सफलतापूर्वक मोतियाबिंद के ऑपरेशन कराने के बाद वापस मेहंदीपुर जाते हुए लाभार्थी

 

शब्दवाणी समाचार रविवार 15 जनवरी 2023, सम्पादकीय व्हाट्सप्प 8803818844, नई दिल्लीप्रगतिशील क्षत्रिय स्वर्णकार सभा गांधी नगर दिल्ली की और से मेहंदीपुर बालाजी में स्वास्थ्य जांच शिविर का आयोजन ओम प्रकाश सेवा सदन में स्वर्गीय श्री मति अनारदेवी एवम शेर सिंह जी की पुण्य तिथि पर किया गया,शिविर का उद्घाटन महंत श्री रामकिशोर दास जी महाराज एवम प्रसिद्ध समाजसेवी सत्यभुषण जैन ने दीप प्रज्वलित कर किया,पूर्वी दिल्ली के पूर्व महापौर श्याम सुन्दर अग्रवाल शिविर में विशेष अतिथि के रूप में शामिल हुए,सभा के अध्यक्ष राजेश वर्मा ने सभी को पटका पहनाकर एवम प्रतीक चिन्ह के रूप में भगवान श्री राम की प्रतिमा देकर सम्मानित किया,शिविर में 622 लोगो की आंखों की जांच कर सभी को चश्मे,आई ड्रॉप दी गई,188 लोगो के कानो की जांच कर जिनकी सुनने की शक्ति कमजोर थी ऐसे 29 लोगो को निशुल्क कानो की मशीन दी गई,25 लोगो को मोतियाबिंद के ऑपरेशन के लिए चुना गया।

पूर्व महापौर श्याम सुन्दर अग्रवाल ने कहा नर सेवा,नारायण सेवा जरूरतमंदों की सेवा के माध्यम से हम लोगों का दिल जीत सकते है,पैसा बहुत लोगो के पास होगा लेकिन जो व्यक्ति अपने मेहनत के पैसे को नेक कामों में,जरूरतमंदों की सेवा में लगाता है वही सच्चा और अच्छा समाजसेवक है, स्वर्णकार सभा पिछले 6 वर्षो से मेहंदीपुर बालाजी में स्वास्थ्य जांच शिविर का आयोजन कर यहां के जरूरतमंद लोगों की आंखो, कानो की जांच कर उन्हे मुफ्त उपकरण देकर सेवा में लगी है यहां के निवासी शिविर लगने का इंतजार करते है ताकि वे शिविर का लाभ उठा सके,आज जिन जरूरतमंद 25 लोगो को मोतियाबिंद के ऑपरेशन की जरूरत है उन्हे दिल्ली लाया गया है  उनके ऑपरेशन,आने जाने का खर्चा,दवाइयों का खर्चा सब संस्था वहन करेगी। शिविर में स्थानीय थानाध्यक्ष अजीत कुमार, कृष्णा नगर मंडल के पूर्व अध्यक्ष रणवीर कुमार हैप्पी,डॉक्टर जयदीप धामा,कविता वर्मा,हरीश गुप्ता,प्रमोद वर्मा,विनोद कश्यप,संजय चौहान, जीतूँ माहेश्वरी ,बब्लु ,अनीस माहेश्वरी,आशु चौहान ने शिविर आयोजित करने में विशेष योगदान दिया।

Comments

Popular posts from this blog

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच

उप श्रम आयुक्त द्वारा लिखित में मांगों पर सहमति दिए जाने के बाद ट्रेड यूनियनों ने समाप्त किया धरन : गंगेश्वर दत्त शर्मा

तुलसीदास जयंती पर जानें हनुमान चालीसा की रचना कैसी हुई : रविन्द्र दाधीच