राष्ट्रीय कुश्ती का गोल्ड जीतकर मां को समर्पित किया

 

◆ कोरोना ने छीन ली मां, फिर भी बच्चों ने नहीं हारी हिम्मत

◆ माँ की पहली पुण्यतिथि पर बेटे ने राष्ट्रीय कुश्ती का गोल्ड जीता 

शब्दवाणी समाचार, शुक्रवार 17 दिसंबर  2021, इंदौर। एक पिता जो खुद सफल पहलवान नहीं बन सका, अपनी बेटी और बेटे में सपने पूरे होते देखना चाहता है। ग्रामीण माहौल होने से घर में ही अखाड़ा बनाता है। पिता बाहरी काम काज के साथ बेटी और बेटे के ट्रेनिंग के साथ अन्य व्यवस्था करते तो उनकी माता श्रीमति अर्चना राठौर घर पर ही रह कर पहलवान बच्चो की डाइट का प्रबंध करती | इसी बीच पिछले साल 16 दिसंबर 2020 में कोरोना संक्रमण के कारण महेश और उनकी पहलवान बहन हंसाबेन राठौर की मां अर्चना राठौर का निधन हो गया। छोटे बच्चो के मन पर इसका प्रभाव पड़ा, लेकिन पिता ने मेडल जीतने के सपने को टूटने नहीं दिया। महेश और हंसा दोनों भाई - बहन भी डटे रहे और अभ्यास जारी रखा। जुनून और सफलता को लेकर सख्ती ऐसी कि माँ के निधन के बाद भी अभ्यास जारी रखा और बेटी हंसाबेन राठौर (माही) 19 से 25 जुलाई 2021 तक बुडापेस्ट (हंगरी) में आयोजित विश्व कैडेट कुश्ती चैंपियनशिप में भारत की और से चुनौती पेश कर गई | यह कहानी आमिर खान की फिल्म 'दंगल' की नहीं है। 

हिंदी सिनेमा की तरह लगने वाली यह वास्तविक कहानी है इंदौर के नजदीक देपालपुर तहसील के अनिल राठौर और उनके पहलवान बेटे महेश और बेटी हंसाबेन की। आज माँ की प्रथम पुण्यतिथि पर बेटे महेश राठौर (कान्हा) ने राष्ट्रीय कुश्ती चैंपियनशिप मे स्वर्ण पदक जीत कर पदक माँ को समर्पित किया | रांची के खेलगांव में 26 राज्योंि के 750 पहलवान रिंग में उतरे है | जबकि जूनियर पहलवानों के साथ 120 कोच और सपोर्टिंग स्टाफ भी प्रतिस्पतर्धा के दौरान मौजूद हुये |

झारखंड की राजधानी रांची में 15 से 17 दिसंबर 2021 तक चल रही अंडर-15 राष्ट्री य कुश्तीम चैंपियनशिप के 68 किलोग्राम ग्रीकोरोमन स्टाइल मे मध्य प्रदेश का प्रतिनिधित्व करते हुये कृपाशंकर पटेल खेलकुद संस्था देपालपुर के महेश राठौर (कान्हा) ने स्वर्णिम सफलता प्राप्त की है, 68 किलो ग्रीकोरोमन स्टाइल अंडर-15 मध्य प्रदेश के नंबर-1 पहलवान महेश राठौर को अपने पहले मुकाबले 1/8 फाइनल मे बाय मिली दूसरे 1/4 फाइनल मे उन्होने केरल के मिरान डोमिनिक को एकतरफा हराते हुये 1/2 सेमीफाइनल मे स्थान पक्का किया, उन्होने केरल के मिरान डोमिनिक को 0-8 की तकनीकी श्रेष्ठता से हराया | सेमीफाइनल 1/2 के फाइनल मे महेश ने धाकड़ खेल जारी रखा व छत्तीसगद के जसकरण सिंह गिल को भी 0-8 की तकनीकी श्रेष्ठता से हराते हुये फाइनल मे प्रवेश किया | फाइनल मे उन्होने उत्तर प्रदेश के गुलबहारी को 10-7 अंको के आधार पर हराते हुये इस प्रतियोगिता मे मध्य प्रदेश के लिए पहला स्वर्ण पदक जीता | कृपाशंकर पटेल खेल कूद एकादमी के संचालक महेश राठौर पहलवान के पिताजी अनिल राठौर, दादाजी शंकर लालजी राठौर व काका विनोद राठौर सहित पुरे राठौर परिवार में खुशियां छाई हुई है। महेश पहलवान की इस उपलब्धि पर देपालपुर नगर में हर्ष का माहौल है।

महेश की स्वर्णिम सफलता पर मध्यप्रदेश के विख्यात पहलवान व अर्जुन पुरस्कार विजेता कृपाशंकर बिश्नोई, मध्यप्रदेश एमेच्योर कुश्ती संघ के अध्यक्ष डॉ. मोहन यादव, सचिव सुरेश यादव, ओलंपियन पप्पू यादव, विश्वामित्र अवॉर्डी वेदप्रकाश जावला, विश्वामित्र अवॉर्डी उमेश पटेल, विश्वामित्र अवॉर्डी शाकिर नूर, अन्तराष्ट्रीय कोच वीरेन्द्र निचित, साई कोच सरवर मंसूरी, पहलवान परवेज़ खान सहित समस्त पदाधिकारियों ने बधाई दीं और आगामी होने वाली प्रतियोगिताओं के लिए शुभकामनाए दी है | के उज्ज्वल भविष्य की कामना करते हुए बधाई एवं शुभकामनाएं दी हैं।

Comments

Popular posts from this blog

सरकारी योजनाओं से संबंधित डाटा ढूंढना होगा अब आसान

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच

रेलवे स्पोर्ट्स प्रमोशन बोर्ड ने प्रशिक्षण शिविर के लिए चयन समिति का गठन किया