स्लीपवेल ने 500 बेडिंग यूनिट्स का सहयोग दिया

◆ राष्ट्रीय राजधानी में ऑक्सीजन बेड्स की घोर कमी को पूरा करने के लिए 

◆ दुनिया की सबसे विशाल आईसोलेशन सुविधा को अपग्रेड करने में सरकार को सहयोग देना जारी

◆ इस समय 500 बेडिंग यूनिट सरदार पटेल कोविड केयर सेंटर में स्थापित किए और आगे भी उनकी जरूरतों में सहयोग करते रहेंगे

◆ एक जिम्मेदार कॉर्पोरेट के रूप में स्लीपवेल ने 10,000 बेड, मैट्रेस एवं पिलो का अनुदान दिया, ताकि 2020 में 

दुनिया की सबसे बड़ी कोविड-19आईसोलेशन सुविधा स्थापित करने में मदद मिल सके

500 नई बेडिंग यूनिट खास ऑक्सीजन पर रहने वाले मरीजों के लिए डिज़ाईन की गई हैं और इस सुविधा की जरूरत को पूरा करती हैं

दुनिया की सबसे बड़ी कोविड-19 सुविधा को स्लीपवेल का योगदान इस लिंक पर देखें :

शब्दवाणी समाचार, बुधवार 28 अप्रैल  2021गौतम बुध नगर। भारत में कोविड-19 के मामलों में बहुत तेजी से उछाल आने के साथ हॉस्पिटल बेड्स एवं ऑक्सीजन सिलेंडर की मांग बढ़ती जा रही है। महामारी से लड़ने के लिए स्वास्थ्य सेवा समुदाय और सरकार हर संभव प्रयास कर रहे हैं, लेकिन यह भी बहुत जरूरी है कि कॉर्पोरेट्स आगे आएं और इस आपदा के समय देश का सहयोग करें। शीला फोम लिमिटेड की ओर से, भारत का अग्रणी मैट्रेस ब्रांड, स्लीपवेल एक बार फिर देश भर में चल रहे हैल्थकेयर के प्रयासों में सहयोग देने के लिए आगे आया है।

सरकार के साथ अपना गठबंधन जारी रखते हुए, स्लीपवेल ने भारत की सबसे बड़ी कोविड-19 सुविधा को 500 बेडिंग यूनिट अनुदान में दी हैं। इन बेडिंग यूनिट्स में मैट्रेस, पिलो और बैक-रेस्ट के साथ बेड हैं, जो खासकर उन मरीजों के लिए डिज़ाईन किए गए हैं, जिन्हें ऑक्सीजन की जरूरत होती है। कंपनी ने पिछले साल 10,000 बेडिंग यूनिट के अनुदान के साथ इस सुविधा की स्थापना में अपना सहयोग दिया था।

मैनुफैक्चरिंग में स्लीपवेल की संपन्न विरासत और विशेषज्ञता के साथ, कंपनी ने रिकॉर्ड समय में मैट्रेस का उत्पादन, डिलीवरी एवं असेंबली की। भारत तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) द्वारा संचालित, सरदार पटेल कोविड केयर सेंटर अब कोविड-19 से प्रभावित मरीजों के लिए खुल गया है।

इस अभियान के बारे में श्री राहुल गौतम, मैनेजिंग डायरेक्टर, शीला फोम लिमिटेड ने कहा, ‘‘कोविड-19 की स्थिति भारत में बिगड़ती जा रही है, इस समय हम सबको आगे कदम बढ़ाकर अपने अपने तरीके से हैल्थकेयर इन्फ्रास्ट्रक्चर एवं कोरोना वॉरियर्स का सहयोग करने की जरूरत है। स्लीपवेल में हम यह सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध हैं कि हर कोविड-19 मरीज को सुरक्षित व स्वच्छ बेड मिले, ताकि वह तेजी से स्वास्थ्य लाभ ले सके। हमें सरकार के साथ गठबंधन करने पर गर्व है। इस समय हमने 500 बेडिंग यूनिट सरदार पटेल कोविड केयर सेंटर में स्थापित किए हैं और हम आगे भी उनकी जरूरतों में सहयोग करते रहेंगे।

ये मैट्रेस एवं बेड क्वैरेंटाईन करने के लिए खास तौर से बनाए गए हैं, इसलिए इन पर लंबे समय तक बैठना और सोना बहुत आरामदायक है। हैल्थमैट मैट्रेस कम्फर्ट व सपोर्ट के लिए प्रोप्रायटरी फोम कोर से बनाए गए हैं। ये लंबे समय तक आराम से बैठने या सोने के लिए डिज़ाईन किए गए हैं। ये मैट्रेस खास कवर के साथ आते हैं, इसलिए इन्हें वाईप करना और सैनिटाईज़ करना आसान है। इन्हें पेटेंटेड नीम फ्रेश टेक्नॉलॉजी से ट्रीट किया गया है, ताकि इनमें एलर्जन एवं जर्म्स शून्य हों।

खास रूप से डिज़ाईन किए गए एनवायरोबेड को 5 मिनट के अंदर असेंबल किया जा सकता है। यह 100 प्रतिशत प्राकृतिक एवं रिसाईक्लेबल कॉरुगेटेड हार्डबोर्ड का बना है। साथ ही यह वॉटर रज़िस्टैंट है और पूर्णतः सैनिटाईज़ किया जा सकता है। यह बेड लाईट वेट होने के साथ पोर्टेबल है, इसके बावजूद यह 250 किलोग्राम से अधिक वजन सम्हाल सकता है।

एक जिम्मेदार कॉर्पोरेट के रूप में, स्लीपवेल अपने कर्मचारियों एवं यूज़र्स के स्वास्थ्य व सुरक्षा को व्यवसाय से ऊपर रखता है। कंपनी संपूर्ण वैल्यू चेन, यानि फैक्ट्री से लेकर आईसोलेशन सेंटर तक हाईज़ीन बनाए रखने के लिए कठोर एसओपी का पालन करती है।

Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

रेलवे स्पोर्ट्स प्रमोशन बोर्ड ने प्रशिक्षण शिविर के लिए चयन समिति का गठन किया