निर्माण प्रबंधन सॉफ्टवेयर Powerplay ने 40 गुना वृद्धि दर्ज की

◆ 2022 के अंत तक 1 मिलियन सक्रिय उपयोगकर्ताओं को जोड़ने की योजना है

◆ Powerplay ने साल-दर-साल अपने ओएस बिजनेस सेगमेंट में अप्रत्याशित 100 गुना वृद्धि दर्ज की है

◆ 7000 करोड़ रुपये मूल्य के भारतीय निर्माण क्षेत्र में Powerplay ने 1% कार्य को सुलभ बनाया है 

◆ 1100 करोड़ रुपये की निर्माण सामग्री का प्रबंधन Powerplay पर किया गया

◆ इस प्लेटफॉर्म पर प्रति दिन लगभग 2.5 लाख के श्रम बल का सफलतापूर्वक प्रबंधन किया जाता है 

◆ उत्पादकता बढ़ाते हुए,  काम में देरी होने से रोकते हुए और समस्याओं को तेजी से हल करते हुए Powerplay ने विभिन्न परियोजनाओं में लागत का 9-12% बचाने में मदद की है

शब्दवाणी समाचार, रविवार 2 अप्रैल 2022, नई दिल्ली। एंड-टू-एंड कंस्ट्रक्शन मैनेजमेंट (निर्माण प्रबंधन) की एक विश्वसनीय एप्लिकेशन है।  इसने वर्ष 2021 के लिए अपने कार्य संबंधी वार्षिक आंकड़ों की सूचना दी है। यह संख्या बेहद प्रभावशाली रही है,  निर्माण उद्योग के लिए ऑपरेटिंग सिस्टम (OS) की मांग बढ़ने  के बाद Powerplay धीरे-धीरे अपने मिशन की कामयाबी के करीब पहुंच रहा है। पिछले वर्ष जनवरी 2021 से जनवरी 2022 तक,  SaaS  प्लेटफॉर्म ने अपने एक्टिव बिजनेसेस में 40 गुना की वृद्धि  और ऑपरेटिंग सिस्टम (OS) व्यवसायों में चकित कर देने वाली 100 गुना वृद्धि देखी है। एक्टिव बिजनेसेस के प्रत्येक उपयोगकर्ता ने ऐप पर प्रतिदिन 26 मिनट औसत समय बिताया है, जबकि OS बिजनेसेस में यह आंकड़ा प्रति दिन 40 मिनट का है। कुछ दमदार आंकड़े, जो Powerplay को देश में अग्रणी निर्माण प्रबंधन सॉफ्टवेयर के रूप में दर्शाते हैं वे इस प्रकार हैं:

भारत का कुल निर्माण जिसकी कीमत 7000 करोड़ रुपये है, उसके 1% कार्यों का प्रबंधन किया

1100 करोड़ रुपये मूल्य की सामग्री का प्रबंधन

एक ही दिन में 2.5 लाख  श्रम बल का प्रबंधन

कंपनी के भीतर,  कार्य-प्रगति अपडेट के आधार पर एक्टिव बिजनेसेस और ऑपरेटिंग सिस्टम (OS) व्यवसायों की गणना प्लेटफॉर्म पर की जाती है। ऑपरेटिंग सिस्टम बिजनेस, उन व्यवसायों के लिए कंपनी का आंतरिक कूटरचित नाम है, जो पावरप्ले चुनते हैं और सात दिवसीय सप्ताह में इस एप्लिकेशन पर 4 या उससे अधिक कार्य-प्रगति अपडेट करते हुए उच्च जुड़ाव का संकेत देते हैं। इसी तरह एक्टिव बिजनेसेस वे हैं, जिन्होंने ऐप पर कम से कम 1 कार्य-प्रगति अपडेट रजिस्टर किया है।

Powerplay के सीईओ  ईश दीक्षित ने इसके विकास की जानकारी देते हुए बताया कि, “निर्माण परियोजनाओं में कार्य अवरोध की संरचनाओं का इतना जटिल पदानुक्रम है जिससे न सिर्फ संचार और सहयोग कठिन हो जाता है, बल्कि कुछ मामलों में गलतफहमी अवश्यंभावी हो सकती है। पारंपरिक प्रक्रियाओं का उपयोग करने से काम में समग्र रूप से देरी और गलतियों की आशंका बढ़ जाती है, जिससे अक्सर लागत बढ़ जाता है और बाद में परियोजना लेटलतीफी का शिकार हो जाती है। हमारा ऐप परियोजना के मालिक को न केवल किसी दूरस्थ जगह से परियोजना की प्रगति तक पहुंचने की सुविधा प्रदान करता है, बल्कि साइट पर संसाधनों को कुशलतापूर्वक प्रबंधित करने में भी उसकी मदद करता है  और विशेष रूप से  यह साइट इंजीनियरों और ठेकेदारों के बीच संवाद स्थापित करने और उन्हें यह समझाने में मदद करता है कि क्या आवश्यक है।

Powerplay ने वर्ष 2020 में अपना संचालन शुरू किया और वर्तमान में एनसीआर, महाराष्ट्र, कर्नाटक, छत्तीसगढ़, जम्मू, मणिपुर और यहां तक ​​कि केंद्र शासित प्रदेश अंडमान सहित भारत के सभी राज्यों में इसकी पहुंच है। सभी राज्यों में इसकी प्रवेश दर अच्छी रही है। महाराष्ट्र 16% के साथ सबसे आगे है, इसके बाद तमिलनाडु और कर्नाटक में 9%, गुजरात में 8%, एनसीआर और तेलंगाना में 7% और मध्य प्रदेश में यह दर 6% है। Powerplay पर रेजीडेंशियल, इंटीरियर्स, कॉमर्शियल, इंफ्रास्ट्रक्चर, इंडस्ट्रियल और यहां तक ​​कि सरकारी परियोजनाओं सहित सभी प्रकार की निर्माण परियोजनाओं का सफलतापूर्वक प्रबंधन किया जाता है। इस प्लेटफॉर्म ने विभिन्न परियोजनाओं में उत्पादकता बढ़ाने, काम में देरी से बचने और समस्याओं को तेजी से हल करने के साथ लागत का 9-12% बचाने में मदद की है।

एलएंडटी, टाटा प्रोजेक्ट्स, गोदरेज, एचएडीपीएल, बिल्डकॉन, जीएमआर, एनएसपीएल और हिंडलैंड इंफ्रास्ट्रक्चर जैसे बड़े ब्रांडों द्वारा जारी निर्माण परियोजनाओं से जुड़े कई ठेकेदार अपनी परियोजनाओं के कुशलतापूर्वक संचालन के लिए Powerplay पर ही भरोसा करते हैं। Powerplay पूर्व में सिकोइया सर्ज और इंडिया कोशिएंट जैसे पार्टनर्स के जरिए 5.8 मिलियन डॉलर की फंडिंग हासिल कर चुका है। कंपनी को उम्मीद है कि 2022 के अंत तक यह विश्व स्तर पर 10 लाख एक्टिव कंस्ट्रक्शन बिजनेसेस तक पहुंच बना लेगी।

Comments

Popular posts from this blog

सरकारी योजनाओं से संबंधित डाटा ढूंढना होगा अब आसान

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच

उप श्रम आयुक्त द्वारा लिखित में मांगों पर सहमति दिए जाने के बाद ट्रेड यूनियनों ने समाप्त किया धरन : गंगेश्वर दत्त शर्मा