देख कर मज़बूरी जिनकी हम दया कर जाते है


शब्दवाणी समाचार, शनिवार 25 जुलाई 2020, कवि सुखवीर चौधरी, मथुरा (उत्तर प्रदेश)।



देख कर मज़बूरी जिनकी हम दया कर जाते है , 
वो हमें बेबस बना क्यों ग़ैर के घर जाते है ।


उन के बच्चे इस जहाँ में कुछ नहीं कर पाएंगे ,
बाप दादा ख़ूब जिन के दौलतें धर जाते है ।


पाप की काली कमाई वो सभी खाते रहे ,
बाप के कर्मों के फ़ल बच्चों के सर पर जाते है ।


सामने दुनिया के अब हम सच नहीं कह पाएंगे ,
क्योंकि सच का देख कर अंजाम हम डर जाते है ।


हैं सभी मुर्दा यहाँ जिंदा कोई दिखता नही ,
आत्मा होते हुए भी जीते जी मर जाते है ।




Comments

Popular posts from this blog

सचखंड नानक धाम ने किसान समर्थन के लिए सिंघू बॉर्डर पर अनशन पर बैठे

अक्षय तृतीया पर रिलायंस ज्वेल्स अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि की कामना करता

मीडिया प्रेस क्लब का वार्षिक कलैंडर हुआ विमोचन