सीड फंडिंग में 1 मिलियन डॉलर की राशि जुटाई

◆ एकांक टेक्नोलॉजीज ने 9यूनिकॉर्न्स और वेंचर कैटालिस्ट्स, टाइटन कैपिटल, भारत फाउंडर्स फंड सिंडीकेट और निवेशकों से

◆ नए जमाने के कहानी कहने के मंच का उद्देश्य क्षेत्रीय कहानीकारों को सशक्त बनाकर इतिहास, कला, संस्कृति और विरासत को जनता तक पहुंचाना है

शब्दवाणी समाचार, शनिवार 29 जनवरी  2022, नई दिल्ली। अर्चना प्रियदर्शिनी, अमित जैन, अमित हुजा और दीपक जैन (बेन के पार्टनर) की भागीदारी के साथ, क्षेत्रीय भाषा में कहानी कहने के प्लेटफॉर्म एकांक टेक्नोलॉजीज ने 9यूनिकॉर्न्स, वेंचर कैटालिस्ट्स, टाइटन कैपिटल, भारत फाउंडर फंड सिंडिकेट और (उड़ान के सह संस्थापक) सुजीत कुमार से 1 मिलियन डॉलर की पूंजी जुटाई है। सीड फंडिंग (किसी स्टार्टअप में किया जाने वाला शुरुआती निवेश) का इस्तेमाल तकनीकी क्षमता को मजबूत करने के साथ विभिन्न मीडिया फॉर्मेट (टेक्स्ट, ऑडियो, चित्रण और कॉमिक्स) में इस प्लेटफॉर्म पर अधिक कहानीकारों को आमंत्रित करने में किया जाएगा, ताकि डिजिटल मीडिया में कंपनी की पहुंच को विस्तार दिया जा सके। कंपनी की योजना सभी विभागों, विशेष रूप से प्रॉडक्ट और तकनीक में अपनी टीम का विस्तार करने की भी है।

इसका उद्देश्य यूजर्स के ऐतिहासिक सामग्री को आकर्षक तरीके से खोजने और उसके साथ इंटरैक्ट करने के तरीके में सुधार करना है। डिजाइन, गेमिफिकेशन और कहानीकारों को प्रोत्साहन दिए जाने के संयोजन का इस्तेमाल करते हुए कंपनी यूजर्स की रुचि गंवाए बिना कहानियों की एक अंतहीन मात्रा को उनके सामने पेश करना चाहती है। एकांक टेक्नोलॉजीज के सह-संस्थापक सुमित नायक ने पूंजी जुटाए जाने के मामले पर अपनी बात रखते हुए कहा, “एकांक टेक्नोलॉजीज भारत में संस्कृति के नेतृत्व वाले स्टार्टअप का पर्याय बनना चाहता है। हम रचनाकारों को इतिहास, कला, संस्कृति और विरासत में अपनी मानव-रुचि की कहानियों को एक बड़े दर्शक वर्ग के साथ साझा करने का अवसर प्रदान करके कहानियों को कहने के तरीके को बदलना चाहते हैं। फंडिंग हमें अपने मंच के माध्यम से इतिहास, कला और संस्कृति को सबसे आगे लाने में मदद करेगी। हमारी दृष्टि का समर्थन करने के लिए हम अपने भागीदारों के आभारी हैं।

एकांक टेक्नोलॉजीज के को-फाउंडर चेतन रेक्सवाल ने कहा, "भारत में एक प्रसिद्ध कहावत है - हर दो मील पर पानी बदलता है, और हर चार मील पर बोली। भारत बहुलताओं का देश है और देश की संस्कृति में इस समृद्ध विविधता के बावजूद, हमारी समृद्ध विरासत से संबंधित भारतीय स्टार्टअप परिदृश्य में एक चौंकाने वाला अंतर है, जो खोने और भुला दिए जाने के कगार पर है। हम अपने दैनिक जीवन में जो कुछ भी देखते और मिलते हैं, उसका एक ऐतिहासिक और सांस्कृतिक पहलू जुड़ा होता है। हमारे प्लेटफॉर्म दिस डे के माध्यम से हम पाठकों को गैर-काल्पनिक कहानी कहने के तरीके का लोकतंत्रीकरण कर रहे हैं।

