प्रैट एंड व्हिटनी ने कोविड-19 के लिए तेलंगाना को ऑक्‍सीजन कन्‍सेनट्रेटर्स, पीपीई किट्स दिए

तेलंगाना के सार्वजनिक स्‍वास्‍थ्‍य केंद्रों को दान में दिए ऑक्‍सीजन कन्‍सेनट्रेटर्स और पीपीई किट्स 

प्रैट एंड व्हिटनी और रेथियोन टेक्‍नोलॉजीज कंपनियों के राहत प्रसायों का है एक हिस्‍सा, जिसमें शामिल हैं 1000 ऑक्‍सीजन कन्‍सेनट्रेटर्स, मोबाइल ऑक्‍सीजन ट्रक्‍स और 12 लाख पीपीई किट्स 

कर्मचारियों के चंदे के बराबर दान और राहत-कार्यों को पूरे 2021 में निरंतर बनाए रखेंगे 

शब्दवाणी समाचार, शुक्रवार 25 जून  2021हैदराबाद। कोविड-19 के खिलाफ भारत की लड़ाई और राहत में अपना समर्थन देने के प्रयासों के तहत प्रैट एंड व्हिटनी (पीएंडडब्‍ल्‍यू), जो रेथियोन टेक्‍नोलॉजीज कॉर्प (NYSE: RTX) की एक इकाई है, ने आज तेलंगाना के मारापल्‍ली में सामुदायिक स्‍वास्‍थ्‍य केंद्र और कोहीर में सरकारी सिविल अस्‍पताल को ऑक्‍सीजन कन्‍सेनट्रेटर्स और पर्सनल प्रोटेक्टिव किट्स (पीपीई) उपलब्‍ध कराए। अति-आवश्‍यक ऑक्‍सीजन कन्‍सेनट्रेटर्स और पीपीई किट्स अस्‍पताल में ऑक्‍सीजन आपूर्ति को सक्षम बनाएंगे और उन्‍हें भविष्‍य की आकस्मिकताओं के लिए तैयार होने में मदद करेंगे। इन उपकरणों का वितरण तेलंगाना सरकार और युनाइटेड वे इंडिया के साथ भागीदारी में किया गया है।   

अष्मिता सेठी, प्रेसिडेंट एंड कंट्री हेड, प्रैट एंड व्हिटनी ने कहा, “प्रैट एंड व्हिटनी कई मोर्चों पर कोविड-19 की दूसरी लहर से भारत की रिकवरी में मदद के लिए प्रतिबद्ध है। राहत प्रयासों में तेजी लाने, विशेषकर वहां जहां हमारे कर्मचारी और उनके परिवार हैं, हमें तेलंगाना सरकार के साथ भागीदारी करने पर गर्व है, इसके अलावा हमारा वैक्‍सीन अभियान और सीएसआर गतिविधियों को भारत सरकार, स्‍वास्‍थ्‍य संस्‍थाओं एवं धर्मार्थ संगठनों के साथ मिलकर रणनीतिक रूप से चलाया जा रहा है।

जयेश रंजन, प्रिंसीपल सेक्रेटरी, इंडस्‍ट्रीज एंड कॉमर्स (आईएंडसी) और इंफोर्मेशन टेक्‍नोलॉजी (आईटी) डिपार्टमेंट, तेलंगाना सरकार ने कहा, “तेलंगाना सरकार प्रैट एंड व्हिटनी द्वारा की गई मदद की प्रशंसा करती है। ऑक्‍सीजन कन्‍सेनट्रेटर्स और पीपीई किट्स संक्रमण से प्रभावित लोगों को तत्‍काल राहत प्रदान करेंगे और हमारे फ्रंटलाइन हेल्‍थ केयर वर्कर्स की सुरक्षा बनाए रखने में मदद करेंगे। तेलंगाना में सरकारी स्‍वास्‍थ्‍य केंद्रों को दिया गया यह दान भारत में प्रैट एंड व्हिटनी एवं अन्‍य रेथियोन टेक्‍नोलॉजीज कंपनियों द्वारा एक बड़े कोविड-19 राहत प्रयासों का हिस्‍सा है। सहायता के पहले चरण के हिस्‍से के रूप में - कंपनियों ने 1,000 ऑक्‍सीजन कन्‍सेनट्रेटर्स, 12 लाख पीपीई और रेट्रोफिटिड मोबाइल ऑक्‍सीजन ट्रक्‍स, जो लगभग 270,000 लीटर ऑक्‍सीजन का परिवहन कर सकते हैं, का दान दिया है। इन मोबाइल ऑक्‍सीजन ट्रक्‍स को देश में भारतीय वायु सेना द्वारा प्रैट एंड व्हिटनी द्वारा संचालित बोइंग जी-17 ग्‍लोबमास्‍टर III विमान के जरिये लाया गया है।  

अमित पाठक, जनरल मैनेजर, प्रैट एंड व्हिटनी इंडिया ने कहा, “हैदराबाद में हमारे अत्‍याधुनिक प्रशिक्षण केंद्र, स्‍थानीय विश्‍वविद्यालयों के साथ एयरोस्पेस कौशल विकास कार्यक्रम और टी-हब, हैदराबाद के साथ चल रहे इनोवेशन प्रोजेक्‍ट्स के साथ प्रैट एंड व्हिटनी की तेलंगाना राज्‍य के साथ एक मजबूत भागीदारी है। हमनें अपने स्‍थानीय समुदायों के स्‍वास्‍थ्‍य और सुरक्षा को सुनिश्चित करने के लिए यहां निवेश किया है और यहां प्रमुख हितधारकों के साथ अपना सहयोग प्रदान करना जारी रखेंगे। कंपनी कोविड-19 राहत प्रयासों में मदद करने वाले विभिन्‍न गैर-लाभकारी संस्‍थाओं को कर्मचारियों द्वारा दिए जाने वाले दान के बराबर अपना सहयोग दे रही है, और इसकी स्‍थानीय टीमें भारत में पूरे 2021 के दौरान राहत कार्य करना जारी रखेंगी।  वाणिज्यिक, सैन्‍य, व्‍यापार, हेलीकॉप्‍टर, सामान्‍य और क्षेत्रीय विमानन में 680 से अधिक विमानों में 1500 से अधिक इंजन और एपीयू के साथ सेवा में - प्रैट एंड व्हिटनी के पास भारत में एयरोस्‍पेस इंजन आईईएम का सबसे बड़ा आधार है। हैदराबाद में प्रैट एंड व्हिटनी का अत्‍याधुनिक प्रशिक्षण केंद्र भारत और दुनियाभर से इंजन रखरखाव इंजीनियरों एवं तकनीशियनों की एक मजबूत पीढ़ी का निर्माण कर रहा है। 

Comments

Popular posts from this blog

सरकारी योजनाओं से संबंधित डाटा ढूंढना होगा अब आसान

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

रेलवे स्पोर्ट्स प्रमोशन बोर्ड ने प्रशिक्षण शिविर के लिए चयन समिति का गठन किया