हमीरपुर में लॉकडाउन की उड रही हैं धज्जियां,पानी की कोई व्यवस्था नहीं


शब्दवाणी समाचार, वीरवार 28 मई  2020, (आशीष निगम), हमीरपुर। इस समय देश वैश्विक महामारी कोविड 19 कोरोना से इस कदर प्रभावित है कि हमारा देश विश्व के कोरोना प्रभावित दस सर्वश्रेष्ठ देशों की सूची में आ गया है।हालांकि इस महामारी की अभी तक कोई कारगर दवा या टीका नही बना है यह भी सभी लोग जानते हैं।इस महामारी से बचने का सबसे बडा हथियार सामाजिक दूरी है।क्योकिं कहीं पर भी भीड एकत्र न हो इसके लिए देश में चौथे चरण का लाकडाउन चल रहा है सभी व्यापारियों को सशर्त अपने प्रतिष्ठान खोलने की अनुमति दी गई है और जो व्यापारी नियमो का उल्लंघन करता है उसके विरुद्ध मुकदमा दर्ज किया जा रहा है।लेकिन कस्बे के इलाहाबाद बैंक में कोरोना या लाकडाउन का कोई प्रभाव देखने को नहीं मिलता है।कस्बे के इलाहाबाद बैंक मे भीड इस कदर हावी है कि ड्यूटी पर लगाए गए दो,तीन सुरक्षा कर्मी असहाए नजर आ रहे हैं।हालांकि अपने ग्राहकों को धूप से बचाने के लिए बैंक द्वारा बैंक के बाहर टैंट लगाया गया है लेकिन वह टैंट मात्र बैंक कर्मचारियों और प्रभावी लोगों की गाडियों को छांह देने के काम आरहा है।बैंक अधिकारियों की नजर में ग्राहकों से ज्यादा महत्व गाडियों को दिया जा रहा है।हालांकि सरकार आम नागरिकों को हर सुविधा देने का प्रयास कर रही है।लेकिन समझ यह नही आ रहा है कि सरकारी सुविधाएं मिल किन्हे रही हैं।क्योकि जनता तो धूप में सूख रही है।इतना ही नहीं बैंक में ग्राहकों के पीने के लिए पानी की भी कोई व्यवस्था नहीं है।कहने के लिए तो नगर पालिका परिषद द्वारा लगाया गया फ्रीजर टंकी सहित बैंक के बाहर लगा हुआ है।लेकिन पानी नही देता है।अऔर अभी तक नगर पालिका परिषद द्वारा मरम्मत कार्य भी नहीं कराया गया है।सोचने वाली बात यह है कि जब 45℃ तापमान में भी नगर के बैंको मे पानी नहीं है तो आगे क्या होगा।




Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

उप प्रधानाचार्य प्रशासनिक अनियमितताएं और भ्र्ष्टाचार में लिप्त, मुख्य अधिकारी नहीं ले रहे संज्ञान