आइवीएफ फेल होने के बाद क्या आप नेचुरल तरीके से गर्भवती हो सकती हो ?

 

शब्दवाणी समाचार, रविवार 17 अक्टूबर  2021, नई दिल्ली। निःसंतान दंपति जानकारी के अभाव में यह सोच लेते है कि इनफर्टिलिटी को आइवीएफ से द्वारा ही ठीक किया जाता है। परंतु ऐसा बिल्कुल भी नही है, क्योंकि इसके साक्ष्य में ऐसे बहुत सारे उदाहरण है । जिन्होंने 1 नही बल्कि 4-4 बार आइवीएफ लिया है और एक बार भी उनको कंसीव नही हुआ है। आज हम बात कर रहें है, आइवीएफ फेल होने के बाद क्या कोई महिला नेचुरल कंसीव कर सकती है। इसका जबाव है जी हां। आज के समय में career के चलते अधिकांश लड़के लड़किया अधिक उम्र में शादी करते है।  जिसकी वजह से उनकी प्रजनन क्षमता (fertility) बहुत ही ज्यादा प्रभावित होती है। शादी के बाद जब वह एक दो साल तक ट्राई करते है।  और ऐसे में उनको बच्चा कंसीव (baby conceive) नही होता है।  तो उनको चिंता सताने लगती है। कि कहीं वही इनफर्टिलिटी का शिकार तो नही है। 

इनफर्टिलिटी के कौन-कौन से कारण है जो महिला को माँ बनने से रोक देते है ?

ऐसी स्थिति में जब वह डॉक्टर से संपर्क करते है तब इनफर्टिलिटी के कई कारण सामने आते है । जैसे किसी को ट्यूब ब्लॉकेज की समस्या है , hydrosalpinx problem, endometriosis, low amh , irregular period या फिर शुक्राणुओं से संबंधिक कोई न कोई परेशानी जरुर होती है। जिससे महिला को कंसीव करने में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। डायग्नोसिस (Diagnosis) का पड़ाव पूरा होने के बाद अक्सर डाक्टर पर इनफर्टिलिटी के इलाज के पायदान में आते है ।  तो पेशेंट (patient) को लेप्रोस्कोपी, आईयूआई या फिर आईवीएफ (Laparoscopy, IUI or IVF) की सलाह दे डालते है । ऐसे में दंपति को इस बात से पूरी तरह से अवगत नही कराया जाता है।  कि आईवीएफ की सफलता दर (IVF success rate) केवल 10 से 25 प्रतिशत के बीच ही है। ऐसे में आईवीएफ का फेल होना एक आम बात होती है। आईवीएफ का फेल होने के बाद डॉक्टर तरह-तरह की दालिले पेश करने लगते है।  कि आपके अंडो में क्वालिटी अच्छी नही थी, स्पर्म ठीक नही था और भी बहुत कुछ । अब फिर आते है मुख्य मुद्दे में और करते है बात कि अगर किसी कपल्स का आइवीएफ फेल हो चुका है तो क्या वहा नेचुरल कंसीव कर सकता है। आयुर्वेद चिकित्सा में ऐसे मामलो का उपचार पूरी तरह से किया जाता है। अपनी पूरी आशा, हिम्मम और विश्ववास खोने के बाद भी ऐसे बहुत सारे कपल्स है जिनका आइवीएफ फेल हो चुका था । परंतु उन्होंने आयुर्वेदिक एवं पंचकर्म थेरेपी से नेचुरल कंसीव किया है। 

आइवीएफ फेल होने के पीछे क्या है नेचुरल कंसीव करने का ट्रिक : 

नेचुरल कंसीव करने का आयुर्वेद का सबसे बड़ा सिद्धांत है, रोग की जड़ को समाप्त करना है । आखिर किस कारण से इनफर्टिलिटी पैदा हुई है। आयुर्वेद मुख्य रुप से तीन दोषों (वात दोष, पित्त दोष व कफ दोष) पर कार्य करता है। आयुर्वेदिक औषधियों एवं दिनचर्या में सुधार करके त्रिदोष का नाश करके इनफर्टिलिटी की समस्या पर काबू पाया जाता है। यह खास जानकारी आशा आयुर्वेदा की Infertility expert Dr. Chanchal Sharma से बातचीत के दौरान प्राप्त हुई है। यदि आप भी माँ बनने से वंचित रह गई तो बिना देर किए  नेचुरल तरीके से माँ बन सकती है।

Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

उप प्रधानाचार्य प्रशासनिक अनियमितताएं और भ्र्ष्टाचार में लिप्त, मुख्य अधिकारी नहीं ले रहे संज्ञान