आठवें वर्ल्ड ऑटो फोरम पुरस्कारों में सितारों का जलवा

शब्दवाणी समाचार, मंगलवार 13 जनवरी  2021, नई दिल्ली। आठवें वर्ल्ड ऑटो फोरम के पुरस्कार समारोह समारोह में  पुरस्कारों के लिए इस वर्ष 6 श्रेणियों का चयन किया गया। आठवें वर्ल्ड ऑटो फोरम के पुरस्कार समारोह समारोह में ऑटोमेकर श्रेणी में मारुति सुजुकी इंडिया सप्लाई चेन के हेड सुनील कक्कड़, हुंडई मोटर इंडिया, हीरो मोटोकॉर्प लिमिटेड के विजय सेठी और टीवीएस मोटर कंपनी के राजेंद्र भट्ट को पुरस्कार दिए गए। जेबीएम ऑटो लिमिटेड को ईवी श्रेणी में पुरस्कार मिला। ऑटो डीलर्स में कटारिया ग्रुप को पुरस्कार मिला। ऑटो और मोबिलिटी टेक कंपनियों में श्रीराम ऑटोमॉल के समीर मल्होत्रा,कैमकॉम टेक्नोलॉजी, आईटी ट्राइएंगल इंफोटेक को पुरस्कार वितरित किया गया। मोबिलिटी कंपनी में ट्रांसलीज और बेस्ट के प्रेसिडेंट हरि कौशिक,ओआरआईएक्स इंडिया के संदीप गंभीर, कार्स ऑन रेंट, एडिलविस जनरल इंश्योरेंस को पुरस्कार दिया गया, जबकि ऑफ्टर मार्केट कैटिगरी में एक्सज़ो नोबल को पुरस्कार वितरित किया गया। 

आईआईटी दिल्ली ने इन पुरस्कारों के लिए काफी गहराई से रिसर्च की । आठवें वर्ल्ड ऑटो फोरम के पुरस्कारों के आयोजन में वॉक्सवैगन और एमजी मोटर्स इंडिया ने ओईएम गोल्ड पाटर्नर्स, गैलॉप्स मोटर्स ने गोल्ड पार्टनर्स, एमप्लस सुपर, फोकस इंजीनियरिंग और के2बी लर्निंग ने पार्टनर के रूप में अपनी भूमिका निभाई, जबकि डब्ल्यूएएफ टीवी और पैट्रियॉट मीडिया पार्टनर और एक्सपोइज्म वर्चुअल इवेंट प्लेटफार्म पार्टनर थे। आईआईटी टीम की महीनों की रिसर्च, 10 से भी ज्यादा घंटों के जूरी राउंड और कई ई-मेल राउंड होने से हमारे लिए सर्वश्रेष्ठ और पुरस्कार के हकदार विजेताओं को चुना गया।

वर्ल्ड ऑटो फोरम के सीईओ अनुज गुगलानी ने कहा, “डब्ल्यूएएफ पुरस्कार 2021 इस बात का सबूत है कि इंडस्ट्री के सितारों ने किस तरह इस बार अपने कस्टमर्स, टीम, सप्लायर्स के हितों का ध्यान दिया। इसमें शारीरिक, मानसिक और वित्तीय स्थिति में बाकी संतुलन दिखाया।

फिक्की के महीसचिव दिलीप चिनॉय ने कहा, “2020 अधिकतर इंडस्ट्रीज और कंपनियों के लिए ऊथल-पुथल से भरा साल था। इंडस्ट्रीज और कंपनियों ने कोरोना के प्रभाव से निपटने में काफी सक्रियता दिखाई। कोरोना के अस्थिर दौर से निकलकर ऑटोमोबाइल इंडस्ट्रीज ने ही सबसे पहले धमाकेदार वापसी की। डब्ब्ल्यूएएफ पुरस्कार के जूरी के सदस्य के तौर पर यह देखकर काफी खुशी हुई कि कंपनियों ने इस साल केवल शुद्ध मुनाफे को नहीं देखा, बल्कि अपने कर्मचारियों के हितों के संरक्षण में सबसे आगे रहे। कर्मचारियों को गले लगाया।

 गैलॉप्स मोटर्स के सीएमडी तरुण पुगलिया ने कहा, “डब्ल्यूएएफ पुरस्कार मेरे दिल के बेहद नजदीक है। हम शुरुआत से ही डब्ल्यूएएफ से जुड़े हैं और हमें इसका बेहद गर्व है कि डब्ल्यूएफ पुरस्कार ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री के पर्दे के पीछे काम करने हीरोज को पहचान ही नहीं दिलाता, बल्कि उन्हें उत्साहित भी करता है।  यह हम सभी लोगों को सर्वश्रेष्ठ परंपरा और इस इंडस्ट्री के लेटेस्ट इनोवेशंस से ये हम सभी को समृद्ध बनाती है, जिससे हम दिन पर दिन ज्यादा तेज और उज्जवल हो रहे हैं।

जेएस फोर व्हील मोटर्स के एमजी और एफएडीए के निदेशक और एएसडीसी के चेयरमैन निकुंज संघी ने कहा, “डब्ल्यूएफ जूरी का हिस्सा बनने से काफी अच्छा था। इस बार काफी गहराई से रिसर्च की गई, विचार-विमर्श में काफी उत्साह से लोगों ने भाग लिया और इसके निष्कर्ष बेहद प्रासंगिक थे।

कॉन्टिनेंटल ऑटोमोटिव कंपोनेंट्स (इंडिया) क प्रबंध निदेशक और कॉनन्टिनेंटल इंडिया के कंट्री हेड पारसनाथ दोरईस्वामी ने डब्ल्यूएएफ की जूरी का हिस्सा बनने का अपना अनुभव शेयर करते हुए कहा,  “भारत के बेस्ट प्रोफेशनल्स से रूबरू होना  अपने आप में काफी अविश्वसनीय अहसास था। ये ससब मिलकर काफी शानदार काम कर रहे हैं।  वर्ल्ड ऑटो फोरम 2021 के पुरस्कार विजेताओं के चयन के लिए काफी कड़ी प्रक्रिया अपनाई गई। इसके लिए आआईटी दिल्ली की टीम ने काफी कठिन रिसर्च की।  यह हम जूरी के सदस्यों के लिए भी कठिन रहा। जूरी के सदस्यों ने विजेताओं के चयन पर 10 से भी ज्यादा घंटों तक विचार-विमर्श किया।

Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

मीडिया प्रेस क्लब का वार्षिक कलैंडर हुआ विमोचन