मौसम में अत्यधिक सतर्क रहने और बारिश की सुंदरता का आनंद लेने की अनुशंसा की जाती है। आखिरकार, रोकथाम इलाज से बेहतर है। नीचे कुछ बीमारियां दी गई हैं जो बारिश के मौसम में मनुष्य को प्रभावित करती हैं। साथ ही आपकी इम्‍युनिटी को सर्वोपरि रखने के तरीकों के बारे में भी बताया गया है। भोजन और जल जनित रोग: स्वस्थ रहने के लिए ताजा पका हुआ घर का खाना खाना सबसे अच्छा है। उबला या शुद्ध पानी पीना जरूरी है।  बार-बार हाथ धोना न भूलें।

अगर उचित स्वच्छता नहीं रखी जाती है तो हेपेटाइटिस ए, हैजा, टाइफाइड और डायरिया होना आम है। दूषित पानी और अशुद्ध परिस्थितियों में बना जंक फूड पीने से भी आपके शरीर पर असर पड़ सकता है। पेट से संबंधित समस्याएं और बुखार और हेपेटाइटिस ए के कुछ मामलों में, एक्‍यूट लिवर फेलियर इस मौसम में निवारक नहीं होने के गंभीर प्रभाव हैं।

मलेरिया और डेंगू : भारी बारिश के कारण अलग-अलग इलाकों में पानी जमा हो जाता है, जो समय के साथ ठहर जाता है। यह मच्छरों के लिए सही प्रजनन स्थल के रूप में कार्य करता है जो मलेरिया, डेंगू, चिकनगुनिया जैसी बीमारियों को आमंत्रित करता है। डेंगू आपके ब्लड प्लेटलेट काउंट को कम कर देता है जो अगर समय पर रोका नहीं गया तो घातक हो सकता है। मॉस्किटो रेपेलेंट, जाल कीट से बचने का एक तरीका है और शाम से पहले दरवाजे, खिड़कियां बंद करके उन्हें दूर रखा जा रखा सकता है। अपने पौधे के बर्तनों को खाली कर दें और अपने घर में पानी जमा न होने दें।

कॉमन फ्लू और वायरल फीवर: ये हवा से फैलने वाली बीमारियां आमतौर पर पूरे साल होने वाली बीमारियां हैं। हालांकि, मानसून के दौरान, इसमें तेजी से वृद्धि होती है। हवा में नमी की मात्रा अधिक होने के कारण सूक्ष्म जीवों को बढ़ने के लिए उपयुक्त वातावरण मिलता है, जिसके परिणामस्वरूप अधिक संक्रमण होता है। कुछ लक्षणों में बुखार, गले में खराश, नाक बहना, आंखों से पानी आना आदि शामिल हैं।

बारिश में बाहर जाने देने और भीगने का विचार कितना भी रोमांटिक क्यों न लगे, पर ऐसा न करना ही बुद्धिमानी है।

बाहर निकलते समय बारिश से बचाव के उपाय जैसे छाता, रेनकोट आदि का प्रयोग करें। बैक्टीरिया एवं वायरल संक्रमण को रोकने के लिए गंदे पानी के पोखरों में न जाएं। अपने जूते, मोजे, कपड़े आदि हमेशा बदलते रहें।

जब आप बरसात के दिनों में बाहर से घर लौटते हैं तो कीटाणुओं को खत्म करने के लिए गर्म पानी से स्नान करें।

स्वस्थ भोजन करना महत्वपूर्ण है: जैसा कि पहले उल्लेख किया गया है, कई बीमारियों से बचने के लिए ताजा और स्वच्छ भोजन का सेवन करना जरूरी है। सेब, जामुन, लीची, आलूबुखारा, चेरी, आड़ू, पपीता, नाशपाती और अनार जैसे 'मौसमी फल'  खाएं जो आपकी इम्‍युनिटी को बेहतर बनाने के लिए बरसात के मौसम में आपकी डाइट में कुछ बेहतरीन सप्‍लीमेंट्स हैं। इसके अलावा, स्वस्थ और पौष्टिक सूप लें, तले हुए स्नैक्स की जगह बेक्ड लाइट बाइट्स जैसे भुट्टा, डिमसम, स्प्राउट्स भेल लें। यह सूजन से बचने में मदद कर सकता है। नींबू, शहद, अदरक, लौंग, इलायची, दालचीनी, तुलसी आदि से बने काढ़े के साथ हर्बल चाय पीकर अपने शरीर को फिर से जीवंत करें।

इन सबके साथ हमें यह भी याद रखना होगा कि कोविड-19 अभी भी मौजूद है। कई विशेषज्ञों और महामारी विज्ञानियों का सुझाव है कि बारिश के मौसम में महामारी के मामलों की संख्या में वृद्धि हो सकती है। इसलिए यह सुनिश्चित करें कि जब तक बिल्कुल आवश्यक न हो, आप बाहर निकलने से बचें। पौष्टिक खाना खाएं और अपनी इम्युनिटी बढ़ाएं। अपने मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य को नियंत्रण में रखने के लिए व्यायाम और प्राणायाम करें। यह सुनिश्चित करने के लिए कि आपने अपने स्वास्थ्य को ठीक करने के लिए सभी जरूरी उपाय किए हैं, जल्द से जल्द फुल बॉडी चेकअप कराएं।

Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

बिल्कुल देसी वीडियो कंटेंट प्लेटफार्म ट्रेलर ने 20 मिलियन नए यूज़र दर्ज किए

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता