पियर्सन इंडिया ने यू.पी.एस.सी. परीक्षा की तैयारी के पोर्टफोलियो को और मजबूत बनाया

शब्दवाणी समाचार, बुधवार 21 अप्रैल  2021, नई दिल्ली। शिक्षा के माध्यम से अपनी सफलता संभावनाओं को बढ़ाने में विद्यार्थियों की सहायता करने की वचनबद्धता की दिशा में विश्व की प्रमुख लर्निंग कंपनी पियर्सन ने आज यू.पी.एस.सी. परीक्षा की तैयारी के लिए अपने नए शीर्षकों को पेश किया जो छात्रों को उच्च गुणवत्ता की सामग्री मुहैया करवाएंगे। पियर्सन इंडिया ने पुस्तकों और एप के मिश्रित शिक्षण समाधान को पेश करने के लिए मशहूर लेखक श्री देवदत्त पटनायक और श्री श्रीराम श्रीरंगम और श्री रोहित दियो झा के साथ हिस्सेदारी की है। यह समाधान यू.पी.एस.सी. की तैयारी करने वाले छात्रों के लिए सभी मुख्य विषयों को कवर करेगा।

देवदत्त पटनायक द्वारा रचित पुस्तक ‘इंडियन कल्चर, आर्ट एंड हेरिटेज’ (भारतीय संस्कृति, कला एवं विरासत) यह दिखाती है कि कैसे संस्कृति, कला एवं विरासत के मिश्रण ने शुरुआत से भारतीय समाज की रचना, इसका निर्माण और इसे पुनर्जीवित किया है। इसी तरह से श्रीराम श्रीरंगम और रोहित दियो झा द्वारा रचित पुस्तक इंडियन पोलिटी (भारतीय राजनीती) में भारतीय संविधान, इसके स्रोत और संशोधन, राज्य नीति के मौलिक सिद्धांत, मौलिक अधिकार और कर्तव्य और इससे संबंधित अधिनियम, चुनाव आयोग और अनुसूचियां जैसे अध्याय दिए गए हैं।

श्री राजेश पंकजशन, डायरेक्टर- प्रोडक्ट्स एंड पोर्टफोलियो, पियर्सन इंडिया ने कहा, “देश में लाखों छात्र हर वर्ष सिविल सर्विसेज़ की परीक्षा की तैयारी करते हैं। सी.एस.ई. के आंकड़ों के अनुसार वर्ष 2019 में 8 लाख छात्रों ने सिविल सर्विसेज़ की परीक्षा दी थी जो वह परीक्षा है जिसमें देश के सबसे ज्यादा छात्र बैठते हैं। इस लिए यह छात्रों के लिए बेहद अहम है कि उनके पास इस परीक्षा की तैयारी करने के लिए उच्च गुणवत्ता के स्रोत और तकनीक उपलब्ध हो। सिविल सर्विसेज़ में पियर्सन इंडिया की सामग्री को विश्वस्तरीय समझा जाता है और अब, देवदत्त पटनायक और श्रीराम श्रीरंगम द्वारा रचित नए मिश्रित शिक्षण स्रोतों के साथ, हमें विश्वास है कि छात्रों के पास इस परीक्षा की तैयारी करने के लिए और सफलता हासिल करने के लिए एक बेहतरीन समाधान होगा। 

पौराणिक कथाओं के विज्ञानी, वक्ता और चित्रकार श्री देवदत्त पटनायक ने कहा, “कला और संस्कृति एक विषय के तौर पर यू.पी.एस.सी. परीक्षा का एक अहम अंग हैं। प्रीलिम्स में ऑब्जेक्टिव सवालों को हल करने में सहायता करने के साथ-साथ इससे यह भी पता चलता है कि छात्र कितनी अच्छी तरह से समय और क्षेत्र को ध्यान में रखते हुए विश्व, अर्थशास्त्र, राजनीती, सभ्यता को समझते हैं। मुझे पियर्सन इंडिया के साथ मिलकर कला और संस्कृति पर एक ऐसी पुस्तक को पेश करते हुए बेहद ख़ुशी हो रही है जिसकी सामग्री को बहुत ही सावधानी से रचा गया है और जिसे विभिन्न विषयों, भुगौलिक क्षेत्रों, इतिहास में बांटा गया है और जो छात्रों को “संस्कृति” के आधार और इसमें शामिल सभी तत्वों को समझने में मदद करेगी। मुझे उम्मीद है कि यह पुस्तक पाठकों के लिए बहुत ही मज़ेदार और मनोरंजक साबित होगी, छात्रों को प्रतियोगी परीक्षाओं में सफल होने में मदद करेगी, और यह देश के भविष्य के नौकरशाहों को तराशने में मदद करेगी।

श्रीराम’ज़ आई.ए.एस. के संस्थापक और मालिक श्रीराम श्रीरंगम ने कहा, “पुरे विश्व में चल रहे वर्तमान संकट ने विकास को एक नया रूप देने और इसकी पुनर्रचना करने के नए अवसर पेश किए हैं। इसने सरकार को अपनी पॉलिसियों और नीतियों पर पुनर्विचार करने के लिए मजबूर किया है ताकि विकास की गति को नुकसान पहुंचाए बिना इस महामारी के विभिन पक्षों पर काबू पाया जा सके। इसलिए, यू.पी.एस.सी. के छात्रों के लिए यह समझना आवश्यक हो जाता है कि संकट की इस घड़ी के परिणाम कैसे होंगे और वह भविष्य में अपने समाज को कैसे आकार देंगे। पियर्सन के साथ हिस्सेदारी में पेश की गई पुस्तक इंडियन पोलिटी छात्रों को भारतीय राजनीती से जुड़े अहम विषयों को समझने में मदद करेगी और यू.पी.एस.सी. की परीक्षा की तैयारी की राह पर उनके लिए एक महत्वपूर्ण मार्गदर्शक साबित होगी।

नए बेहतरीन शीर्षकों के साथ पियर्सन इंडिया एक एप (एंड्राइड और आई.ओ.एस.) को भी पेश कर रही है जो छात्रों को एक मिश्रित शिक्षा अनुभव प्रदान करेगी और शिक्षा की सामग्री को एक नए बाईट-साइज़ फॉर्मेट में पेश करेगी जिसे रोज़ाना आधार पर छात्रों तक पहुँचाया जाएगा। पियर्सन इंडिया इस एप के लिए प्रमुख कंटेंट रचनाकारों से हिस्सेदारी कर रही है और यह छात्रों को मुफ्त स्रोत मुहैया करवाएगी।

Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

बिल्कुल देसी वीडियो कंटेंट प्लेटफार्म ट्रेलर ने 20 मिलियन नए यूज़र दर्ज किए

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता