एनडीडीबी मृदा लिमिटेड कंपनी का हुआ लांच

 

शब्दवाणी समाचार, मंगलवार 26 जुलाई 2022, नई दिल्ली। केंद्रीय मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी मंत्री पुरुषोत्तम रूपाला ने एनडीडीबी मृदा लिमिटेड कंपनी का लांच किया। इस अवसर पर केन्द्रीय पशुपालन, डेयरी और मत्स्य पालन विभाग राज्य मंत्री डॉ. संजीव कुमार बाल्यान, राज्य मंत्री डॉ एल मुरगन, सेक्रटरी डीएएचडी अतुल चतुर्वेदी, एडिशनल सेक्रेटरी सीडीडी डीएएचडी वर्ष जोशी उपस्थित थीं। इसके अतिरिक्त एनडीडीबी चैयरमैन मीनिष शाह उपस्थित थे। इस अवसर पर केंद्रीय मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी मंत्री पुरुषोत्तम रूपाला ने कहा कि एनडीडीबी मृदा लिमिटेड एनडीडीबी की सब्सिडरी कंपनी है, वही अगर कहा जाए तो सबसे पहले हमारे पूर्व प्रधानमंत्री स्व लाल बहादुर शास्त्री जी ने शुरुआत की थी।उन्होंने बताया की , में इस कांसेप्ट के लिए सेक्रेटरी अतुल चतुर्वेदी को बधाई देता हूँ। इससे किसानों की आय में वृद्धि होगी। 

उन्होंने कहा कि एनडीडीबी मृदा लिमिटेड डेयरी किसानों को गोबर की बिक्री से अतिरिक्त आय के रास्ते खोलेगा।  खाना पकाने के ईंधन के स्थान पर बायोगैस लगाने से किसानों की बचत होती है।  गोजातीय गोबर के बेहतर उपयोग के प्रयास किए जा रहे हैं लेकिन अधिकांश व्यक्तिगत पहल हैं।  हालांकि, यह नई कंपनी खाद प्रबंधन के प्रयासों को संरचित प्रोत्साहन प्रदान करेगी।  इसके अलावा, गोबर आधारित खाद के उपयोग को बढ़ावा देने से धीरे-धीरे रासायनिक उर्वरकों को जैविक खाद के साथ बदल दिया जाएगा जिससे आयात पर भारत की निर्भरता कम हो जाएगी, केंद्रीय मंत्री ने आगे कहा। 

इस बात पर रिसर्च होनी चाहिए कि गाय के गोबर से निकलने वाली गैस हानिकारक होती है। उन्होंने कहा कि मेरा मानना है कि ऐसा बिल्कुल नहीं है,क्योंकि गाय ही ऐसा पशु है जिसके गोबर से घरों में लिपाई होती है। हमारे देश में गाय आर्थिक तंत्र में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी।  इस अवसर पर संजीव बाल्यान ने कहा कि यह अपनी तरह की पहली कंपनी है जो खाद प्रबंधन मूल्य श्रृंखला बनाकर गोबर के कुशल उपयोग पर ध्यान केंद्रित कर रही है जो एक ही समय में डेयरी किसानों की आजीविका को बढ़ाने में अत्यधिक योगदान देगी।  भारत मिशन और हरित ऊर्जा को बढ़ावा देना। उन्होंने आगे कहा कि गाय का गोबर सबसे ज्यादा स्वस्थ होता है। पहले के समय मे हम घरों की लिपाई भी गाय और भैंस के गोबर से की जाती थी। इस कंपनी का उद्देश्य गाय और भैंस के गोबर का सदुपयोग कर उससे किसानों को लाभ पहुंचना है। गोबर का व्यापक प्रयोग कर उसका सदुपयोग किया जाना। ये किसानों को आय का अतिरिक्त साधन उपलब्ध कराएगी। इस कम्पनी का मकसद गोबर का अधिक से अधिक प्रयोग कर उससे गैस, ईंधन और बिजली का उत्पादन किया जाएगा।

Comments

Popular posts from this blog

सरकारी योजनाओं से संबंधित डाटा ढूंढना होगा अब आसान

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच

रेलवे स्पोर्ट्स प्रमोशन बोर्ड ने प्रशिक्षण शिविर के लिए चयन समिति का गठन किया