फिल्म चेहरे की समीक्षा

(फिल्म समीक्षक रेहाना परवीन जोशी)  

शब्दवाणी समाचार, शुक्रवार 27 अगस्त 2021, नई दिल्ली। दिल्ली के PVR प्लाज़ा में कल पत्रकारों के लिए फिल्म चेहरे का प्रीमियम शो को मेने देखा यह फिल्म आज 27 अगस्त 2021 से सिनेमा घरों में अभिनीत अमिताभ बच्चन, इमाम हाशमी, रिया चकर्वर्ती, क्रिस्टल डिसूजा, अन्नू कपूर, रघुबीर यादव, धर्तिमान चटर्जी, इत्यादि प्रदर्शित होने जा रही है। यह फिल्म देखने पर अहसास कराती है भारतीय न्याय व्यवस्था कैसी है जिसमें कानून अपनी निगाह से कुछ नहीं देखती उसे जो दिखया जाता है वह सिर्फ वही देखती है चाहे दिखाने वाला न्याय दिखा रहा है या अन्याय कानून को इससे कोई सरोकार नहीं है। 

कहानी एक जज, 2 वकील आपसी दोस्त हैं सभी अपने रिटायरमेंट के बाद कुछ ऐसे केस पर विचार करती है की उस समय जो फैसला दिया वो फैसला, वो नहीं कुछ और होना चाहिए था। पर हमने फैसला जो दिया था वो जो हमें दिखाया गया था उस पर वो सही फैसला था। यह फिल्म देखने पता चलेगा फिल्म अच्छी है फिल्म शुरू से आखिर तक सस्पेंस बना रहा है। अमिताभ बच्चन के डायलॉग ने फिल्म को बांधकर रखा। लगभ्ग 139 मिनट की फिल्म में दर्शक बोर नहीं हुए।  पर इतना जरूर कहूंगी जिन दर्शकों को सस्पेंस अच्छा नहीं लगता या बगैर मारधाड़, बगैर गाने वाली फिल्म अच्छी नहीं लगती उनको यह फिल्म शायद अच्छी न लगे। फिर भी कुल मिलाकर यह फिल्म अच्छी है। सभी कलाकार, निर्देशक, संगीतकार ने दर्शकों को बाँधकर रखा है। इस फिल्म को में 5 में से 4 स्टार देती हुँ।

Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

मीडिया प्रेस क्लब का वार्षिक कलैंडर हुआ विमोचन