होम्योपैथिक डॉक्टर्स पैरामेडिक्स नहीं, पुरण डाक्टर होते हैं : डॉ ए के गुप्ता

◆ होम्योपैथिक डॉक्टरों को पैरामेडिक्स की श्रेणी में आवेदन मांगने पर डॉक्टरों में गहन गुस्सा

शब्दवाणी समाचार, शुक्रवार 5 अगस्त 2022, नई दिल्ली। नेशनल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड द्वारा  द्वारा चिकित्सकों की भर्ती के विज्ञापन में होम्योपैथिक के चिकित्सकों को पैरामेडिक कहे जाने पर और केवल एमबीबीएस डॉक्टरों को ही डॉक्टर माने पर और होम्योपैथिक डॉक्टरों में बहुत रोष है इस बात को लेकर होम्योपैथिक मेडिकल एसोसिएशन ऑफ इंडिया दिल्ली प्रदेश के अध्यक्ष डॉ ए के गुप्ता ने इस बात को बहुत गंभीरता से लिया और कहां की यह बहुत ही शर्मनाक है की आयुष के डॉक्टरों को जबकि सरकार में बराबर का दर्जा दिया है तो ऐसे भेदभाव अच्छा नहीं है और इस बात से डॉक्टरों में बहुत रोष है डॉ गुप्ता ने यह भी कहा कि नेशनल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड को तुरंत यह विज्ञापन वापिस लेकर नए रूप में छापना चाहिए जिसमें होम्योपैथिक के डॉक्टरों को डॉक्टर के रूप में ही आवेदन मांगा जाए ना कि पैरामेडिक्स की कैटेगरी में डॉ गुप्ता ने यह भी कहा कि यदि ऐसा नहीं हुआ तो हमें मजबूरन  कानून की सहायता लेनी पड़ेगी और जिसका खामियाजा नेशनल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड को भुगतना पड़ेगा।

Comments

Popular posts from this blog

सरकारी योजनाओं से संबंधित डाटा ढूंढना होगा अब आसान

शब्दवाणी समाचार पाठक संघ के सदस्यों का भव्य स्वागत हुआ और अब सबको मिलेगी एक समान शिक्षा का लांच

उप श्रम आयुक्त द्वारा लिखित में मांगों पर सहमति दिए जाने के बाद ट्रेड यूनियनों ने समाप्त किया धरन : गंगेश्वर दत्त शर्मा