आर्य समाज ए टी एस इंदिरापुरम का वार्षिकोत्सव सम्पन्न

बढ़ता पाखण्ड अंधविश्वास सभ्य समाज को चुनौती : राष्ट्रीय अध्यक्ष अनिल आर्य

◆ यज्ञीय भावना परोपकार का संदेश देती है : आचार्य महेन्द्र भाई

शब्दवाणी समाचार, सोमवार 22 नवम्बर  2021, गाजियाबाद। आर्य समाज ए टी एस इंदिरापुरम का वार्षिकोत्सव सोल्लास सम्पन्न हुआ।कार्यक्रम की अध्यक्षता समाजसेवी विनोद त्यागी ने की व कुशल संचालन प्रधान देवेन्द्र गुप्ता ने किया। मुख्य अतिथि अनिल आर्य ने कहा कि आज बढ़ता हुआ पाखण्ड और अंधविश्वास सभ्य समाज के लिए चुनौती है।शिक्षा तो बढ़ रही है पर फिर भी अंधविश्वास बढ़ रहा है इसके प्रति सतर्क व जागरूक होने की आवश्यकता है।देश में राष्ट्रविरोधी ताकते सिर उठा रही हैं आर्य जनों को राष्ट्रीय भावना का संदेश जन जन तक पहुचाना है और नई पीढ़ी को देश के प्रति समर्पण और राष्ट्र प्रेम का सन्देश पढ़ाना है ।

यज्ञ के ब्रह्मा आचार्य महेन्द्र भाई ने कहा कि यज्ञ जीवन मे आगे बढ़ने और परोपकार की भावना का प्रचारक है।यज्ञ बिना भेद भाव के शुद्ध वातावरण व सुगंध प्रदान करता है।व्यक्ति का जीवन ऐसा हो कि उसकी सुगंध से सभी आकर्षित हों।राष्ट्र की सुख समृद्धि के लिए आहुतियां चढ़ाई गई। आर्य भजनोपदेशक आचार्य अमृता आर्या,प्रवीन आर्या व नरेश आर्य आदि ने साथी कलाकारों ने मधुर भजनों से समा बांध दिया। उत्तर प्रदेश के प्रान्तीय महामंत्री प्रवीण आर्य ने कहा वेद प्रचार के सत्संग के कार्यक्रम भिन्न भिन्न स्थानों पर आयोजित किए जाएंगे व कोरोना व डेंगू से बचाव किया जायेगा।

विशिष्ट अतिथि डॉ आर के आर्य ने कहा कि वैदिक संस्कृति सर्वश्रेष्ठ है आओ वेदों की और लौटें। योग शिक्षक सौरभ गुप्ता के सानिध्य में आर्य युवकों द्वारा योगासनों का सुंदर प्रदर्शन किया गया जिसे दर्शकों खूब सराहा। इस अवसर पर वैदिक विदुषी डा कल्पना रस्तोगी,डा सविता आर्य प्राचार्या मैत्रेय कन्या गुरुकुल,हरिद्वार ने मनुष्य बनने पर बल दिया और कहा वेद का सूर्य सदा से था,है और रहेगा इसलिए हमारा देश विश्वगुरु रहा है।प्रमुख रूप से यज्ञवीर चौहान, ममता चौहान,अभिषेक गुप्ता, सुरेश आर्य,सुरेश आर्य,विजय छाबड़ा,योगेश गुप्ता,विजय भारती,प्रदीप त्यागी,वेद प्रकाश आदि उपस्थित थे।

Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

उप प्रधानाचार्य प्रशासनिक अनियमितताएं और भ्र्ष्टाचार में लिप्त, मुख्य अधिकारी नहीं ले रहे संज्ञान