टीबी को 2025 तक जड़ से खत्म करने के लिए सरकार बचनबद्ध : डॉ सुदर्शन मंडल

◆ Fuji film ने बनाया सबसे छोटा मोबाइल एक्सरे डिवाइस

शब्दवाणी समाचार, सोमवार 30 अगस्त 2021, नई दिल्ली। भारत मे टीबी एक भयंकर बीमारी के रूप में अपना पावँ पसार  रही है, टीबी  का कई अन्य रूपों में भी  विस्तार होता रहा है।भारत सरकार  टीबी को  खत्म करने को लेकर कई तरह से योजनायें चला रही है। जिसे राज्य,जिला,पंचायत और ब्लॉक स्तर पर भी बड़े रूप में काम किया जा रहा है। टीबी को जड़ से मिटाने के लिए बड़ी कंपनियां के सीएसआर फण्ड से भी कई योजनाएं चलाते हुए लोगों को जागरूक भी किया जाता है।

फूजी फ़िल्म पिछले कई वर्षो से एक्सरे फ़िल्म ओर  डिवाइसों को आधुनिक तकनीकियों से  विकसित कर लोगों तक पहुचाने के लिए अग्रसर है। फूजी फ़िल्म  इंडिया के सीईओ कोजी वादा ने बताया कि "टीबी हारेगा भारत जीतेगा," आज हम टीबी को लेकर ज्यादा सतर्क हैं, उन्होंने बताया कि बड़े पैमाने पर टीबी भारत मे अपने पाँव फैला रही है, टीबी जैसी बीमारी पर हमको जल्द से जल्द काबू पाना होगा उसके  लिए हर स्तर पर  हमारी फूजी फ़िल्म बहुत काम कर रही  हैं।फूजी फ़िल्म इस पर कई वर्षों से विभिन स्तर की एक्सरे मशीने ,फिल्मे, ओर अन्य डिवाइस बना रहा है, आज हमने एक नई मोबाइल एक्सरे डिवाइस बनाई है जो बहुत छोटी डिवाइस है, सामुदायिक समहू गावो,कस्बो,ओर मजदूर वर्गों के ईलाज में बहुत ही सहायक होगी, उन्होंने बताया कि डिवाइस मोबाइल वेन उन जगहों पर जाकर मजदूरों के केम्पों उनका एक्सरे करेगी और तुरंत ही उनको रिपोर्ट भी मिल जाएगी,कोजी वादा ने बताया कि सरकारों, कंपनियों ओर हस्पतालों के साथ पब्लिक पार्टनर शिप के तहत भी हम काम कर रहें है । हमारा मकसद है कि रिपोर्ट जल्दी आये और जल्द इलाज मिले, टीबी हारेगा भारत जीतेगा।

डॉ सुदर्शन मंडल उप निदेशक स्वास्थ्य मंत्रालय भारत सरकार, ने विशेष रूप से  उपस्थित होकर सरकार के विजन पर प्रकाश डालते हुए बताया कि कोरोना के समय भी टीबी में इजाफा हुआ है, हम राज्य,जिला, पंचायत ओर ब्लॉक स्तर पर भी टीबी को जड़ से मिटाने के लिए कार्य कर रहे है, फूजी फ़िल्म ने जिस छोटे से मोबाइल एक्सरे  डिवाइस का निर्माण किया है इससे लाखो गरीब टीबी के पीड़ितों  को फायदा होगा जो समय पर इस बीमारी को पहचान नही पाते, ज्यादातर सामुदायिक  स्तर में रहने वाले नागरिकों को इससे काफी फायदा होगा। उन्होंने बताया कि सरकार का विजन है कि सन 2025 तक टीबी मुक्त भारत बनानें के लिए हर स्तर पर कार्य किया जाना जरूरी हो गया है।

श्रीमती संगीता पटेल निदेशक हेल्थ USAID/इंडिया ने बताया कि हमे आज विभिन्न तरह से लड़ाई लड़नी पड़ रही है ,टीबी को मिटाने के लिए हमको ऐसी डिवाइस की भी अति आवश्यकता होगी जिससे जल्द बीमारी का पता चले ओर इलाज समय पर मिल सके। इस मौके पर चन्दर शेखर सिब्बल सीनियर वाइस प्रेसिडेंट फूजी फ़िल्म, डॉ ज्योति जाजू, व कई हॉस्पिटल,कंपनियों के अधिकारी भी मौजूद रहे।

Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

मीडिया प्रेस क्लब का वार्षिक कलैंडर हुआ विमोचन