भारत बंद के समर्थन में ट्रेड यूनियन कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन कर दिया ज्ञापन

शब्दवाणी समाचार, मंगलवार 28 सितम्बर  2021, गौतम बुध नगर। किसान विरोधी कृषि कानूनों के खिलाफ, एमएसपी की कानूनी गारंटी के लिए, श्रम कानूनों के खात्मे के विरोध में संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा आहुत देशव्यापी भारत बंद के समर्थन में नोएडा संयुक्त ट्रेड यूनियंस मोर्चा द्वारा नोएडा हरौला लेबर चौक से जलूस निकालकर सेक्टर- 6, नोएडा पुलिस उपायुक्त कार्यालय के लिए तीनों काले कृषि कानून वापस लो, डीजल, पेट्रोल व रसोई गैस के दामों को आधा करो, श्रमिक विरोधी नए लेबर कोड़ वापस लो, बेलगाम महंगाई पर रोक लगाओ,

न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीदी की गारंटी का कानून बनाओ, कमरतोड़ महंगाई, बेरोजगारी और मजदूरों की जीविका पर हमले बंद करो, सार्वजनिक क्षेत्र के निजीकरण की नीति वापस लो, बिजली बिल 2020 वापस लो आदि नारों के साथ चला। जुलूस में मोर्चा के सभी घटक संगठनों इंटक, एटक,एचएमएस, सीटू, यूटीयूसी, टीयूसीआई,के कार्यकर्ता शामिल हुए इंटक से डॉक्टर के. पी. ओझा, एटक से नईम अहमद, एचएमएस से आर.पी. सिंह चौहान, सीटू से गंगेश्वर दत्त शर्मा, राम सागर, भरत डेंजर, विनोद कुमार, पूनम देवी, टी.यू.सी.आई. से उदय चंद्र झा, यू.टी.यू.सी. से सुधीर त्यागी, सुभाष गुप्ता, एक्टू से अमर सिंह शामिल हुए। 

पुलिस ने जुलूस को तुलसी जर्दा के सामने सेक्टर- 2, में ही बैरिकेड लगाकर रोक दिया। पुलिस द्वारा रास्ते में रोके जाने पर वही जोरदार नारेबाजी शुरू कर दी गई उसके बाद वक्ताओं ने जुलूस में शामिल लोगों को संबोधित करते हुए तानाशाह मोदी सरकार द्वारा लाए गए तीन कृषि विरोधी कृषि कानूनों एवं मजदूर विरोधी चार श्रम कोड़ तथा देश के सरकारी व सार्वजनिक क्षेत्र के निजी करण करने व उसे ओने पौने दामों में बेचे जाने की सरकार के फैसलों की कड़ी निंदा की तथा किसान विरोधी कृषि कानूनों व मजदूर विरोधी चार श्रम कोड़ों को वापस लेने हेतु प्रदर्शन स्थल पर ही पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों को प्रधानमंत्री भारत सरकार एवं मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश सरकार को संबोधित ज्ञापन सौंपा।

Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

उप प्रधानाचार्य प्रशासनिक अनियमितताएं और भ्र्ष्टाचार में लिप्त, मुख्य अधिकारी नहीं ले रहे संज्ञान