उपराज्यपाल का आभार, लीला के लिए निशुल्क बिजली की मांग

 

शब्दवाणी समाचार, सोमवार 8 अगस्त 2022, नई दिल्ली। बाहरी दिल्ली के सांसद परवेश वर्मा, रामलीला महासंघ के प्रेसीडेंट अर्जुन कुमार के साथ साथ दिल्ली की करीब 650 रामलीला क्मेटियों के पदाधिकारियों ने दिल्ली के उपराज्यपाल वी के सक्सेना का रामलीला क्मेटियों को विभिन्न रिआयते प्रदान करने, और दिल्ली में रामलीलाओ को रात्रि 12 तक मंचन करने की अनुमति प्रदान करने के लिए नेशनल क्लब में आभार सममेलन का आयोजन किया। इस सम्मेलन में बाहरी दिल्ली के सांसद परवेश वर्मा और रामलीला महासंघ के प्रेजिडेंट अर्जुन कुमार ने लीला मंचन के लिए  दिल्ली में हज शिविरो और कांवड़ शिविरो को बरसो से मिल रही निशुल्क बिजली की तर्ज लीला मंचन के लिए निशुल्क बिजली प्रदान की मांग की। उन्होने कहा कि रामलीला आयोजको से सरकार कमर्शियल आधार पर बिजली का बिल वसूलती है , जबकि लीला आयोजक चंदा एकत्रित करके प्रभु श्रीराम की लीला का  निशुल्क मंचन करते है, ऐसे में सरकार लीला क्मेटियो को भी निशुल्क बिजली प्रदान करे।

 इस स्ममेलन में एलान किया गया कि दिल्ली को हरा भरा करने के उद्देश्य से सभी प्रमुख रामलीला क्मेटिया लीला मंचन देखने आए दर्शको को निशुल्क पौधो का वितरण दिल्ली सरकार के सहयोग से करेगी ।साथ ही लीला स्थल में प्लास्टिक के बैनर , झंडे इत्यादि भी नहीं लगाए जाएंगे, ताकि दिल्ली वासियों को प्लास्टिक के बढ़ते खतरे के प्रति सजग किया जा सके। इस आभार सम्मेलन में रामलीला महासंघ के जनरल सेक्रेटरी सुभाष गोयल, सीनियर वाइस प्रेसिडेंट सत्य भूषण जैन,  धीरज धर गुप्ता, प्रवीन सिंघल, पूर्व निगम पार्षद रेखा गुप्ता, पूर्व महापौर अवतार सिंह हित, सुरेश बिंदल, कपिल गुप्ता , भाई मेहरबान, डॉयरेक्टर परवेश  के साथ दिल्ली की 600 से ज्यादा रामलीला क्मेटियो के पदाधिकारियों ने हिस्सा लिया और रामलीला आयोजको को उपराज्यपाल द्वारा दी गई विभिन्न राहत प्रदान करने लिए रामभक्तो की और से आभार व्यक्त करते हुए उपराज्यपाल से अनुरोध किया कि लीला मंचन के लिए निशुल्क बिजली प्रदान करके राम भक्तो को बड़ी राहत प्रदान की जाए।

Comments

Popular posts from this blog

सरकारी योजनाओं से संबंधित डाटा ढूंढना होगा अब आसान

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच

उप श्रम आयुक्त द्वारा लिखित में मांगों पर सहमति दिए जाने के बाद ट्रेड यूनियनों ने समाप्त किया धरन : गंगेश्वर दत्त शर्मा