जिला हमीरपुर में डीआईजी ने मुस्लिम समुदाय के लोगों के साथ की बैठक

शब्दवाणी समाचार वीरवार 26 दिसम्बर 2019 (दुर्गेश कश्यप) मौदहा,हमीरपुर। कस्बे के रहमानिया मकतब में डीआईजी की अध्यक्षता में एक बैठक का आयोजन किया गया। जिसमे बांदा से आये डीआईजी दीपक कुमार ने लोगो से वार्ता की और एनआरसी व सीएए के सम्बन्ध मे जो भय था उसको दूर करने व विस्तार से जानकारी देकर लोगो को जागरूक किया व कहा कि बीते  शुक्रवार को जुलूस दौरान हुए उपद्रव में पकड़े गये जो बेगुनाह लोग है उन पर कोई कानूनी कार्रवाई नहीं कि जायेगी,बैठक मे भारी संख्या में लोग उपस्थित रहे। इसी के साथ नये युवाओं ने डीआईजी से एनआरसी व सीएए से संबंधित सवाल किये जिसपर  डीआईजी दीपक कुमार ने विस्तार से जानकारी दी जानकारी पाकर युवको ने संतुष्ट होकर डीआईजी का तालियों से स्वागत किया।



गौरतलब हो कि कस्बे में बीते शुक्रवार की दोपहर नमाज बाद एनआरसी और सीएए के विरोध में मुस्लिम समुदाय के लोगों ने जुलूस निकाला था जिसको लेकर भीड की तरफ से पथराव और पुलिस की तरफ से लाठीचार्ज भी हुआ था।इसके बाद आलाधिकारियों के समझाने बुझाने पर किसी तरह मामला शांत हो गया था।इसी के बाद से ही कस्बे में भारी पुलिस बल तैनात किया गया था कस्बे के विभिन्न चौराहों और गलियों में पुलिस बल निगरानी बनाए रही है।पुलिस अधीक्षक श्लोक कुमार सहित डीआईजी दीपक कुमार इससे पहले भी कस्बे मे मीटिंग कर चुके है जिसमे एसपी रहमानिया इन्टर कालेज व डीआईजी नगरपालिका में शांति समिति की बैठक कर चुके हैं और लोगों को एनआरसी और सीएए के बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए लोगों से शांति बनाए रखने की अपील कर चुके हैं।इसी के बाद आज मंगलवार दोपहर डीआईजी की अध्यक्षता में कस्बे के रहमानिया इन्टर कालेज में एक शांति समिति की बैठक की गई इस दौरान डीआईजी दीपक कुमार ने बैठक में मौजूद लोगों को एनआरसी और सीएए के बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए सभी से शांति बनाए रखने की अपील की।इस मौके पर पुलिस अधीक्षक श्लोक कुमार, क्षेत्राधिकारी सौम्या पांडेय, कोतवाली प्रभारी विक्रमाजीत सिंह व शहर पेश ईमाम करामत उल्ला साहब सहित कस्बे के तमाम सम्भ्रान्त लोग मौजूद रहे।



Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

उप प्रधानाचार्य प्रशासनिक अनियमितताएं और भ्र्ष्टाचार में लिप्त, मुख्य अधिकारी नहीं ले रहे संज्ञान