ये बजट कला और संस्कृति के लिए एक उदासीन रवैया वाला बजट है

शब्दवाणी समाचार शुक्रवार 21 फरवरी 2020 नई दिल्ली। ऊर्जा के साथ साथ बी डी कल्ला जी कला संस्कृति की तरफ भी ध्यान देते तो बजट में ऐसा नहीं होता.जैसे पर्यटन के लिए विश्वेंद्र सिंह जी ने 100 करोड़ का बजट अलग से पास करवाया है. बी डी कल्ला जी को भी अलग से बजट पास करवाने के प्रयास करने चाहिए थे। 




Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

मीडिया प्रेस क्लब का वार्षिक कलैंडर हुआ विमोचन