डॉलर के मजबूत होने से सोना प्रभावित हुआ

 चीन में ऊर्जा के उपयोग में वृद्धि से तेल और बेस मेटल्स के डिमांड आउटलुक पर असर पड़ा

शब्दवाणी समाचार, शुक्रवार 8 अक्टूबर  2021, नई दिल्ली। मंगलवार को, स्पॉट गोल्ड 0.92 प्रतिशत की गिरावट के साथ 1733.7 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुआ, क्योंकि अमेरिकी केंद्रीय बैंक की ओर से तेजी से रुख की उम्मीद ने सर्राफा धातुओं पर दबाव जारी रखा। अमेरिकी फेडरल रिजर्व ने हालिया पॉलिसी मीटिंग में मौद्रिक नीति को अपरिवर्तित रखा, ब्याज दरों में उम्मीद से पहले बढ़ोतरी के अनुमानों ने डॉलर और अमेरिकी ट्रेजरी यील्ड की अपील को ताकत दी और इसका असर सीधे-सीधे ब्याजरहित सोने की कीमतों पर दिखा।  अमेरिकी फेडरल रिजर्व के अधिकारियों ने कहा है कि मौद्रिक नीति का कड़ा होना अमेरिकी श्रम बाजार में निरंतर विस्तार पर निर्भर करता है। केंद्रीय बैंक की मौद्रिक नीति में बदलाव पर अधिक संकेतों के लिए निवेशक सितंबर, 21 के अमेरिकी रोजगार डेटा पर नजर रखे हैं। सितंबर'21 में, यू.एस. कंज्यूमर कॉन्फिडेंस सात महीने के निचले स्तर पर आ गया, जो अर्थव्यवस्था में मंदी की चिंताओं को दर्शाते हुए वायरस से संक्रमित मामलों में वृद्धि को दर्शाता है। डॉलर में मजबूती और अमेरिकी ट्रेजरी यील्ड में वृद्धि आज के सत्र में सोने की कीमतों पर असर जारी रख सकती है।

कच्चा तेल 

मंगलवार को डब्ल्यूटीआई क्रूड 0.2 फीसदी की गिरावट के साथ 75.3 डॉलर प्रति बैरल पर बंद हुआ था। कल के सत्र में कच्चे तेल में एक संक्षिप्त रैली के बाद नरमी आ गई क्योंकि निवेशकों की मुनाफावसूली के बीच चीन से मांग की संभावना कमजोर पड़ने से कीमतों पर दबाव पड़ा।  पिछले सत्रों में तेल ऊंचा बना रहा क्योंकि वैश्विक मांग बढ़ने की संभावनाओं के बीच आपूर्ति गड़बड़ाने से कीमतों में तेजी आई। अमेरिका से कम आपूर्ति और ओपेक के कुछ सदस्यों द्वारा कम उत्पादन ने वैश्विक तेल सप्लाई चेन को दबाव में रखा। कार्बन उत्सर्जन के स्तर को सीमित करने के प्रयास में चीन में बिजली के उपयोग की सीमाओं में वृद्धि से आर्थिक गतिविधियों में बाधा उत्पन्न हो रही है, जिससे तेल के लिए आउटलुक कमजोर हो गया है। अमेरिका से कम आपूर्ति के बीच ईंधन की बढ़ती मांग और ओपेक के कुछ सदस्य तेल की कीमतों को समर्थन देना जारी रख सकते हैं। आधिकारिक यूएस क्रूड इन्वेंट्री डेटा दिन में बाद में सामने होगा।

बेस मेटल्स 

मंगलवार को एलएमई पर औद्योगिक धातुएं मिश्रित नतीजे देकर बंद हुईं, जिसमें मजबूत अमेरिकी डॉलर की वजह से निकल में सबसे अधिक कमजोरी दिखी। चीन में ऊर्जा उपयोग की बढ़ती सीमाओं ने आधार धातुओं के लिए डिमांड आउटलुक को प्रभावित किया।  चीन की स्टेनलेस स्टील मिलों पर उत्पादन प्रतिबंधों ने निकल बाजार में धारणा को कमजोर किया है क्योंकि यह कुल निकल खपत का लगभग दो-तिहाई खपत करता है। निकल के लिए आउटलुक पॉजिटिव बना हुआ है, फिर भी चीन के स्टेनलेस स्टील के उत्पादन पर अंकुश, जो निकल की आंशिक खपत प्रभावित करता है, कीमतों पर दबाव बनाए रखे हैं।  उच्च कीमतों को कम करने के प्रयास में राज्य के भंडार से धातुओं को जारी करने की चीन की योजना ने बाजार की भावनाओं पर और दबाव डाला। इंटरनेशनल लेड एंड जिंक स्टडी ग्रुप (ILZSG) की रिपोर्ट के अनुसार, जुलाई 2021 में वैश्विक लेड बाजार घाटा 6,600 टन था, जो जून 2021 में 40,000 टन के संशोधित घाटे से कम था, जबकि वैश्विक लेड बाजार में जुलाई 2021 में 11,700 टन की कमी देखी गई, जो जून'21 में 13,400 टन थी।  

कॉपर

मंगलवार को, एलएमई कॉपर लगभग 1 प्रतिशत गिरकर 9269 डॉलर प्रति टन पर बंद हुआ, क्योंकि चीन से कमजोर डिमांड की संभावनाओं ने एक्सचेंजों में कॉपर इन्वेंट्री से जुड़ी कमी की चिंताओं को दूर कर दिया और कीमतों को कम कर दिया। सप्लाई में कमी की चिंताओं और ग्लोबल डिमांड में रिकवरी की उम्मीदों से औद्योगिक धातुओं को समर्थन मिल सकता है। हालांकि, यूएस फेड की हॉकिश अप्रौच से अमेरिकी डॉलर की बढ़ती अपील से डॉलर की कीमत वाली औद्योगिक धातुओं पर असर पड़ सकता है।

Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

उप प्रधानाचार्य प्रशासनिक अनियमितताएं और भ्र्ष्टाचार में लिप्त, मुख्य अधिकारी नहीं ले रहे संज्ञान