दीपावली पर डॉ.गुनीता सिंह बच्चों में खुशियां बिखेरती हुई

शब्दवाणी समाचार, मंगलवार 2 नवम्बर  2021, नई दिल्ली। दीवाली उम्मीदों का प्रतीक है, यह त्योहार घर में खुशियां लेकर आता है। लेकिन इस दीवाली, खुशियों का पैमाना वो नहीं है जो महामारी से पहले था। पहले जैसी बहुत सी चीज़ें आज हमारे बीच नहीं हैं, महामारी में हम बहुत से लोगों को खो चुके हैं। तो इस त्योहार को खास एवं खुशियों से भरपूर बनाने के लिए डाॅ गुनीता सिंह, बीडीएस, एमडी डेंटल लेज़र्स, डायरेक्टर, डेंटेम एवं एसोसिएट कन्सलटेन्ट सर गंगा राम अस्पताल ने इस दीवाली एक खास ग्रेटीट्यूड सीरीज़ की योजना बनाई है। नई दिल्ली के वसंत विहार के पास कुली कैंप से शुरू हुआ और आज चौथे दिन नेहरू कैंप में कार्यक्रम आयोजित किया गया, जहां लगभग 80 बच्चों ने फिर से ड्राइंग प्रतियोगिता में भाग लिया। और अब कल पुरस्कार वितरण होगा।

खुशी बांटने से खुशी बढ़ती है’ इसी सोच के साथ डाॅ गुनीता सिंह ने अपनी टीम एवं दोस्तों के साथ मिलकर दीवाली से 7 दिन पहले इस सीरीज़ की शुरूआत की। इसके तहत शुक्रवार को बच्चों के लिए पहली चित्रकला प्रतियोगिता का आयोजन किया गया, जिसके बाद पुरस्कार भी दिए गए। पहले दो दिन के कार्यक्रम के दौरान बच्चों को नाश्ता भी दिया गया, साथ ही कैम्प में मौजूद सभी बच्चों को पार्टीसिपेशन सर्टिफिकेट एवं दीवाली के उपहार भी दिए गए।

इस अवसर पर 9 विजेताओं को विशेष उपहार भी दिए जाएंगे। सीरीज़ के बारे में बात करते हुए डाॅ गुनीता ने कहा, ‘‘मैं अपने आस-पास मौजूद हर व्यक्ति तक खुशियां पहुंचाना चाहती हूं, खासतौर पर ज़रूरतमंद बच्चों में खुशियां बांटना चाहती हूं। लेकिन मुझे समझ नहीं आ रहा था कि मैं ऐसा किस तरह करूं। तभी मेरी दोस्त प्रियंका सिंह ने मुझे इसके लिए रास्ता दिखाया। वे वसंत विहार से ही है और वंचित समुदायों के बच्चों के लिए काम करती हैं। इस दीवाली हमने वास्तव में इन बच्चों के चेहरे पर मुस्कान लाने और उनमें खुशियां बिखेरने की यह छोटी सी पहल की है। 30 अक्टूबर को हमने विजेताओं को पुरस्कार एवं प्रमाणपत्र भी दिए। हर बच्चे के चेहरे पर मुस्कान देखकर मेरा दिन बन गया। मैं बेहद संतुष्ट और खुश महसूस कर रही हूं।

Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

उप प्रधानाचार्य प्रशासनिक अनियमितताएं और भ्र्ष्टाचार में लिप्त, मुख्य अधिकारी नहीं ले रहे संज्ञान