भारतीय विद्यार्थियों ने इंग्लैंड में यात्रा की सीमाओं में बदलावों का किया स्वागत

शब्दवाणी समाचार, वीरवार 12 अगस्त 2021मुंबई। भारतीय छात्र संगठनों और अंग्रेजी शिक्षकों ने गर्मजोशी से इंग्लैंड में यात्रा के प्रतिबंधों में बदलाव की खबर का स्वागत किया है, जिससे इंग्लैंड आने वाले भारतीय छात्रों के लिए क्वारंटीन होने का खर्च बचेगा। यूके सरकार के अनुसार, रविवार 8 अगस्त को सुबह 4 बजे से, भारत बहरीन, क़तर और संयुक्त अरब अमीरात के साथ इंग्लिश एम्बर यात्रा की सूची में शामिल हो जाएगा।

भारत में स्टडी ग्रुप के रीजनल डायरेक्टर, करन ललित ने कहा “हमें खुशी है कि भारत यूके की एम्बर यात्रा सूची में शामिल कर दिया गया है, जिससे टीसाइड यूनिवर्सिटी आईएससी, किंग्स्टन यूनिवर्सिटी आईएससी, हडर्सफील्ड यूनिवर्सिटी आईएससी, कोवेंट्री यूनिवर्सिटी लंदन आईएससी, और यूके में ऐसे कई अन्य अंतरराष्ट्रीय अध्ययन केंद्रों में अध्ययन करने का वित्तीय असर आसान हो जाएगा। भारतीय छात्र अब अपनी पढ़ाई और रोजगार के उन शानदार अवसरों पर ध्यान दे सकते हैं, जो स्टडी ग्रुप ने अंतरराष्ट्रीय विद्यार्थियों के लिए शुरू किया है, जैसे कि ‘जॉब रेडी’, जिससे छात्रों को सीखने के दौरान कमाई करने में मदद मिलती है और कार्यबल कौशल विकास के लिए ‘वर्चुअल इंटर्नशिप’। भारत में ब्रिटिश उच्च आयोग ने बताया कि “एम्बर सूची में होने का मतलब है कि इंग्लैंड पहुंचने वाले यात्रियों को घर पर या जिस स्थान पर वे रह रहे हैं, वहां क्वारंटीन होना होगा और जांच करवानी होगी। हम नवीनतम डेटा और सार्वजनिक स्वास्थ्य के विशेषज्ञों की सलाह के आधार पर, अंतरराष्ट्रीय यात्रा को सुरक्षित रूप से फिर से खोलने के लिए कदम उठा रहे हैं।

भारतीय छात्र संगठनों ने इन बदलावों का गर्मजोशी से स्वागत किया, जैसे कि यूके के सबसे पुराने और सबसे बड़े भारतीय छात्र और पूर्व छात्रों के नेटवर्क नेशनल इंडियन स्टूडेंट्स एसोसिएशन (NISAU) ने, जिन्होंने छात्र निकायों और शिक्षा प्रदाताओं के साथ ही उनके समर्थकों की “कड़ी मेहनत और भावुक समर्थन” की तारीफ की।यह उन छात्रों के लिए बहुत अच्छी खबर है जो यूके सरकार द्वारा आयोजित क्वारंटीन से संबंधित खर्चों को करने की वज़ह से स्वाभाविक रूप से इंग्लैंड की यात्रा के बारे में चिंतित थे। इन बदलावों से 'एम्बर' सूची में नामित क्षेत्रों के छात्रों को उनके घरेलू देशों में टीका लगवाने और फिर जांच करवाने और आइसोलेट होने की सुविधा मिलेगी। इस तरह से छात्रों के लिए इंग्लैंड में अपनी उच्च शिक्षा की यात्रा शुरू करने में, यह एक काफी आसान और कम खर्चीली प्रक्रिया बन जाएगी।

Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

रेलवे स्पोर्ट्स प्रमोशन बोर्ड ने प्रशिक्षण शिविर के लिए चयन समिति का गठन किया