एकांक टेक्नोलॉजीज का समर्थन करने के लिए अपने दृष्टिकोण को संबोधित करते हुए 9यूनिकॉर्न्स और वेंचर कैटालिस्ट्स के सह-संस्थापक डॉ अपूर्व रंजन शर्मा ने कहा, "कई छात्रों के बीच इतिहास को अक्सर एक उबाऊ विषय के रूप में देखा जाता है क्योंकि वे विषय वस्तु से जुड़ नहीं सकते हैं। लेकिन जिस तरह से एकांक तकनीक की मदद से कहानी कहने को सम्मोहक और दिलचस्प बनाता है, वह बेहतरीन है। स्थानीय भाषा का उपयोग इसे जनता के बीच काफी आकर्षक और लोकप्रिय बनाता है। स्थानीय सामग्री का विकास विस्फोट के लिए तैयार है और हम एकांक के लिए क्षेत्रीय भाषा सामग्री के क्षेत्र में एक बड़ा अवसर देखते हैं, जिसका दोहन किया जाना अभी बाकी है।

स्टार्टअप का समर्थन करने के लिए उत्साहित टाइटन कैपिटल के बिपिन शाह ने कहा, एकांक में हमारा निवेश एक ठोस टीम और योजना के साथ बड़ी दृष्टि वाली कंपनियों का समर्थन करने के हमारे निवेश दर्शन के अनुरूप है। विश्व स्तर पर इतिहास, कला, संस्कृति और विरासत के साथ नए जमाने के दर्शकों को जोड़ने के लिए हमें एकांक की क्षमताओं और क्षमता में बहुत विश्वास है। हम संगठन को मजबूत करने में एकांक की मदद करने के लिए तत्पर हैं, क्योंकि वे डिजिटलीकरण की तेजी से बढ़ती शक्ति के माध्यम से लाखों उत्साही और कहानीकारों की सेवा कर रहे हैं। हमारी उम्मीद है कि कंपनी निकट और दीर्घ अवधि दोनों में महत्वपूर्ण वृद्धि के लिए तैयार है।

भारत फाउंडर्स फंड सिंडिकेट के माध्यम से एकांक में निवेश को लेकर उत्साहित भारतपे के सीओओ ध्रुव धनराज बहल ने कहा, “जबकि भारत में आज अधिकांश स्टार्टअप वर्तमान और भविष्य पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं, लेकिन इतिहास और संस्कृति के महत्व को पहचानने के मामले में इसमें एक बड़ा अंतर मौजूद है और यही दिसडे को नई अवधारणा बनाती है। भारत में इतिहास और संस्कृति की गंभीरता और जटिलता को देखते हुए, मैं एक ऐसे उद्यम में निवेश करने के लिए उत्साहित हूं जो हमारी समृद्ध विरासत और विस्तृत ज्ञान को प्रकाश में लाना शुरू कर रहा है। मुझे पूरा विश्वास है कि यह मंच समाज और लोगों के लिए सार्थक योगदान देगा।

यह अग्रणी स्टार्टअप अपने मंच, दिसडे के माध्यम से कहानी कहने की पुनर्कल्पना कर रहा है, जो माइक्रो इंफ्लूएंसर्स और रचनाकारों को संस्कृति और विरासत पर अपनी पेशकश साझा करने के लिए प्रोत्साहित करता है। अपनी कहानियों का मौद्रीकरण करने के लिए उन्हें सशक्त बनाकर यह ब्रांड भारत में क्रिएटर इकोनॉमी को गति प्रदान कर रहा है। स्थानीय कहानियों के माध्यम से वैश्विक दर्शकों तक पहुंचने की दृष्टि के साथ, एकांक टेक्नोलॉजीज ऑडियो कहानियों को भी जोड़ेगी और निकट अवधि में मंच पर विजुअल कहानी को भी सक्षम बनाएगी।

Comments

Popular posts from this blog

सरकारी योजनाओं से संबंधित डाटा ढूंढना होगा अब आसान

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच

रेलवे स्पोर्ट्स प्रमोशन बोर्ड ने प्रशिक्षण शिविर के लिए चयन समिति का गठन किया