आपका हमारा अपना समाज फाउंडेशन ने किया वृक्षारोपण

शब्दवाणी समाचार, शनिवार 20 अगस्त 2022, नई दिल्ली। आपका हमारा अपना समाज फाउंडेशन ने अपनी पहली वृक्षारोपण योजना की शुरुआत “मनोरंजन सह पुस्तकालय केंद्र “ बी 4/229, बी-4 ब्लॉक, सफदरजंग एन्क्लेव, नई दिल्ली, में की! अपना समाज फाउंडेशन द्वारा शुरू की गई वृक्षारोपण योजना में करीब 500 से अधिक पौधे लगाए गए, जिसमें अपना समाज फाउंडेशन के अध्यक्ष श्री कपिल अग्रवाल, उपाध्यक्ष श्री गौरव गुप्ता ,सचिव श्री सुभाष गोयल और सदस्य श्री  सुनील  गोयल , श्री  प्रवीण  शर्मा , श्री  चंद्र मोहन गर्ग , श्री  मुकुल  गर्ग , श्री  विजय  चौधरी , श्री  अनिल  कोतवाल , श्री  पवन  सर्राफ ,श्री  कमल  गुप्ता , श्री  कपिल  खंडेलवाल  ,श्री  अनिल  गोयल , श्री  ऍन. के गोयल , श्री  आर. के गुप्ता और अपना समाज फाउंडेशन के अन्य संबंधित सदस्य शामिल थे।

अपना समाज के अध्यक्ष श्री कपिल अग्रवाल  जी कहते है कि हमें  वृक्षारोपण के महत्व पर समय-समय पर जोर देना चाहिए । पर्यावरण में बढ़ते प्रदूषण की वजह से वृक्षारोपण की आवश्यकता इन दिनों अधिक काफी हो गई है। वृक्षारोपण से तात्पर्य वृक्षों के विकास के लिए पौधों को लगाना और हरियाली को फैलाना है। पर्यावरण के लिए वृक्षारोपण की प्रक्रिया महत्वपूर्ण क्यों है इसके कई कारण हैं। मुख्य कारणों में से एक कारण यह है कि वृक्ष जीवन-प्रदान करने वाली ऑक्सीजन प्रदान करते हैं जिसके बिना मानव जाति का अस्तित्व असंभव है। अगर हम वास्तव में जीवित रहना चाहते हैं और अच्छे जीवनयापन करना चाहते हैं तो अधिक से अधिक पेड़ लगाए जाने चाहिए। ऑक्सीजन लेने और कार्बन डाइऑक्साइड को छोड़ने के अलावा पेड़ पर्यावरण से अन्य हानिकारक गैसों को अवशोषित करते हैं जिससे वायु शुद्ध और ताज़ी बनती है। जितने हरे-भरे पेड़ होंगे उतना अधिक ऑक्सीजन का उत्पादन होगा और अधिक विषैली गैसों को यह अवशोषित करेंगे।प्रदूषण का स्तर इन दिनों बहुत अधिक बढ़ रहा है। इससे लड़ने का एकमात्र तरीका अधिक से अधिक पेड़ लगाना है। इसी लिए हमारा आपका समाज फाउंडेशन ने अपने वीरिषरोपण की शुरआत की हम इसी तरह जगह जगह विरिक्षरोपण करते रहेंगे हमारी संस्था का लक्ष्या इन 500 पौधे से शुरआत को 5000 तक लाना है!

सचिव श्री सुभाष गोयल जी ने इस योजना को लागु करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है वह कहते है पर्यावरण को बेहतर बनाने में वृक्ष और पौधे मदद करते हैं। ये हवा को शुद्ध करते हैं, पानी को संरक्षित करते हैं, जलवायु नियंत्रण में मदद करते हैं, मिट्टी की शक्ति को बरकरार रखते हैं और कई अन्य तरीकों से समग्र पर्यावरण को लाभ पहुंचाते हैं। लोगों को इस बारे में संवेदनशील होना चाहिए ताकि वे बड़ी संख्या में भाग लें सके। इस दिशा में एक बड़ा परिवर्तन केवल तभी संभव है जब हम में से हर एक पेड़ को लगाने की जिम्मेदारी ले ,यह सही समय है जब लोगों को वृक्षारोपण के महत्व को पहचानना चाहिए और इसके लिए योगदान करना चाहिए।

सलाहकार श्री प्रवीण शर्मा जी ने कहा वनों से हमे भवन निर्माण की सामग्री मिलती है औषधीय, जड़ी बूटियां, गोंद, घास, तथा जानवरों का चारा भी वनों से ही प्राप्त होता है।वन तापमान को सामान्य बनाने में सहायक एवं भूमि को बंजर होने से रोकता है वनों से लकड़ी, कागज, फर्नीचर, दवाईया, सभी के लिए हम वनों पर ही निर्भर है। वन हमे दूषित वायु को ग्रहण करके शुद्ध एवं जीवन दायक वायु प्रदान करता है, जितनी वायु और जल जरूरी है उतना ही आवश्यक वृक्ष होते हैं इसलिए वनों के साथ ही वृक्षारोपण सभी जगह करना जरूरी है और कई तरह के लाभ देने वाले वनों की रक्षा करना हमारा कर्तव्य हैं ।

सलाहकार श्री  चंद्र मोहन गर्ग जी ने कहा आज हमारे देशवासी वनों तथा वृक्षों की महत्ता को एक स्वर से स्वीकार कर रहे हैं वन महोत्सव हमारे राष्ट्र की अनिवार्य आवश्यकता है, देश की समृद्धि में हमारे वृक्ष का भी महत्वपूर्ण योगदान है इसलिए इस राष्ट के हर नागरिक को अपने लिए और अपने राष्ट्र के लिए वृक्षारोपण करना बहुत जरूरी है। प्रकृति के संतुलन को बनाए रखना। मानव के जीवन को सुखी, सम्रद्ध व संतुलित बनाए रखने के लिए वृक्षारोपण का अपना विशेष महत्व है। मानव सभ्यता का उदय तथा इसका आरंभिक आश्रय भी प्रकृति अर्थात वन व्रक्ष ही रहे हैं। इसलिए अपना समाज फाउंडेशन अब इस योजना के को हमेशा जारी रखेगा और जगह जगह पौधे लगवाता रहेगा !! जिसका लक्ष्य पेड़ लगाओ -पेड़ बचाओ, इस दुनिया को सुन्दर बनाओ होगा! उम्मीद करते है की इसी तरह अपना समाज फाउंडेशन दिन प्रतिदिन समाज की सेवा में लगा रहेगा!

Comments

Popular posts from this blog

सरकारी योजनाओं से संबंधित डाटा ढूंढना होगा अब आसान

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच

उप श्रम आयुक्त द्वारा लिखित में मांगों पर सहमति दिए जाने के बाद ट्रेड यूनियनों ने समाप्त किया धरन : गंगेश्वर दत्त शर्मा