हमीरपुर मे शहर की लगभग तीन दर्जन से अधिक मस्जिदों में रहा सन्नाटा

शब्दवाणी समाचार, रविवार 26 अप्रैल (आशीष निगम), हमीरपुर। रमजान माह का चांद दिखते ही बीती रात कस्बे के लगभग 48 मस्जिदों मे हमेशा की तरह होने वाली तरावीह कोरोना लाकडाउन के चलते नहीं हो सकी। मस्जिदों मे ताले पडे रहे और अधिकतर मस्जिदों मे चार पाच लोग ही दिखे। जिन्होंने स्वम तरावीह पढी और अधिकांश लोगो ने अपने घरो पर ही रहकर तरावीह पढी। इस सम्बन्ध मे शहर पेश इमाम हाफिज करामत उल्ला व रहमानियां मस्जिद के पेश इमाम हाफिज मौलाना सना उल्ला तथा चौधराना जामा मस्जिद के पेश इमाम मौलाना अताउर रहमान ने कस्बा सहित आस पास के मुस्लिम समुदाय के लोगो को इस बात के लिये बधाई दी है किवह मुल्क के कानून का पालन करने के साथ ही स्थानीय प्रशासन के निदेशो का भी पालन करे वइस्लाम के बताये गये तरीकों पर घरो मे तरावीह पढकर जो कार्य किया है वह वास्तव मे सराहनीय है और इसी तरह सामूहिक रोजा आफतार न कर मस्जिदों मे भी रोजा इफतार नही किया जाये। बल्कि अपने घरो मे ही रोजा आफतार व इबादत करे। सोसल डिस्टेंस व मास्क का विशेष ध्यान रखे। इस सम्बन्ध मे उपजिलाधिकारी अजीत परेश ने रमजान के माह की मुबारक बाद देते हुये कहा कि रोजे की शहरी व इफतार के समय की सूचना रोजदारो को लाउडस्पीकर से दिये जाने पर कोई आपत्ति नही है। पूर्व की तरह सभी कार्य किये जाये। बस फर्क इतना है कि कोरोना महामारी को देखते हुये सोसल डिस्टेंस व लाकडाउन का पालन के लिये सामुहिक तरीके से कही भी एकत्र न हो।




Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

बिल्कुल देसी वीडियो कंटेंट प्लेटफार्म ट्रेलर ने 20 मिलियन नए यूज़र दर्ज किए

जिला हमीरपुर के मौदहा में प्रधानमंत्री आवास योजना में चली गांधी की आंधी