जेएसडब्ल्यू पेंट्स ने अपना नया उत्पाद लॉन्च किया

◆ बॉलीवुड स्टार आलिया भट्ट स्टैंडअप कॉमेडियन अतुल खत्री के साथ

◆ एक्वाग्लो अभियान की अगुवाई कर रही हैं

शब्दवाणी समाचार, मंगलवार 17 मई 2022, नई दिल्ली। भारत की पर्यावरण-अनुकूल पेंट कंपनी और यूएस$13 बिलियन वाले जेएसडब्ल्यू ग्रुप का हिस्सा जेएसडब्ल्यू पेंट्स ने हालो एक्वाग्लो रेंज पर ध्यान केंद्रित करते हुए अपना उत्पाद अभियान शुरू किया है। जेएसडब्ल्यू पेंट्स की एक्वाग्लो रेंज जर्म ब्लॉक ज़ेडएन2+ऑयन तकनीक के साथ लकड़ी और धातु की सतहों के लिए भारत का पहला जल-आधारित पेंट्स है। पहले भारतीय उपभोक्ता लकड़ी और धातु की सतहों को पेंट करने के लिए सॉल्वेंट-आधारित एनैमल्स का उपयोग कर रहे थे, जिन्हें "ऑयल पेंट" के रूप में जाना जाता है। 

इनमें ऐसे रसायन और सॉल्वैंट्स मौजूद होते हैं जिनमें तेज गंध होती है और इनका वीओसी (वोलेटाइल ऑर्गैनिक कंटेंट) बहुत ऊंचा होता है। नतीजतन, बच्चों और बीमार लोगों के लिए इन पेंट्स की सिफारिश नहीं की जाती, क्योंकि इस्तेमाल के बाद ये सॉल्वैंट्स अपने हानिकारक धुएं से घर को प्रदूषित कर देते हैं। ऐसे पेंट सूखने में भी लंबा समय लेते हैं, जिससे घर-परिवार को असुविधा होती है और एक या दो हफ्ते तक बदबू आती रहती है। दूसरी ओर, जेएसडब्ल्यू पेंट्स की एक्वाग्लो रेंज 100% जल-आधारित है, इसकी गंध कम है, जल्दी सूखती है और पूरी तरह से परिवार के अनुकूल है। इसके जल्द सूखने के कारण पुताई बहुत कम समय में पूरी हो जाती है। इसकी चमक भी लंबे समय तक बरकरार रहती है।

एक्वाग्लो अभियान बॉलीवुड स्टार और जेएसडब्ल्यू पेंट्स की ब्रांड एंबेसडर आलिया भट्ट के माध्यम से उपभोक्ताओं के समग्र स्वास्थ्य और कल्याण पर ध्यान केंद्रित करता है, क्योंकि वह उपभोक्ताओं से #PaintKaGKBadhao का आग्रह करती हैं। अभियान में जाने-माने आर्टिस्ट और स्टैंड-अप कॉमेडियन अतुल खत्री भी शामिल हैं जो किसी भी नए आइडिया से संबंधित मास हिस्टीरिया को जीवंत कर देते हैं। अपने नए पेंट किए गए दरवाजे पर इस्तेमाल किए जा रहे सॉल्वेंट-आधारित पेंट की तेज गंध पर आलिया का रिएक्शन देख कर सोशल मीडिया पर सुनामी आ चुकी है और चुटकुलों व चुहलबाजी की झड़ी लग गई है क्योंकि हर कोई इस मजाक में शामिल है। लोग आलिया की इस बात का मनमाफिक अर्थ निकाल रहे हैं कि दरवाजे पर ऑयल पेंट प्रदूषण का कारण बनता है, क्योंकि दरवाजे ही प्रदूषण का कारण बन जाते हैं। यह लकड़ी और धातु के लिए जल-आधारित पेंट की अनुपलब्धता और इसके लाभों के बारे में उपभोक्ताओं के बीच जागरूकता की कमी को उजागर करता है। एक्वाग्लो लकड़ी और धातु के लिए भारत में जर्म ब्लॉक वाला पहला पेंट है, जो इसे परिवार के लिए बहुत सुरक्षित बनाता है। यह अभियान पूरे भारत के प्रमुख टीवी चैनलों और डिज़्नी+हॉटस्टार स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म पर प्रसारित किया जा रहा है। अभियान की परिकल्पना टीबीडब्ल्यूए\इंडिया के द्वारा की गई है।

जेएसडब्ल्यू पेंट्स की चीफ मार्केटिंग ऑफीसर अनुराधा बोस के अनुसार, "अपनी ‘एनी कलर वन प्राइस’ पहल की कामयाब प्रस्तुति के बाद अब हम अपने सूझ-बूझ भरे उत्पाद नवाचार एक्वाग्लो को लॉन्च करके बेहद खुश हैं। पेंट्स की दुनिया में लकड़ी और धातु के लिए केवल 'ऑयल पेंट' इस्तेमाल करने की एक और परंपरा को बदलना इसका उद्देश्य है। हमारा नया अभियान अपने घरों में लकड़ी के दरवाजों, धातु की ग्रिल और ऐसी ही अन्य सतहों को पेंट करने के लिए जल-आधारित एक्वाग्लो पेंट की रेंज अपनाने के स्पष्ट लाभ की ओर उपभोक्ताओं का ध्यान आकर्षित करता है। ‘पेंट का जीके बढ़ाओ’ भारत को जगाने और तंदुरुस्ती व आराम को चुनने का एक स्पष्ट आवाहन है।

भारतीय पेंट उपभोक्ताओं की अपेक्षाओं को बदलने वाले एक्वाग्लो अभियान के बारे में बोलते हुए टीबीडब्ल्यूए/इंडिया के सीईओ गोविंद पांडे ने कहा, “पेंट की कैटेगरी में दशकों से बिना किसी असली चुनौती को झेले हुए उन्हीं पुराने मार्केट लीडर्स का वर्चस्व बना हुआ है। जेएसडब्ल्यू पेंट्स इंडस्ट्री में व्याप्त यथास्थिति पर सवाल उठाने वाला दिग्गज है। यह अंतिम उपभोक्ताओं को ज्यादा से ज्यादा हिस्सेदारी के लिए भी प्रोत्साहित कर रहा है क्योंकि तभी वे अपने लिए सर्वोत्तम समाधान खोज पाएंगे। अभियान के मूल विचार की उत्पत्ति पर टिप्पणी करते हुए टीबीडब्ल्यूए\इंडिया के मैनेजिंग पार्टनर क्रिएटिव परीक्षित भट्टाचार्य ने कहा, “एक कम भागीदारी वाली कैटेगरी, एक शानदार उत्पाद और देश का जानेमन। उनमें खलबली पैदा करने से आपको एक सनसनीखेज हेडलाइन मिलेगी। पेंट का जीके बढ़ाओ लोगों से कह रहा है कि वे सोच-समझकर चुनाव करें और प्रदूषण फैलाने वाले रसायनों के मुंह पर दरवाजा बंद कर दें।

Comments

Popular posts from this blog

सरकारी योजनाओं से संबंधित डाटा ढूंढना होगा अब आसान

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच

रेलवे स्पोर्ट्स प्रमोशन बोर्ड ने प्रशिक्षण शिविर के लिए चयन समिति का गठन किया