भूल कर देना मुझे झाँसा नहीं



शब्दवाणी समाचार, शुक्रवार 17 जुलाई 2020, (रचनाकार : बलजीत सिंह बेनाम) नई दिल्ली।


               ग़ज़ल
भूल कर देना मुझे झाँसा नहीं
गोलियां कच्ची मैं भी खेला नहीं


झूठ से परहेज़ जितना भी करो
काम इसके बिन मगर चलता नहीं


दिल से उतरा है अभी तक जो मिला
दिल में कोई आज तक उतरा नहीं


तेरे ख़्वाबों में गुज़ारूँ ज़िंदगी
इस क़दर भी मैं तो दीवाना नहीं


हक़ नहीं मिलता किसी को भीख़ में
ये हक़ीक़त ही है अफ़साना नहीं



Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

बिल्कुल देसी वीडियो कंटेंट प्लेटफार्म ट्रेलर ने 20 मिलियन नए यूज़र दर्ज किए