‘ड्रूम ने प्रदूषण के खतरे से निपटने के लिए बिंदास घूम लेट्स गो ग्रीन ’अभियान शुरू किया

शब्दवाणी समाचार शनिवार 19 अक्टूबर 2019 नई दिल्ली। पर्यावरणीय प्रदूषण के खतरे से निपटने के लिए भारत के सबसे बड़े और अग्रणी ऑनलाइन ऑटोमोबाइल ट्रांजेक्शनल मार्केटप्लेस ड्रूम ने अपना 'ड्रूम बिंदास घूम लेट्स गो ग्रीन 'अभियान शुरू किया है। यह कंपनी द्वारा समाज में योगदान करने के लिए की गई कई पहलों में से एक है, और दिल्ली-एनसीआर को एक स्वच्छ और ग्रीन सिटी में बदलने के सरकार के दृष्टिकोण के अनुरूप है। इस अभियान के एक हिस्से के तौर पर गुरुग्राम में ड्रूम परिसर के प्रत्येक कर्मचारी ने परिसर के चारों ओर हाइपोस्टेस किस्म के 1000 से ज्यााद पौधे लगाकर प्रदूषण की बुराइयों पर अंकुश लगाने का संकल्प लिया।



अपनी स्थापना के बाद से ड्रूम समाज को ज्यादा महत्व देने के लिए प्रतिबद्ध रहा है और स्थायी समाधान और व्यवस्थाओं को प्रोत्साहन देने और आगे बढ़ाने में सक्रिय रूप से शामिल रहा है। इस अभियान के माध्यम से ब्रांड वैश्विक स्तर पर 'गो ग्रीन' पहल को मजबूती देने में अपना पूरा समर्थन देना चाहता है। हाइपोस्टेस एक पोल्का-डॉटेड पौधों की प्रजाति है जो ऑक्सीजन-समृद्ध करने की क्षमता के लिए जानी जाती है। इस वजह से ड्रूम ने इस पौधे को वृक्षारोपण के लिए चुना है। दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण का स्तर खतरनाक रूप से बढ़ रहा है और इसको देखते हुए ड्रूम की यह पहल बड़ा अंतर लाने में मदद कर सकती है। साथ ही दूसरों के लिए आदर्श उदाहरण के रूप में भी काम कर सकती है।
इस अभियान पर टिप्पणी करते हुए डूम के संस्थापक और सीईओ संदीप अग्रवाल ने कहा, “ड्रूम में हम समुदाय और पर्यावरण पर सकारात्मक प्रभाव डालने वाले मुद्दों पर प्रभावी रूप से योगदान देने को लेकर भावुक और सक्रिय हैं। उदाहरण के लिए, हमने इससे पहले 'टॉकिंग गॉड' जैसे अभियान शुरू किए थे, जो मुख्य रूप से सड़क पर आने वाले गुस्से को लेकर था। इसके बाद 'एम्बुलेंस फर्स्ट' अभियान चलाया जो जवाबदेह ड्राइविंग को बढ़ावा दिया गया। हमारा अभियान ड्रूम बिंदास 'लेट्स गो ग्रीन' अभियान उसी दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है। यह अभियान काफी सफल रहा है और पहले से समृद्ध रहा है, क्योंकि हाल ही में ड्रूम कैंपस ने खुद को देश के सबसे स्वच्छ और सबसे हरे-भरे (ग्रीन) कार्यालय परिसर के रूप में स्थापित किया है। कॉर्पोरेट्स के रूप में यह हमारी नैतिक ज़िम्मेदारी है कि हम उस समाज में योगदान दें, जिसमें हम इस स्थिति तक पहुंचे हैं, और मुझे उम्मीद है कि अन्य संगठन भी इस बात को महसूस करेंगे और ऐसे सार्थक मुद्दों से खुद को जोड़ेंगे और प्रतिबद्धता दर्शाएंगे।”
'गो ग्रीन' अभियान में ड्रूम की भावुक भागीदारी वैश्विक संगठनात्मक माहौल में संगठनात्मक संस्कृति के भीतर स्थायी उपायों को एकीकृत करने की बढ़ती चेतना के साथ तालमेल को देखते हुए सुनिश्चित की गई है। इस तरह के कॉर्पोरेट के नेतृत्व वाले आंदोलन सामाजिक और पर्यावरणीय चिंताओं को कम करने के प्रति अधिक जागरूकता पैदा करने में मददगार हो सकते हैं। इस प्रकार मूर्त सकारात्मक कार्यों के लिए मार्ग प्रशस्त कर सकते हैं। इस पहल के माध्यम से  ड्रूम भारत और दुनियाभर में सबसे अधिक नैतिक रूप से जागरूक और सामाजिक रूप से जिम्मेदार उद्यमों में से एक के रूप में अपनी स्थिति को मजबूत करता है।



Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

बिल्कुल देसी वीडियो कंटेंट प्लेटफार्म ट्रेलर ने 20 मिलियन नए यूज़र दर्ज किए

जिला हमीरपुर के मौदहा में प्रधानमंत्री आवास योजना में चली गांधी की आंधी