जीने का अंदाज सिखाया नेताजी ने : जयसिंह आर्य जय

◆ नेताजी सुभाष जयंती पर राष्ट्रीय कवि गोष्ठी सम्पन्न

◆ वीरों के बलिदान से देश आजाद हुआ : नरेन्द्र आहुजा विवेक

शब्दवाणी समाचार, मंगलवार 25 जनवरी  2022, गाजियाबाद। केन्द्रीय आर्य युवक परिषद् के तत्वावधान में नेताजी सुभाषचंद्र बोस की 125 वीं जयंती पर "राष्ट्रीय कवि गोष्ठी" का ऑनलाइन आयोजन किया गया। वीर रस के कवियों ने समा बांध दिया।कार्यक्रम की अध्यक्षता परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष अनिल आर्य ने की व कुशल संचालन नरेन्द्र आहुजा विवेक ने किया । यह कोरोना काल में 342 वां वेबिनार था।

मुख्य अतिथि जयसिंह आर्य जय ने कहा कि नेताजी ने जीने का अंदाज सिखाया और बहादुर बनाया।सत्यप्रकाश भारद्वाज ने कहा कि "जागृत करना लक्ष्य मेरा है फिर मैं कैसे सो सकता हूँ, संकल्पों से बंधा हुआ हूं फिर मैं कैसे रो सकता हूँ।वही नरेंद्र आहुजा विवेक ने कहा कि"वीरों के बलिदान से हुआ देश आजाद, बिना खड़क तलवार मिली बेकार यह विवाद" धर्मेश अविचल ने कहा कि हर दिल झूम रहा है अब तो,यही तराना गाता,वंदे मातरम वंदे मातरम,जय जय भारत माता।मोहन शास्त्री ने कहा कि "तेज होवे शौर्य होवे धैर्य नहीं कभी खोवे,दिल में युवाओं के उल्लास होना चाहिए।तुम मुझे खून दो मैं तुम्हें दूँगा आज़ादी।कहने वाला हृदय में सुभाष होना चाहिए।

इसके साथ ही अनिता रेलन, प्रवीण आर्य(गाजियाबाद),रविन्द्र गुप्ता,डॉ. विपिन खेड़ा,डॉ.अनिता सुरभि,महेश योगी,डॉ. सुभाष शर्मा (आस्ट्रेलिया),प्रेम हंस, जनक अरोड़ा आदि ने ओजस्वी कविता पाठ किया। केन्द्रीय आर्य युवक परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष अनिल आर्य ने धन्यवाद ज्ञापन करते हुए कहा कि नेताजी सुभाष के स्वतंत्रता संग्राम में योगदान को कभी भुलाया नहीं जा सकता।

Comments

Popular posts from this blog

सरकारी योजनाओं से संबंधित डाटा ढूंढना होगा अब आसान

रेलवे स्पोर्ट्स प्रमोशन बोर्ड ने प्रशिक्षण शिविर के लिए चयन समिति का गठन किया

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच