वेदांता उदयपुर वर्ल्ड म्यूकजिक फेस्टिवल ने कर्टेन रेजर की 6वां संस्करण की किया घोषणा

◆ कर्टेन रेजर का आयोजन 9 दिसंबर को नजर बाग, ताज फतेह प्रकाश पैलेस, उदयपुर में हुआ

◆ उदयपुर में 16 से 18 दिसम्बर तक संगीत समारोह आयोजित होगा

शब्दवाणी समाचार, रविवार 11 दिसम्बर  2022, सम्पादकीय व्हाट्सप्प 8803818844, उदयपुर। भारत के सबसे बड़े वैश्विक संगीत महोत्सव वेदांता उदयपुर वर्ल्ड म्यूलजिक फेस्टिवल के पिछले संस्कंरणों को मिली शानदार प्रतिक्रिया के बाद, इसके छठे संस्करण के लिये कर्टेन रेजर इवेंट का आयोजन हुआ। यह विश्व का सबसे बड़ा संगीत समारोह है और इसकी अवधारणा तथा उत्पादन सहर द्वारा की गई और राजस्थान पर्यटन द्वारा आपके लिए लाया गया है। इस इवेंट को 9 दिसंबर, 2022 को नजर बाग, ताज फतेह प्रकाश पैलेस, उदयपुर में आयोजित किया गया। इस कार्यक्रम ने संगीत प्रेमियों के बीच काफी हलचल पैदा कर दी और आगामी महोत्सव के टीजर के रूप में उदयपुर शहर के स्थानीय लोगों ने भाग लिया। यह हिन्दुस्तान जिंक लिमिटेड के साथ इवेंट की भागीदारी का छठा साल है। इस मौके पर जश्न  मनाने के लिये कंपनी के सीईओ भी मौजूद थे। जश्न के दौरान वेदांता उदयपुर वर्ल्ड  म्यूजिक फेस्टिवल और हिन्दुस्तान जिंक लिमिटेड द्वारा आयोजित टैलेंट हंट के विजेताओं की भी घोषणा की गई- वसुधा शेखावत, उदयपुर, विनोद कुमावत, राजसमंद, अंकित चौहान, उदयपुर, नवदीप प्रताप सिंह झाला, अजमेर, फ्रैंक ब्रायन रोज, अजमेर। टैलेंट हंट का उद्देश्यय संगीत उद्योग में नई प्रतिभा को एक मंच देना और अपनी कला में आगे बढ़ने के लिये प्रोत्साहित करना था। इसके अलावा इवेंट पैपोन, कामाक्षी खन्ना, फाडो सिंगर कातिया गुरेरो (पुर्तगाल), आबाकोराओ (कोलम्बिया, चिली, पनामा, पराग्वे) और पुर्तगाल से सेंजा और भारत से फरहान अख्तर जैसे कलाकारों की मेजबानी करेगा।

इस साल वेदांता उदयपुर वर्ल्ड म्यूजिक फेस्टिवल ने कलाकारों को अंतर्राष्ट्रीय मंच पर बजाने का मौका देकर संगीत के भुलाये जा चुके वाद्य यंत्रों में रूचि जगाने का संकल्प लिया है। सारंगी पर विशेष जोर दिया गया है, जो कि यूनेस्कोल के मुताबिक एक संरक्षित परंपरा है। उम्मीेद है कि दुनियाभर के युवा इसमें रूचि लेंगे और यह अपनी पूरी शोहरत के साथ दोबारा उभरेगी। इस इवेंट के बारे में सहर के संस्थापक निदेशक संजीव भार्गव ने कहा, “हम उदयपुर म्यूजिक फेस्टिवल के छठे संस्करण के साथ लौटकर काफी उत्साहित हैं। हमें सारे परफॉर्मिंग कलाकारों की मेजबानी करने और नई प्रतिभा को मंच देने का इंतजार है। हमें सारंगी जैसे भुलाये जा चुके वाद्य यंत्रों को दोबारा जीवित करने में योगदान देने पर गर्व है। हमें यकीन है कि फेस्टिवल का यह संस्करण पिछले संस्करणों की तरह रोमांचक और मनोरंजक होगा। इस अवसर पर अरुण मिश्रा, सीईओ, हिंदुस्तान जिंक ने कहा, “उदयपुर म्यूजिक फेस्टिवल का यह संस्करण खास है क्योंकि हम महामारी के बाद वापसी कर रहे हैं। यह देशभर में लोगों के फिर से उठ खड़े होने का उत्सव है और इस जश्न को मनाने के लिए संगीत से बेहतर आखिर और क्या तरीका हो सकता है। हम इस फेस्टिवल के जरिए राजस्थान पर्यटन और सहर के साथ अपने लंबे समय से चले आ रहे सहयोग को जारी रखकर खुश हैं और हिंदुस्तान जिंक एवं वेदांता में हम हमेशा कला एवं संस्कृरति को प्रोत्साहन देते हैं एवं इसे सपोर्ट करते हैं। इस मंच के माध्यमम से हम उदयपुर को भारत की संगीत राजधानी बनाना चाहते हैं और यह इस दिशा में उठाया गया एक और कदम है।

महोत्सव के पहले दिन कई चर्चित कलाकारों के साथ सारंगी वादन देखने को मिलेगा। लोक परंपरा को आगे बढ़ाते हुए मशहूर गायक जसलीन औलख, परवाज, अबकोराव अपनी लोकप्रिय लैटिन धुनों के साथ और पापोन अपनी-अपनी शैली के गीतों की प्रस्तुति देंगे। दूसरे दिन जाने-माने वायलिन आर्टिस्ट नंदिनी शंकर, ब्रूनो लोई *और *जोनाथन डेला मारियाना जैसे कलाकारों की मेजबानी प्रस्तुति करेंगे। इटली के लौनेददास वाद्य यंत्र से प्रदर्शन करेंगे। पुर्तगाल की प्रसिद्ध कामाक्षी खन्ना, फेडो गायिका, कातिया, गुएरेइरो, सेन्जा, ब्लेसिंग ब्लेड चिमंगा एंड ड्रीम्स जिम्बाब्वे से प्रदर्शन करेंगे। लोकप्रिय द रघु दीक्षित प्रोजेक्ट और स्पेन का बैंड हबला द मी ईन प्रसाटेल भी प्रदर्शन करेंगे। इसी दिन सारंगी वादकों के प्रदर्शन और वेदांता टैलेंट हंट के परिणामों की घोषणा भी की जाएगी। संगीत समारोह के अंतिम दिन ऑस्ट्रेलिया की श्रीजनी घोष, अनुष्का मास्की, अभिनेता-गायिका-गीतकार संजीता भट्टाचार्य, आभा हंजूरा, नवीन कुमार फीट वेदांग, भारत के प्रमुख सोलो पर्क्यूसिव एकॉस्टिक गिटारिस्ट ध्रूव विश्वनाथ, की प्रस्तुति देखने को मिलेगी। फ्रांस से इलेक्ट्रिक पर्क्यूशन ऑर्केस्ट्रा, पुर्तगाल से अलबलुना और फरहान अख्तर भी प्रस्तुति करेंगे।

Comments

Popular posts from this blog

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच

उप श्रम आयुक्त द्वारा लिखित में मांगों पर सहमति दिए जाने के बाद ट्रेड यूनियनों ने समाप्त किया धरन : गंगेश्वर दत्त शर्मा

तुलसीदास जयंती पर जानें हनुमान चालीसा की रचना कैसी हुई : रविन्द्र दाधीच