शालीमार पेंट्स अपना मार्केटिंग कैम्पेन मे हर रंग खूबसूरत शुरू करेगा

शब्दवाणी समाचार वीरवार 25 जुलाई 2019 नई दिल्ली। पूरे भारत में एकता और सद्भाव का जश्न मनाने के अपने दृष्टिकोण को रेखांकित करते हुए प्रतिष्ठित पेंट निर्माता शालीमार पेंट्स ने अपना नवीनतम अभियान, 'हर रंग खोबसूरत' (एचआरके) लॉन्च किया है। कुछ चुनिंदा शहरों में यह कैम्पेन चलाया जाएगा। शालीमार पेंट्ल की ओर से एचआरके एक अनूठी पहल होगी, जिससे समावेशी और समानता का संदेश दिया जाएगा। यह पूरे भारत में रेडियो, आउटडोर और डिजिटल माध्यमों पर 360-डिग्री मार्केटिंग कैम्पेन के तौर पर चलाया जाएगा।



पारंपरिक मार्केटिंग से दूर हटते हुए शालीमार पेंट्स विभाजनकारी, राय से प्रेरित और निर्णयवादी मानसिकता को बदलने के लिए एक बोल्ड अप्रौच अपनाले  रहा है। इस कैम्पेन के माध्यम से पेंट निर्माता भारतीयों में गहराई से बैठे पूर्वाग्रहों पर सवाल उठाने की कोशिश कर रहा है जो आम तौर पर पुरातन मान्यताओं से प्रेरित हैं, और युगों से भारत का हिस्सा रहे हैं। शालीमार पेंट्स का उद्देश्य इन सामयिक मुद्दों के बारे में जागरूकता बढ़ाना और जीवन के प्रति एक रंगीन दृष्टिकोण को बढ़ावा देते हुए जनता के बीच सकारात्मक बदलाव को बढ़ावा देना है।
इस कैम्पेन के हिस्से के रूप में शालीमार पेंट्स विविध रंगों के आनंद को साझा करने के लिए एक फोटोग्राफी प्रतियोगिता का आयोजन करेगा। सभी प्रतिभागियों के लिए जीवन के रंगों में गहराई तलाशने और उनमें से सर्वश्रेष्ठ को कैमरे के लेंस के माध्यम से बाहर लाना आवश्यक होगा। जीवन की विभिन्न भावनाओं को व्यक्त करने वाली सर्वश्रेष्ठ तस्वीर क्लिक करने वाले को रोमांचक पुरस्कार मिलेगा। कैम्पेन में व्यक्तिगत विविधता, ट्रांस-समुदाय को सशक्त बनाने, देशभर में समानता को बढ़ावा देने, जैसे अन्य मुद्दों के अलावा अन्य दिलचस्प जमीनी गतिविधियों को भी शामिल किया जाएगा।
इस नए कैम्पेन पर टिप्पणी करते हुए, शालीमार पेंट्स की स्ट्रेटेजी, ग्रोथ और मार्केटिंग विभाग में वाइस प्रेसिडेंट सुश्री मीनल श्रीवास्तव ने कहा, “सदियों से हमारे देश में ज्यादातर लोगों ने सामयिक मुद्दों को सुनने से सीधे इनकार किया है या उनकी अनदेखी की है या उन्हें एक कलंक के तौर पर देखा है। भले ही इसका प्रभाव कम हो, एचआरके के साथ हम इस चुनौती को दूर करने और बदलाव लाने की कोशिश कर रहे हैं। हम दृढ़ इच्छाशक्ति के माध्यम से चुप्पी तोड़ने और लोगों को समान रूप से व्यवहार कर धर्म, जाति, लिंग, और पेशे के संदर्भ में हर रंग को प्यार करने के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं। हम इस तरह के इनोवेटिव कैम्पेन शुरू करने को लेकर  उत्साहित हैं और हमारे आसपास की जिंदगियों में अर्थ जोड़ने की उम्मीद करते हैं। ”
भारत में 1.25 करोड़ लोग हैं, जो विभिन्न वर्गों, नस्लों, परिवारों और पृष्ठभूमि से हैं। अपने नए कैम्पेन के माध्यम से शालीमार पेंट्स का उद्देश्य एक सामान्य मंच को बढ़ावा देना है जो न केवल इस विशाल विविधता का प्रतिनिधित्व करता है बल्कि लोगों को रंगों की एक जीवंत श्रृंखला के माध्यम से इसे सेलिब्रेट करने की अनुमति देता है।



Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

बिल्कुल देसी वीडियो कंटेंट प्लेटफार्म ट्रेलर ने 20 मिलियन नए यूज़र दर्ज किए

जिला हमीरपुर के मौदहा में प्रधानमंत्री आवास योजना में चली गांधी की आंधी