भारतीय रेल ने कश्‍मीर घाटी में रेल सेवाएं बहाल कीं,कुल 16 रेलगाडि़यां चालई जा रही हैं

शब्दवाणी समाचार बुधवार 27 नवंबर 2019 नई दिल्ली। सर्दी के मौसम में कश्‍मीर घाटी में बर्फबारी के कारण वाहनों की आवाजाही अक्‍सर थम जाती है। इस स्थिति में कश्‍मीर घाटी में ट्रेन परिचालन को परिवहन का श्रेष्‍ठ माध्‍यम समझा जाता है। बारामूला से बनिहाल तक (138 किलोमीटर) क्षेत्र के बीच स्‍थानीय यात्री रेलगाड़ी से सफर करते हैं। इनके लाभ के लिए भारतीय रेल ने ट्रेन सेवाओं की बहाली की है। सरकार तथा रेल पुलिस द्वारा सुरक्षा का जायजा लेने और उनके आश्‍वासनों के बाद कश्‍मीर घाटी में रेल सेवाएं फिर से शुरू करने का निर्णय लिया गया।



हाल में 7 नवम्‍बर, 2019 को भारी बर्फबारी के कारण रेल पटरियों पर 20 से 45 सेंटीमीटर बर्फ जम गई थी। बर्फ हटाने वाली मशीनें रेल पटरियों पर लगाई गईं। रेल पटरियों पर सुरक्षित परिचालन की अनुमति से पहले श्रीनगर-बारामूला तथा श्रीनगर-बनिहाल सेक्‍शन को ठीक किया गया। 10 नम्‍बर, 2019 को श्रीनगर-बारामूला सेक्‍शन के बीच निरीक्षण तथा ट्रायल का काम किया गया। यही कार्य 16 नवम्‍बर, 2019 को श्रीनगर-बनिहाल सेक्‍शन पर किया गया। 12 नवम्‍बर, 2019 से सवेरे 10 बजे से अपह्न 3 बजे तक 45 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से श्रीनगर-बारामूला के बीच रेलगाडियों की दो जोडि़यां चलाई गईं। इसी तरह 17 नवम्‍बर को श्रीनगर-बनिहाल सेक्‍शन पर 45 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से रेल सेवाएं प्रारंभ की गईं। अब सेवाओं के समय में वृद्धि कर दी गई है और सवेरे 8 बजे से शाम 5 बजे तक रेल परिचालन हो रहा है। सेक्‍शन की 100 किलोमीटर प्रति घंटे की सामान्‍य गति भी बहाल कर दी गई है। अभी कुल 16 रेलगाडि़यां चल रही हैं। पहली रेलगाड़ी सवेरे 8 बजकर 5 मिनट पर चलती है और सभी ट्रेन सेवाएं शाम 5 बजे समाप्‍त हो जाती हैं।     



Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

बिल्कुल देसी वीडियो कंटेंट प्लेटफार्म ट्रेलर ने 20 मिलियन नए यूज़र दर्ज किए