एक्टिंग करते वक़्त शर्म ओर झिझक नही होनी चाहिए : सियाली भगत

◆ ग्लोबल फिल्म फेस्टिवल में अर्जुन फिरोज खान को हिंदी सिनेमा भूषण अवार्ड मिला 

शब्दवाणी समाचार, शनिवार 10 दिसम्बर  2022, (ऐ के लाल) सम्पादकीय व्हाट्सप्प 8803818844, गौतम बुध नगर। मारवाह स्टूडियो में 15वें ग्लोबल फिल्म फेस्टिवल के दूसरे दिन फिल्म कलाकारों की ताँता लगा हुआ रहा इस अवसर पर हिन्दी सिनेमा की जानीमानी हस्तियों में फिल्म एक्टर्स सयाली भगत,कंगना शर्मा, महाभारत के अर्जुन फिरोज खान, ​स्विट्जरलैंड में​ ​​​भारत ​की राजदूत​​  ​मोनिका मोहता, ​​​ भारत में कंबोडिया के राजदूत​ ​​उनग सीन, राज्यसभा के सदस्य अनिल अग्रवाल शामिल हुई इस अवसर पर मारवाह स्टूडियो के चांसलर संदीप मारवाह सिनेमा युवाओं की राय और विश्वास को बदलना व थिएटर कैसे सिनेमा की मदद करता है और कलाकारों में कैसे आत्मविश्वास लाता है विषय पर बोलते हुए कहा की आज का सिनेमा बदल रहा आजकल ग्रॅफिक्स ने लोगो के सपनो उड़ान व कल्पनाएं दी है, जिसमे काफी मेहनत और पैसा लगता है और में अपने छात्रों से कहना चाहूँगा की फिल्म बनाना टीम वर्क है क्यों की किसी एक के होने से फिल्म नहीं बनती। 

छात्रों के सवालो के जवाब देते हुए अर्जुन फिरोज खान ने कहा कि जब आप अपने किरदार में होते है उस समय किन शब्दो पर प्रभाव डालने है वो देखना जरूरी होता है उन्होंने आज के घार्मिक  धारवाहिक के विषय मे कहा कि आज के सीरियल में कहानी तो है पर रूह खत्म हो गई है। ​कंगना शर्मा ने कहा कि नेगेटिव ओर पोसिटिव दोनों ही किरदारों को निभाने के लिए किरदार को महसूस करना जरूरी है सियाली भगत ने कहा कि एक्टिंग करते वक़्त शर्म ओर झिझक नही होनी चाहिए ​​उन्होंने आगे कहा की जो बच्चे एक्टिंग में जाना चाहते है वो कम से कम एक साल थियेटर जरूर करे, थियेटर में आपको आपके सामने ही रिजल्ट मिल जाता है। अनिल अग्रवाल ने कहा कि कोई भी काम करो बस बस मेहनत से करो और उन्होंने आश्वासन दिया की जल्दी ही फिल्म इंडस्ट्री को सरकार की तरफ से खूबसूरत तोहफा मिलेगा। ​इस अवसर पर अर्जुन फिरोज खान को हिंदी सिनेमा भूषण अवार्ड, ​एमिले वापसि  को हिंदी सिनेमा समथर्क अवॉर्ड, सियाली भगत ओर कंगना शर्मा को हिंदी सिनेमा गौरव अवार्ड से सम्मनित किया गया इसके साथ ही नुक्कड़ नाटक व फैशन शो का भी आयोजन किया गया।

Comments

Popular posts from this blog

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच

उप श्रम आयुक्त द्वारा लिखित में मांगों पर सहमति दिए जाने के बाद ट्रेड यूनियनों ने समाप्त किया धरन : गंगेश्वर दत्त शर्मा

तुलसीदास जयंती पर जानें हनुमान चालीसा की रचना कैसी हुई : रविन्द्र दाधीच